scorecardresearch

UP Election: प्रशासन की ऐसी की तैसी… 16 बार जेल जा चुका हूं, हसनपुर से सपा कैंडिडेट मुखिया गुर्जर का वीडियो वायरल

मुखिया गुर्जर करीब 14 साल बाद सपा में शामिल हुए। इससे पहले वे भाजपा में थे। वे दो बार बागपत से लोकसभा का चुनाव लड़ चुके हैं।

मुलायम सिंह यादव के साथ हसनपुर से सपा प्रत्याशी मुखिया गुर्जर (फोटो: फेसबुक/ ,मुखिया गुर्जर)

उत्तरप्रदेश के अमरोहा के हसनपुर से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी मुखिया गुर्जर का एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है जिसमें वो प्रशासन को धमकी देते हुए नजर आ रहे हैं। अपने वीडियो में वे ये साफ़ कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि प्रशासन की ऐसी की तैसी, 16 बार जेल काट रखी है ये हम पर मुकदमा दर्ज करेंगे? 

समाचार एजेंसी एएनआई ने सपा प्रत्याशी मुखिया गुर्जर का वायरल वीडियो भी जारी किया है। इस वीडियो में वे हसनपुर के मौजूदा विधायक को लेकर कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि मैंने वर्कशॉप खोलकर रखी है और ऐसे लोगों की डेंट-पेंट अच्छे से कर लेता हूं। क्योंकि मैं मुलायम सिंह यादव का कट्टर शिष्य हूं। मैंने भाजपा में रहते हुए भी अपने गुरु मुलायम सिंह की तस्वीर एक दिन भी नहीं उतारी।

आगे वे वीडियो में चुनौती देते हुए कहते हैं कि इनकी ऐसी की तैसी। एक कार्यक्रम था इनका, उसकी फोटो खींचकर मुझे बता रहे हैं कि ये कट्टर हिंदू है। यहां हिंदू मुस्लिम सब भाई- भाई हैं। जो विधायक है इसने जितना भ्रष्टाचार किया है, इससे सारा हिसाब चुकता करके, इससे सारा माल लूट के तुम्हारे घरों में पहुंचा दूंगा। मुझे इस बात के लिए जाना जाता है। ये जो प्रशासन-शासन मुकदमे की बात करें, इनकी ऐसी की तैसी, 16 बार जेल काट रखी है मैंने।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रशासन और हसनपुर के मौजूदा विधायक पर अभद्र टिप्पणी करने के मामले में पुलिस ने मुखिया गुर्जर और उनके 90 -100 समर्थकों पर मुकदमा किया है। पुलिस ने बताया कि सपा प्रत्याशी मुखिया गुर्जर, जाकिर प्रधान और शाहनवाज अंसारी को नामजद करते हुए 90-100 अज्ञात समर्थकों के खिलाफ आदर्श आचार संहिता एवं महामारी अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई की गई है।

बता दें कि मुखिया गुर्जर करीब 14 साल बाद सपा में शामिल हुए। इससे पहले वे भाजपा में थे। वे सपा के टिकट से दो बार का विधानसभा का चुनाव लड़ चुके हैं। वे पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा का टिकट चाह रहे थे लेकिन भाजपा ने उन्हें टिकट नहीं दिया। इतना ही नहीं भाजपा ने उन्हें इस बार के विधानसभा चुनाव में भी टिकट नहीं दिया। जिसके बाद वो समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। सपा में शामिल होने के बाद पार्टी ने मुखिया गुर्जर को अमरोहा के हसनपुर से प्रत्याशी घोषित किया।    

पढें Elections 2022 (Elections News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट