scorecardresearch

गोरखपुरः योगी आदित्यनाथ के ‘पुराने शिष्य’ ने ही दी चुनौती, बोले- जीवन का सबसे मुश्किल चुनाव बना दूंगा

सुनील सिंह ने ट्वीट किया, “रिकॉर्ड मतों से हारने के लिए तैयार रहिए बाबा। गोरखपुर की धरती इस बार इंकलाब का नया इतिहास लिखेगी। घमंड हारेगा और संघर्ष की जीत होगी।”

cm yogi tv debate
सीएम योगी गोरखपुर से लड़ेंगे विधानसभा चुनाव (फोटो- @MYogiAdityanath)

सियासत में कोई सगा और पराया नहीं होता है। जो आज दूसरे दल में हैं, कल वे अपने दल में आ जाते हैं। एक दल से दूसरे दल में आना-जाना लगा रहता है। सियासत ऐसा काम है, जिसमें धर्म-कर्म की बातें करने वाले से लेकर अपराध की दुनिया में कुख्यात हो चुके लोग भी नेता बन जाते हैं। अवसर और तात्कालिक लाभ के हिसाब से पाला बदलने की प्रवृत्ति सबसे ज्यादा राजनीति में ही देखी जाती है।

अभी हाल ही में भारतीय जनता पार्टी ने सीएम योगी आदित्यनाथ को उनके गृहनगर गोरखपुर से उम्मीदवार बनाने का फैसला किया। इस पर कभी उनके करीबी रहे और योगी आदित्यनाथ को अपना गुरु मानने वाले सुनील सिंह ने उनको चुनौती देते हुए सोशल मीडिया पर लिखा, “कहीं नोट कर लीजिए बाबा मैं सुनील सिंह आज घोषणा करता हूं कि इस बार का चुनाव आपके जीवन का सबसे मुश्किल चुनाव बना दूंगा। रिकार्ड मतों से हारने के लिए तैयार रहिए। गोरखपुर की धरती इस बार इंकलाब का नया इतिहास लिखेगी। घमंड हारेगा और संघर्ष की जीत होगी।”

उनका यह ट्वीट तब सामने आया जब योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर से खुद को टिकट दिए जाने पर पीएम मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और उम्मीदवार चयन समिति के प्रति आभार जताया। सीएम योगी ने लिखा, “आगामी विधानसभा चुनाव में मुझे गोरखपुर (शहर) से भारतीय जनता पार्टी का उम्मीदवार बनाने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी, माननीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा जी एवं संसदीय बोर्ड का हार्दिक आभार।”

सुनील सिंह फिलहाल समाजवादी पार्टी में हैं और संत कबीर नगर से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। कभी वह सीएम योगी आदित्यनाथ के बेहद करीबी रहे और उनको अपना गुरु बताकर उनके शिष्य के रूप में रहा करते थे, लेकिन अब वे समाजवादी पार्टी का दामन थाम चुके हैं और एक बार सभा में योगी सरकार को “हत्यारी सरकार” भी कह चुके हैं।

उधर, मथुरा जिले की मांट विधानसभा सीट से 2017 का चुनाव लड़ने वाले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य एस के शर्मा ने इस बार विधानसभा चुनाव में इस सीट से उन्हें टिकट न दिए जाने पर नाराजगी जताते हुए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से मंगलवार को इस्तीफा दे दिया।

पढें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (Upassemblyelections2022 News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.