scorecardresearch

UP Election: ‘छुट्टा जानवर’ में पिछली सरकारें कहां से आ गईं?- पत्रकार ने पूछा, BJP प्रवक्ता बोले- ये तो गोहत्या कराते थे; मुस्कुराने लगे SP नेता

UP Election: एक डिबेट के दौरान बीजेपी नेता मोहसिन राजा ने कहा कि छुट्टा जानवर अब क्यों निकल आएं? पहले की सरकारों में इन्हें कत्लखाने भेज दिया जाता था।

UP election 2022, tv debate, swami Prasad Maurya, bjp leader, mohsin, raza
योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा (Image source: ANI)

उत्तर प्रदेश में 7 मार्च को सातवें चरण के लिए वोट डाले जाएंगे। सातवें चरण में 9 जिलों की 54 सीटों पर वोटिंग होगी, इन जिलों में बनारस जिला भी शामिल है। प्रधानमंत्री मोदी पिछले 2 दिनों से बनारस में है और शुक्रवार को पीएम मोदी ने बनारस में रोड शो किया, जिसमें भारी भीड़ उपस्थित रही। प्रधानमंत्री के वाराणसी में रोड शो और प्रचार करने से बीजेपी को उम्मीद है कि अगल-बगल के जिलों में भी इसका असर होगा और बीजेपी को मजबूती मिलेगी।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी शुक्रवार को बनारस में रोड शो किया, जिसमें भारी भीड़ मौजूद रही। दोनों नेताओं के रोडशो को लेकर एक समाचार चैनल पर बहस चल रही थी जिसमें बीजेपी के नेता मोहसिन रजा मौजूद थे और समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्या भी मौजूद थे। बीजेपी नेता मोहसिन रजा ने कहा कि, “सपा के नेताओं के जो दृश्य आ रहे हैं, उसी कारण जनता ने इनको 2017 में बाहर किया था। कहीं सपा के गुंडे पुलिस को डंडे मार रहे हैं तो कहीं लोगों को परेशान कर रहे हैं।”

मोहसिन रजा ने आगे कहा कि, “योगी जी ने छुट्टा जानवर नहीं सपा के छुट्टा गुंडों को जेल में डालने का काम किया है। उत्तर प्रदेश की जनता प्रसन्न है और सुरक्षित महसूस कर रही है।” मोहसिन रजा के बयान पर एंकर ने कहा कि छुट्टा जानवर तो यूपी में एक समस्या है। प्रधानमंत्री मोदी ने भी इसका जिक्र किया और योगी जी भी इसका जिक्र कर रहे हैं। छुट्टा जानवर इस चुनाव में एक मुद्दा बना। इसके जवाब में बीजेपी नेता ने कहा कि जो भी मुद्दा रहा उसका समाधान करने का प्रयास मोदी जी-योगी जी ने किया। ये कोई एक दिन के मुद्दे नहीं थे, बल्कि पिछली सरकारों में भी ये मुद्दे थे।

बीजेपी नेता के जवाब में एंकर ने पूछा कि छुट्टा जानवरों का मुद्दा पिछली सरकारों में कब था? यह तो आपकी सरकार में मुद्दा बना। इसके जवाब में बीजेपी नेता ने कहा कि पिछली सरकारों ने छुट्टा जानवरों के लिए क्या प्रयास किया? छुट्टा जानवरों के लिए आश्रय बनाए जा रहे हैं। क्या पिछली सरकारों की जिम्मेदारी नहीं थी छुट्टा जानवरों के लिए? बीजेपी नेता के जवाब में एंकर ने कहा कि 2019 के चुनाव में भी छुट्टा जानवर मुद्दा नहीं था। इसके जवाब में बीजेपी नेता ने कहा कि, “तब यह (छुट्टा जानवर) कहां से निकल आएं? इसके पहले इनकी सरकार में इनको (छुट्टा जानवरों) कत्लखाने में भेज दिया जाता था। ये लोग गाय – भैंस की हत्या कराते थे। हम लोग तो गोहत्या नहीं कराते हैं, क्योंकि गाय हमारी आस्था का प्रतीक है।”

छुट्टा जानवरों के संबंध में बीजेपी नेता के जवाब पर स्वामी प्रसाद मौर्य मुस्कुरा रहे थे और उन्होंने कहा कि, “पूरे प्रदेश में छुट्टा जानवर 100-200 की संख्या में आते हैं और किसानों के खेत को चार लेते हैं। उसके बाद ये (बीजेपी सरकार) किसान सम्मान निधि के रूप में 6 हजार रुपए दे देते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि घर में आग लगाकर मड़ई खड़ी कर देना।”

पढें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (Upassemblyelections2022 News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट