scorecardresearch

यूपी चुनावः सूरत के व्यापारी साड़ी बांटकर जगाएंगे मोदी-योगी के नाम की अलख, लोग बोले- ये वोट खरीदने का संघी तरीका

Surat sari traders: सोशल मीडिया पर एक यूजर ने कमेंट किया, “इनकी साड़ियां भी हजम की जाएंगी और इनको वोट भी न दिया जाएगा।” अमर भावले@AmarBhavle नाम के एक दूसरे यूजर ने पूछा, “यह आचारसंहिता का उल्लंघन नहीं है?”

Gujrat Traders, Up Election 2022
पीएम मोदी और सीएम योगी की तस्वीर लगी साड़ियों को वितरित करने के लिए तैयार व्यापारी महिलाएं। (Photo- Social Media)

UP Assembly Election 2022: राज्य विधानसभा चुनाव के लिए सभी दलों के समर्थक अपने-अपने तरीके से अपने नेताओं के पक्ष में प्रचार कार्य करने और रणनीति बनाने में जुटे हैं। इस बीच पीएम मोदी के गृह प्रदेश गुजरात के कई व्यापारी भी पार्टी की जीत के लिए उत्तर प्रदेश में सक्रिय हो गए हैं। सूरत के व्यापारियों ने ऐलान किया है कि वे यूपी के चुनाव प्रचार के लिए पीएम मोदी और सीएम योगी की तस्वीरों वाली साड़िया तैयार कर रहे हैं और उसे लोगों को मुफ्त में देकर पार्टी को वोट देने की अपील करेंगे। हालांकि सोशल मीडिया पर इसको लेकर लोगों ने तंज भी कसा है।

मुकेश @mukeshtiwariji नाम के एक यूजर ने कमेंट किया, “वोट ख़रीदने का संघी तरीक़ा।” अजीत सिंह पला@Ajeetsinghpala नाम के यूजर ने लिखा, “वैसे फोटो लगी साड़ी बांटना आचार संहिता का उल्लंघन है।” इसी यूजर ने आगे लिखा, “इनकी साड़ियां भी हजम की जाएंगी और इनको वोट भी न दिया जाएगा।” अमर भावले@AmarBhavle नाम के एक दूसरे यूजर ने पूछा, “यह आचारसंहिता का उल्लंघन नहीं है?”

इस बीच सभी राजनीतिक दलों ने रोचक हैशटैग, जोशीली धुन और त्वरित प्रतिक्रिया के साथ डिजिटल दुनिया में अपना प्रचार अभियान शुरू कर दिया है। विभिन्न पार्टियों में नारों को गढ़ने वाले और कलाकर लगातार काम कर रहे हैं ताकि पैने अंदाज में मतदाताओं को फेसबुक और यूट्यूब पर संदेश अथवा विरोधी दल को जवाब दिया जा सके। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उत्तर प्रदेश के लिए प्रचार गीत जारी किया है जो लोकप्रिय श्रीलंकाई गाना ‘मणिके मागे हिथे’ पर आधारित है जिसे योहानी डी सिल्वा ने गाया है।

भाजपा के प्रचार गाने के बोल हैं, ‘‘सबकी मन की यह भाषा, यहां दो-दो हैं आशा, यही मोदी, यही योगी, उपयोगी, सहयोगी।’’ इसके साथ ही गाने में राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार के कार्यों, ‘दंगा मुक्त’पांच साल, बिजली आपूर्ति में सुधार और अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को रेखांकित किया गया है। इस गाने को भाजपा और उसके नेताओं ने पिछले सप्ताह अपने-अपने सोशल मीडिया अकाउंट से साझा किया। ‘‘आयेगी फिर से बीजेपी’ शीर्षक से भी गाना जारी किया गया है जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री की तस्वीरों का इस्तेमाल किया गया है।

समाजवादी पार्टी के पास अपने प्रचार के लिए अलग गाने हैं जिनमें से एक अवधी बोली में गाना है, ‘‘खदेड़ा होइबे’’(बाहर निकाल देंगे) जो राज्य की सत्ता से भाजपा को बाहर करने की बात करता है। गोवा में तृणमूल कांग्रेस ने अपने प्रचार के लिए कोंकणी भाषा में गाना जारी किया है जिसके बोल हैं, ‘‘एइलो दो फुलांछो काल, गोयेछी नवी सकल’’ (दो फूल का युग यहां गोवा की नयी सुबह) और इसके जरिये वह मतदाताओं को जोड़ने का प्रयास कर रही है। गाने में दो फूल का संदर्भ तृणमूल कांग्रेस के चुनाव चिह्न से है।

पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पर निशाना साधा है जो पद ग्रहण करने के बाद से ‘चुनावी वादे’ कर रहे हैं। आप उन्हें कॉमिक स्ट्रिप में ‘‘ऐलान मंत्री’’ (घोषणा मंत्री) दिखा रही। पंजाब कांग्रेस ने भी अपना कॉमिक स्ट्रिप जारी कर पलटवार किया है और आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ‘‘विज्ञापन भाई’’ के तौर पर दिखाया है साथ ही व्यंग कसा है कि ‘‘खोखले नारे केजरीवाल का काम है चन्नी का नहीं।’’ इस बीच, पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह द्वारा बनाई गई नयी पार्टी ‘पंजाब लोक कांग्रेस’ को ‘हॉकी स्टिक और गेंद’ बतौर चुनाव चिह्न मिला है, जिसके साथ हैशटैग चलाया जा रहा है ‘‘#बस हुन गोल करना बाकी।’’

उत्तराखंड कांग्रेस एक रैंक एक पेंशन (ओआरओपी) पर वीडियो बनाकर भाजपा को निशाने पर ले रही है। इस वीडियों में सैन्य वर्दी में दिख रहे बच्चे यह कहते सुनाई दे रहे हैं कि पूर्व सैनिकों को अबतक पेंशन योजना का पूरा लाभ नहीं मिला है। यह वीडियो एक ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल के विज्ञापन पर आधारित है। इसपर उत्तराखंड भाजपा ने कहा, ‘‘पूरा देश जानता है कि सैनिकों को किसने ओआरओपी से वंचित किया और किसने सुनिश्चित किया कि उनका हक मिले। आइए देखें कैसे देश की सबसे असत्यवादी पार्टी का झूठ का भंडाफोड़ खुद सैनिक कर रहे हैं।’’ पार्टी ने इसके साथ ही वीडियो साझा किया है जिसमें पूर्व सैनिक मोदी को ओआरओपी लागू करने के लिए धन्यवाद ज्ञापित कर रहे हैं।

पढें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (Upassemblyelections2022 News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट