यूपीः बीजेपी और बीएसपी में बगावत के बाद सपा का कुनबा तो बढ़ा पर अपने ही अखिलेश के लिए बन सकते हैं चुनौती

आदित्यनाथ सरकार में मंत्री पद छोड़कर सपा में आने वाले धर्म सिंह सैनी, नकुर से दूसरी बार विधायक हैं और आगामी चुनावों में इस सीट के लिए एक प्रमुख दावेदार हैं। वहीं इसी सीट से कांग्रेस के पूर्व नेता इमरान मसूद भी दावेदार हैं।

Akhilesh Yadav, samajwadi party
लखनऊ में बीजेपी नेताओं को सपा में शामिल कराते अखिलेश यादव (इंडियन एक्सप्रेस)

यूपी चुनाव से कुछ दिन पहले बीजेपी, बसपा और कांग्रेस तीनों ही पार्टियों से बड़े नेताओं का समाजवादी पार्टी में शामिल होने का सिलसिला जारी है। बीजेपी और बीएसपी में बगावत के बाद से अखिलेश का कुनबा तो बढ़ा है, लेकिन आने वाले दिनों में सपा के सामने एक बड़ी मुसीबत आने वाली है। अखिलेश के अपने ही अब उनके लिए चुनौती बन सकते हैं।

सपा के चुनावी अभियान को सत्ताधारी बीजेपी के कई मंत्रियों और विधायकों के शामिल होने से बढावा तो मिला है, लेकिन सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को अब टिकट-वितरण में आने वाली मुश्किलों से निपटना होगा। क्योंकि सपा के पास पहले से ही एक सीट पर कई उम्मीदवार टिकट की आस लिए बैठे हैं, ऐसे में नए नेताओं के आने से उनके टिकट पर खतरा मंडरा सकता है।

सहारनपुर जिले का नकुर विधानसभा क्षेत्र इसका एक उदाहरण है। सपा में शामिल होने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री पद छोड़ने वाले धर्म सिंह सैनी, नकुर से दूसरी बार विधायक हैं और आगामी चुनावों में इस सीट के लिए एक प्रमुख दावेदार हैं। वहीं इसी सीट से कांग्रेस के पूर्व नेता इमरान मसूद भी दावेदार हैं। मसूद ने हाल ही में सपा में जाने के लिए कांग्रेस छोड़ दी थी। मसूद 2017 और 2012 के विधानसभा चुनावों में नकुर सीट पर सैनी के खिलाफ उपविजेता रहे थे। इस हफ्ते की शुरुआत में अखिलेश से मिले मसूद भी इस सीट से सपा के टिकट की दौड़ में मजबूत उम्मीदवार हैं।

सैनी और मसूद के अलावा, कई स्थानीय सपा के पुराने नेता भी हैं जो नकुर से पार्टी के टिकट के दावेदार हैं, उनके दावे इस तथ्य पर आधारित हैं कि वे पार्टी के साथ रहे हैं और जमीनी स्तर पर काम किया है, भले ही पार्टी सत्ता से बाहर क्यों नहीं रही हो।

सपा के सहारनपुर जिला अध्यक्ष चंद्रशेखर यादव ने स्वीकार किया कि सैनी और मसूद दोनों नकुर से टिकट के दावेदार हैं और पार्टी के कई कार्यकर्ता भी इस क्षेत्र से टिकट की मांग कर रहे हैं। जो लोग सपा में शामिल हो रहे हैं, वे भी इस स्थिति से वाकिफ हैं। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हमारी सरकार बनने के बाद उनकी देखभाल करने का आश्वासन देकर सब कुछ संभाल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ओबीसी नेता सैनी के नकुर से चुनाव लड़ने की संभावना है। मसूद, सैनी के खिलाफ पिछले दो चुनावों में 5,000 से भी कम मतों से हार गए थे। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए, वर्मा ने पुष्टि की कि उन्होंने अकबरपुर से पार्टी टिकट की मांग की है और राजभर भी वहां से इसका दावा कर रहे थे। वर्मा ने कहा- “पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष तय करेंगे कि कौन चुनाव लड़ेगा।”

इसी तरह की स्थिति कटेहरी निर्वाचन क्षेत्र में है, जिसमें मौजूदा विधायक लालजी वर्मा, जिन्होंने सपा में शामिल होने के लिए बसपा छोड़ दी थी, पार्टी के टिकट की दौड़ में सबसे आगे हैं, उसके बाद सपा के वरिष्ठ नेता जयशंकर पांडे हैं, जो 2017 में तीसरे स्थान पर रहे थे। एक अन्य भाजपा विधायक जिन्होंने सपा में शामिल होने के लिए भगवा पार्टी छोड़ दी, वे हैं रोशनलाल वर्मा, जो शाहजहांपुर जिले के तिलहर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। तीन बार के विधायक वर्मा ने 2017 के चुनावों में कांग्रेस के जितिन प्रसाद को हराया था, जब सपा और कांग्रेस का गठबंधन था।

अब जितिन प्रसाद बीजेपी में हैं। लगभग सभी सीटों पर यही हाल है। सपा अगर बाहरी नेताओं को टिकट देती है तो उसके अपने विद्रोह कर सकते हैं। हालांकि अभी तक अखिलेश सब संभालते दिख रहे हैं।

पढें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 समाचार (Upassemblyelections2022 News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट