scorecardresearch

UP Election: मैनपुरी की सुरक्षित सीट करहल से चुनाव लड़ने पर अखिलेश को होगा फायदा? ABP CVoter Survey में बजी खतरे की घंटी

पहले, चर्चाएं थीं कि अखिलेश यादव आजमगढ़ से चुनाव लड़ सकते हैं लेकिन करहल (Karhal Assembly Seat) से उनके लड़ने के ऐलान के बाद सपा नेता रघुपाल सिंह भदौरिया ने इस्तीफा दे दिया और भाजपा में शामिल हो गए।

akhilesh yadav
सपा प्रमुख अखिलेश यादव (इंडियन एक्सप्रेस/फाइल)

मैनपुरी की करहल सीट से लड़ने के साथ ही समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) पहली बार विधानसभा चुनाव में उतर रहे हैं। फिलहाल, अखिलेश यादव आजमगढ़ से सांसद हैं। मैनपुरी की जिस करहल सीट से अखिलेश चुनाव लड़ने वाले हैं वह समाजवादी पार्टी के लिए सुरक्षित सीट मानी जाती है। यहां पर सजातीय यादव मतदाताओं की संख्या काफी अधिक है। इस सीट से चुनाव लड़ने पर अखिलेश को कितना लाभ मिल सकता है या कितना नुकसान हो सकता है? इसको लेकर एक सर्वे में 42 फीसदी लोगों का मानना है कि अखिलेश को फायदा होगा।

ABP CVoter Survey के त्वरित सर्वे में 42 फीसदी लोगों का मानना है कि सुरक्षित सीट से चुनाव लड़ने पर अखिलेश को फायदा होगा। वहीं, 40 फीसदी ऐसे लोग हैं जिनको लगता है कि अखिलेश को नुकसान होगा। ऐसे में यहां कांटे का मुकाबला नजर आ रहा है। इस सर्वे में 18 फीसदी ऐसे लोग भी हैं जिन्होंने कहा, मालूम नहीं।

अखिलेश यादव के करहल (Karhal) से चुनाव लड़ने पर भाजपा ने सवाल भी उठाए हैं। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा कि अखिलेश को अगर यह लगता है कि करहल उनके लिए सुरक्षित सीट है तो यह उनकी गलतफहमी है, जो विधानसभा चुनाव में दूर हो जाएगी। कुछ इसी तरह के सवाल समाजवादी पार्टी ने सीएम योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर शहर से चुनाव लड़ने पर उठाए हैं। उनका कहना है कि सेफ सीट की बात है तो सीएम योगी गोरखपुर शहर से क्यों चुनाव लड़ रहे हैं।

करहल सीट पर जातीय समीकरण की बात करें तो यहां यादव मतदाताओं की आबादी 28 प्रतिशत है। वहीं, यहां अनुसूचित जाति की हिस्सेदारी 16 प्रतिशत है जबकि ठाकुर की 13 प्रतिशत है। करहल क्षेत्र में 12 फीसदी ब्राह्मण मतदाता हैं और 5 फीसदी मुस्लिम मतदाता हैं।

करहल विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) का सात बार कब्जा रहा है। 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की लहर के बावजूद सपा उम्मीदवार सोबरन यादव ने अपने नजदीकी प्रतिद्वंदी प्रेम शाक्य को 38 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था। करहल सीट पर आगामी 20 फरवरी को तीसरे चरण में मतदान होगा।

पढें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (Upassemblyelections2022 News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट