PM मोदी ने पहले कहा ‘यू-टर्न बाबू’, फिर ‘स्टिकर’ बाबू और अब बताया बाहुबली का विलन!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तेदेपा प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू को ‘यूटर्न बाबू’ और ‘स्टिकर बाबू’ कहने के बाद आज उनकी तुलना फिल्म ‘बाहुबली’ के नकारात्मक पात्र ‘भल्लालदेव’ से की जिसकी परंपरा केवल ‘विश्वासघात’ की थी।

Author April 1, 2019 11:44 PM
मोदी ने नायडू की तुलना ‘बाहुबली’ के पात्र से की राजामुंदरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तेदेपा प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू को ‘यूटर्न बाबू’ और ‘स्टिकर बाबू’ कहने के बाद आज उनकी तुलना फिल्म ‘बाहुबली’ के नकारात्मक पात्र ‘भल्लालदेव’ से की जिसकी परंपरा केवल ‘विश्वासघात’ की थी। मोदी ने साथ ही तेदेपा द्वारा अपने मोबाइल ऐप ‘सेवा मित्र’ के जरिये लोगों के निजी जानकारी चुराने को लेकर हाल में हुए विवाद की ओर इशारा किया और राज्य की सत्ताधारी पार्टी के साइबर अपराध में लिप्त होने का आरोप लगाया। उन्होंने आंध्र प्रदेश में भाजपा की दूसरी चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘झूठ, निराशा और यू-टर्न तेदेपा सरकार की पहचान बन गई है। कोई मुझसे कह रहा था…यूटर्न बाबू की स्थिति बाहुबली फिल्म के भल्लालदेव जैसी बन गई है। वह धर्म और अधर्म, सभी तरीकों से यह सुनिश्चत करने का लगातार प्रयास कर रहे हैं कि सत्ता उनके परिवार की पकड़ में रहे।’’ मोदी ने 25 मिनट के अपने भाषण में नायडू को केवल यूटर्न बाबू के तौर पर संबोधित किया। उन्होंने नायडू पर कथित भ्रष्टाचार के मुद्दे पर निशाना साधते हुए पोलावरम बहुद्देश्यीय परियोजना को एक ‘जीवंत उदाहरण’ बताया।

उन्होंने कहा, ‘‘पोलावरम यूटर्न बाबू के इरादों का एक सजीव उदाहरण है। यूटर्न बाबू और तेदेपा के लिए पोलावरम एक एटीएम बन गया है। धनराशि निकालो और भ्रष्टाचार के खेल जारी रखो। उनका यही काम है।’’ प्रधानमंत्री ने खेद जताते हुए कहा कि पोलावरम यद्यपि आंध्र प्रदेश के किसानों के लिए ‘जीवन और मरण’ का एक मुद्दा था, लेकिन सरकारों ने पिछले चार दशकों तक परियोजना पर निर्णय लटकाये रखा।

उन्होंने कहा, ‘‘हम अभी तक परियोजना के लिए राज्य सरकार को सात हजार करोड़ रुपये जारी कर चुके हैं और यह भी सुनिश्चित किया कि इसके क्रियान्वयन में कोई अड़चन नहीं आये। लेकिन वास्तविकता है कि तेदेपा पोलावरम पूरा करना नहीं चाहती। वह केंद्रीय राशि का इस्तेमाल सही उद्देश्यों के लिए नहीं कर रही है।’’ मोदी ने आरोप लगाया कि तेदेपा सरकार ने परियोजना के कार्य को कीमत बढ़ाने के लिए लटकाये रखा।

उन्होंने पिछले दो वर्षों के दौरान नायडू के विरोधाभासी बयानों का उल्लेख करते हुए कहा कि यूटर्न बाबू स्वयं के बल पर कुछ नहीं कर पाये, लेकिन आरोप दूसरों पर मढ़ दिया। उन्होंने कहा, ‘‘आंध्र प्रदेश के लोग ऐसे नेता पर विश्वास नहीं कर सकते।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आंध्र प्रदेश की परंपरा पारर्दिशता और सुशासन है। यूटर्न बाबू की भ्रष्टाचार, भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचार है।’’ मोदी ने कहा, ‘‘आंध्र प्रदेश की परंपरा बात पर कायम रहने की है लेकिन उनकी विश्वासघात है।’

Next Stories
1 ‘मोदीजी की सेना’ पर मचा बवाल, चुनाव आयोग ने तलब की रिपोर्ट
2 Karanataka: मतदाता जागरूकता के लिए डॉक्टर की अनोखी पहल, कहा- उंगली में स्याही दिखाओ, फ्री सलाह पाओ
3 Lok Sabha Election 2019: कांग्रेस ही नहीं BJP पर भी गिरी फेसबुक की गाज! NaMo ऐप से जुड़ी कंपनी के 15 एकाउंट्स हटाए
ये पढ़ा क्या?
X