scorecardresearch

UP Election:’ना अली ना बाहुबली सिर्फ बजरंगबली’, EC के नोटिस के बाद भी BJP प्रत्‍याशी ने लगाया नारा

UP Election: चुनाव आयोग ने दो दिन पहले ही नंद किशोर गुर्जर को इस नारे के लिए नोटिस थमाया था।

loni mla, up election
बीजेपी विधायक नंद किशोर गुर्जर ने फिर दिया विवादित बयान (फोटो- @nkgurjar4bjp)

यूपी में चुनाव आयोग के नियमों का धत्ता बताना जारी है। जिस बयान के लिए लोनी से बीजेपी विधायक को चुनाव आयोग से नोटिस मिला था, उसी नारे को वो अपने नामांकन के दौरान बोलते हुए देखे गए।

लोनी से बीजेपी के विधायक और कई बार विवादित बयानों के कारण सुर्खियां बटोर चुके नंदकिशोर गुर्जर ने चुनाव आयोग के आदेश को धत्ता बताते हुए कैमरे पर ही विवादित नारा लगा दिया। नामांकन दाखिल करने पहुंच गुर्जर ने कहा- “ना अली ना बाहुबली सिर्फ बजरंगबली”। इस दौरान उनके समर्थक पीछे से हंसते भी दिखे।

अभी दो दिन पहले ही इसी नारे को लेकर चुनाव आयोग ने बीजेपी विधायक को नोटिस भेजा था। तब आयोग ने नंद किशोर गुर्जर को धार्मिक नफरत फैलाने के आरोप में नोटिस जारी किया था। भाजपा ने वर्तमान विधायक नंद किशोर गुर्जर को ही लोनी क्षेत्र से आगामी चुनावों में पार्टी का उम्मीदवार बनाया है। उम्मीदवारी की घोषणा के बाद अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए गुर्जर ने कहा था- “ना अली, ना बाहुबली, लोनी में सिर्फ बजरंग बली”।

तब गुर्जर को तीन दिन के भीतर यानि बुधवार तक लिखित में जवाब देने को कहा गया था। आयोग ने कहा है कि वो अपने जवाब में ये बताएं कि उन्होंने विवादित नारे का इस्तेमाल क्यों किया। हालांकि बीजेपी नेता इस नोटिस का अभी जवाब दिए हैं या नहीं, इसपर जानकारी अभी सामने नहीं आई है। साथ ही आयोग के नोटिस पर भी बीजेपी विधायक ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

लोनी विधायक के अलावा बुढाना विधायक उमेश मलिक के खिलाफ भी रोड शो करने के लिए मुकदमा दर्ज किया गया है। आयोग के नियमों के अनुसार रैली और रोड शो पर कोरोना के कारण प्रतिबंध है। फिर भी नेता सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं।

ऐसा नहीं है कि सिर्फ बीजेपी नेता ही इस लिस्ट में हैं, कांग्रेस और सपा के भी नेताओं के खिलाफ मामले दर्ज हो चुके हैं। सपा मुख्यालय में हुए एक कार्यक्रम के लिए करीब 2500 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। वहीं नोएडा में डोर टू डोर प्रचार करने के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपेश बघेल के खिलाफ भी केस दर्ज हो चुका है।

पढें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (Upassemblyelections2022 News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट