ताज़ा खबर
 

पंकज सिंह का हलफनामा- राजनाथ सिंह के बेटे के नाम एक रुपए की भी अचल संपत्ति नहीं, बस एक डीवीवी गन

पंकज नोएडा सीट पर सबसे गरीब उम्मीदवार हैं

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के सुपुत्र और प्रदेश भाजपा के महासचिव पंकज

गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह ने गौतमबुद्धनगर जिले की बीजेपी की नोएडा सीट से अपना नांमाकन कर दिया है। उनके नाम पर 47 लाख रुपए से ज्यादा की संपत्ति है। लेकिन पंकज के नाम पर कोई घर या जमीन नहीं है। पंकज ने नोएडा सीट से नामांकन दाखिल करते वक्त अपनी संपत्ति के ब्योरा दिया इसमें उन्होंने अपने नाम पर 47 लाख नौ हजार 226 रुपए की संपत्ति बताई। वहीं पंकज की पत्नी सुषमा सिंह के नाम पर 1,07,87,251 रुपए की चल संपत्ति और 1.45 करोड़ रुपए की अचल संपत्ति है। इसमें उनके नाम पर इंदिरापुरम में एक घर भी शामिल है।

पंकज के पास 35,400 रुपए नकद और 4,98,144 उनके आईसीआईसीआई बैंक के खाते में जमा हैं। वहीं 13,31,925 रुपए उनके पीपीएफ में निवेश कर रखे हैं। साथ ही उन्होंने दो बीमा पॉलिसी भी ले रखी हैं। एक एलआईसी की पॉलिसी है जिसका प्रीमियम 5.,19, 922 रुपए और एक आईसीआईसीआई की पॉलिसी है जिसका प्रीमियम 10 लाख रुपए है। पंकज के नाम पास 450 ग्राम सोना जिसकी कीमत 12,60,000 रुपए और 300 ग्राम चांदी है जिसकी कीमत 13,200 रुपए है। हलफनामे के मुताबिक पंकज ने किसी भी बैंक से कोई लॉन नहीं ले रखा है। वैसे उनके नाम पर एक डीवीवी गन है। अगर पढाई की बात करें तो पंकज एमए पास हैं।

पंकज की पत्नी सुषमा सिंह के पास देहरादून में जमीन है। उनके पास 40,350 रुपए नकद हैं। उन्होंने इंदिरापुरम में 54,18,718 रुपए में घर खरीदा था। पंकज के खिलाफ कोई भी किसी भी तरह का केस नहीं है। पंकज ने 1994 में दसवीं पास की थी। 1996 में यूपीएसईबी से 12वीं पास की। पंकज ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के दयाल कॉलेज से बी कॉम की है। 2001 में अमेटी यूनिवर्सिटी से पंकज ने पोस्टग्रेजुएट डिप्लोमा किया। पंकज और सुषमा के एक बेटी और एक बेटा है। बेटी दीया 10 साल की है और बेटा आर्य वीर अभी 5 साल का है।

अज्ञात स्त्रोतों से मिले चंदे को राजनीतिक पार्टियों ने छिपाया; कांग्रेस को 83 प्रतिशत तो बीजेपी को 65 प्रतिशत चंदा अज्ञात स्त्रोतों से मिला

पंजाब: रैली के दौरान राजनाथ सिंह बोले- “वोट नहीं देना तो मत दीजिए, लेकिन जूता मत फेंकिए” देखें वीडियो 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App