scorecardresearch

यूपी चुनावः कैराना क्यों बना राजनीति का केंद्र? योगी बोले- अखिलेश इसे कश्मीर बनाना चाहते थे

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि पहले माफिया और दंगाइयों को संरक्षण मिलता था लेकिन अब वे सभी कानून के शिंकजे में हैं। इसके लिए इरादा सही होना जरूरी है और यह केवल बीजेपी के पास है।

शनिवार को कैराना में घर घर जाकर प्रचार अभियान करते केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (फोटो: पीटीआई)

उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में कैराना एक बार फिर से राजनीति का केंद्र बन गया है। शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने वहां घर घर जाकर प्रचार किया तो। वहीं योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि वे इसे कश्मीर बनाना चाहते थे।

शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पेशेवार दंगाई, अपराधी और हिस्ट्रीशीटर समाजवादी पार्टी की सोच के अनुरूप उनकी पार्टी की चुनाव सूची की शोभा बढ़ा रहे हैं। सपा के उम्मीदवारों की सूची विघटनकारी और दंगाई और अराजकता की उस सोच को प्रदर्शित करने वाली है जिसमें विकास नहीं बल्कि विनाश है।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि वे लोग कैराना के जरिए वहां कश्मीर बनाना चाह रहे थे लेकिन ऐसे तत्वों से हमने कहा है कि कश्मीर अब स्वर्ग बन रहा है और पश्चिमी उत्तर प्रदेश विकास की नई ऊंचाइयों को छू रहा है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि पहले माफिया और दंगाइयों को संरक्षण मिलता था लेकिन अब वे सभी कानून के शिंकजे में हैं। इसके लिए इरादा सही होना जरूरी है और यह केवल बीजेपी के पास है।

वहीं शनिवार को कैराना पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह ने पलायन कर वापस लौटे लोगों से उनके घर जाकर मुलाक़ात की। अमित शाह ने इस दौरान कहा कि उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती सपा सरकार के गुंडाराज और तुष्टिकरण से कैराना में अपना घर छोड़कर पलायन को मजबूर हुए लोगों ने भाजपा की सरकार आने के बाद अपने घरों में वापसी की। आज पलायन करवाने वालों का पलायन देख और अपने घर में वापस आए लोगों की प्रसन्नता देखते ही बनती है। साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य में विकास की नई लहर चल रही है और गरीबों को सरकारी योजना का लाभ मिल रहा है।

बता दें कि साल 2016 में कैराना से तत्कालीन सांसद हुकुम सिंह ने वहां से कुछ हिंदुओं के पलायन का आरोप लगाया था। उन्होंने 346 हिंदू परिवारों की लिस्ट भी जारी की थी। उनका कहना था कि मुस्लिम दबंगों के चलते हिंदू परिवार कैराना से पलायन कर रहे हैं। बाद में भाजपा ने इस मुद्दे को जोर शोर से उठाया और तत्कालीन समाजवादी सरकार पर हमला किया। पिछले विधानसभा चुनाव में पश्चिमी उत्तरप्रदेश में यह मुद्दा काफी हावी था।

पढें Elections 2022 (Elections News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट