ताज़ा खबर
 

UP Assembly Election 2017: केजरीवाल, पर्रिकर के बाद अब अखिलेश का विवादित बयान- दूसरों से पैसा लें पर वोट दें साइकिल को

अखिलेश की इस विवादास्पद टिप्पणी से पहले रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर भी कुछ इसी तरह की बात कह चुके हैं।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव। (Photo Source: REUTERS)

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक विवादास्पद बयान देते हुए शनिवार को कहा कि वे अन्य दलों से पैसा ले लें लेकिन वोट ‘साइकिल’ को दें। अखिलेश ने एक चुनावी जनसभा में कहा, ‘मैंने सुना है कि वोटरों को पैसा दिया जा रहा है। मेरी आपको सलाह है कि पैसा अपने पास रख लीजिए और साइकिल को वोट दे दीजिए।’ ‘साइकिल’ प्रदेश की सत्ताधारी समाजवादी पार्टी का चुनाव निशान है।

अखिलेश की इस विवादास्पद टिप्पणी से पहले रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर भी कुछ इसी तरह की बात कह चुके हैं कि उन्हें इसमें कोई दिक्कत नहीं है कि लोग अन्य दलों की रैलियों में शामिल होने के लिए उन दलों से पैसा ले लें लेकिन उन्हें वोट ‘कमल’ को ही देना चाहिए। ‘कमल’ भारतीय जनता पार्टी का चुनाव निशान है। चुनाव आयोग ने पर्रिकर के बयान पर संज्ञान लेते हुए उनसे कहा था कि जब चुनाव आचार संहिता लागू हो तो उन्हें भविष्य में कोई बयान देने में सावधानी बरतनी चाहिए।

पर्रिकर ने कहा था, ‘… आप किसी से दो हजार रुपये लेकर उन्हें वोट देते हैं। यह ठीक है, कोई रैली करेगा, कोई आपत्ति नहीं है, कोई वहां पांच सौ रुपये लेकर घूमता है। लेकिन वोट कमल को ही जाना चाहिए…।’

इससे पहले चुनाव आयोग दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का निर्देश दे चुका है। केजरीवाल ने भी गोवा के वोटरों से अन्य दलों से धन स्वीकार करने लेकिन वोट ‘आम आदमी पार्टी’ को वोट देने की अपील की थी। केजरीवाल ने रैली में लोगों से कहा था कि यदि राजनीतिक पार्टियां उन्हें पैसे दें, तो वे रख लें, लेकिन वोट ‘आप’ को ही दें । आयोग ने ‘आप’ के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल के इस दावे को ‘बेहद फूहड़’ करार दिया था कि आयोग ऐसे बयानों से उन्हें रोक कर रिश्वतखोरी को बढ़ावा दे रहा है ।

वीडियो- चुनाव आयोग ने रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर को जारी किया कारण बताओ नोटिस; रुपए लेकर वोट देने पर की थी टिप्पणी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App