ताज़ा खबर
 

यूपी विधानसभा चुनाव: जिन सीटों पर है कांग्रेस का कब्जा, वहां से भी अखिलेश ने घोषित किए उम्मीदवार, गठबंधन पर उठने लगे सवाल

समाजवादी पार्टी का कहना है कि गठबंधन को लेकर वह कांग्रेस की ओर से सकारात्मक जवाब का इंतजार कर रही है।
Author January 20, 2017 16:55 pm
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव।

यूपी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और समाजवादी पार्टी में होने वाले गठबंधन की घोषणा किए बिना ही सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को अपने 191 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है। यह लिस्ट पहले तीन चरणों के चुनाव के लिए जारी की गई है। गौर करने वाली बात यह कि इस लिस्ट में आठ ऐसी सीटों के लिए भी उम्मीदवारों के नाम घोषित किए गए हैं, जहां वर्तमान में कांग्रेस का कब्जा है। समाजवादी पार्टी का कहना है कि गठबंधन को लेकर वह कांग्रेस की ओर से सकारात्मक जवाब का इंतजार कर रही है।

समाजवादी पार्टी ने इस लिस्ट में मथुरा, बिलासपुर, किदवई नगर, खुर्जा, स्याना, हापुड़, स्वार और शामली सीटों के लिए भी उम्मीदवारों की घोषणा की है। अभी इन सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है। कांग्रेस नेता प्रदीप माथुर अभी मथुरा से विधायक है और समाजवादी पार्टी ने अशोक अग्रवाल को वहां से अपना उम्मीदवार बनाया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव संजय कपुर बिलासपुर से विधायक हैं और इस सीट से सपा ने बीना भारद्वाज को अपना उम्मीदवार बनाया है। शामली से पंकज मलिक, स्याना से दिलनवाज खान, खुर्जा से बंसीधर पहाड़िया, किदवई नगर से अजय कुमार, हापुड़ से गजराज सिंह और स्वार से नवाब काजिम अली कांग्रेस से विधायक हैं। समाजवादी पार्टी ने इन सीटों से भी अपने उम्मीदवार खड़े कर दिए हैं।

जहां शुक्रवार को कांग्रेस के साथ गठबंधन की घोषणा किए जाने की उम्मीद की जा रही थीं, वही समाजवादी पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी। सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरणमोय नंदा ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि समाजवादी पार्टी कांग्रेस के साथ गठबंधन करना चाहती है, लेकिन वह सपा के फॉर्मूले के मुताबिक होगा। नंदा ने बताया कि जिन सीटों पर साल 2012 में समाजवादी पार्टी एक नंबर या दूसरे नंबर पर रही, वहां समाजवादी पार्टी अपने उम्मीदवार खड़े करेगी। अगर कांग्रेस के साथ गठबंधन हो जाता है तो जिन सीटों पर अभी कांग्रेस का कब्जा है, वहां से पार्टी अपने उम्मीदवारों के नाम वापस ले लेगी।

नंदा ने कहा कि समाजवादी पार्टी कांग्रेस को 84-85 सीटें दे सकती है, इनमें 54 सीटें ऐसी शामिल हैं, जहां पर साल 2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस एक नंबर या दूसरे नंबर पर रही और समाजवादी पार्टी तीसरे या चौथे नंबर पर रही। साथ ही उन्होंने बताया कि अमेठी से समाजवादी पार्टी अपना उम्मीदवार खड़ा करेगी क्योंकि 2012 में सपा के गायत्री प्रसाद प्रजापती ने वहां से जीत हासिल की थी। रायबरेली और अमेठी में कांग्रेस अपने उम्मीदवार खड़े करना चाहती है।

साथ ही नंदा ने कहा कि लखनऊ कैंट से भी समाजवादी पार्टी अपना उम्मीदवार खड़ा करेगी, जहां कांग्रेस की रीता बहुगुणा जोशी ने साल 2012 में जीत दर्ज की थी। जोशी ने अब भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर ली है। बता दें, मुलायम सिंह यादव ने अपने छोटे बेटे प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा यादव को लखनऊ कैंट से उम्मीदवार घोषित किया था। समाजवादी पार्टी सोमवार को अपना घोषणा पत्र जारी करेगी।

अखिलेश के चाचा शिवपाल सिंह यादव भी समाजवादी पार्टी की लिस्ट में शामिल हैं, वे जसवंत नगर से चुनाव लड़ेंगे। अखिलेश ने राज्यसभा सांसद बेनी प्रसाद वर्मा के बेटे राकेश को टिकट देने से मना कर दिया, जिसे मुलायम सिंह यादव ने बाराबंकी के रामनगर से टिकट दी थी। मुलायम सिंह ने अखिलेश के नजदीकी और मौजूदा विधायक अरविंद सिंह को टिकट देने से इनकार करते हुए राकेश को अपना उम्मीदवार बनाया था। शुक्रवार को अखिलेश ने राकेश को रामनगर से उम्मीदवार बनाया है।

अखिलेश यादव ने अतीक अहमद को भी टिकट देने से इनकार कर दिया, जिसे मुलायम सिंह यादव ने कानपुर कैंट से उम्मीदवार घोषित किया था। अखिलेश ने वहां से मोहम्मद हसन रूमी को उम्मीदवार बनाया है। आजम खान को रामपुर और उनके बेटे अब्दुल्लाह आजम को स्वार से उम्मीदवार बनाया गया है। कांग्रेस के नवाब काजिम अली खान स्वार से विधायक हैं।

वीडियो- यूपी चुनाव: सपा ने जारी की 191 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, कांग्रेस के साथ गठबंधन पर बना सस्पेंस

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.