ताज़ा खबर
 

MCD चुनाव नतीजे 2017: इन वजहों से दिल्ली एमसीडी चुनावों में डूबी आम आदमी पार्टी की लुटिया

MCD Election Result 2017: दिल्ली एमसीडी चुनावों में बुरे प्रदर्शन का ठीकरा आम आदमी पार्टी ने ईवीएम पर फोड़ा है।

Author April 26, 2017 1:38 PM
आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली की सीएम अरविंद केजरीवाल।

दिल्ली एमसीडी चुनावों के 270 वार्डों पर रुझान करीब-करीब आ चुके हैं और साफ हो चुका है कि बीजेपी तीसरी बार  मेयर की सीट पर काबिज होगी। दिल्ली के मुख्यमंत्री की आम आदमी पार्टी को वैसे नतीजे नहीं मिले जैसे की वह उम्मीद कर रही थी। यूं तो अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली एमसीडी चुनावों में कई वादे किए थे। उन्होंने कहा था कि वह दिल्ली को एक साल में लंदन जैसा बना देंगे। साथ ही उन्होंने हाऊस टैक्स माफ करने का भी वादा किया था, लेकिन शायद दिल्ली को वह वादा रास नहीं आया। दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान भी अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली को फ्री वाई-फाई देने का वादा किया था, लेकिन वह सरकार के दो साल पूरे होने के बाद भी पूरा नहीं किया गया। आइए बताते हैं आम आदमी पार्टी की हार के 5 कारण:

LG से तकरार: अरविंद केजरीवाल के दिल्ली के पूर्व एलजी नजीब जंग से काफी तल्ख रिश्ते रहे थे। केजरीवाल ने उनपर केंद्र के दवाब में काम करने का आरोप लगाया। दिल्ली का बॉस कौन होगा, यह मामला दिल्ली हाई कोर्ट में भी गया था, जिसमें कोर्ट ने साफ किया था कि एलजी ही दिल्ली के असली बॉस हैं। जंग के बाद दिल्ली के एलजी बने अनिल बैजल और केजरीवाल के बीच तनातनी उस वक्त शुरू हुई जब उन्होंने दिल्ली सरकार की डीटीसी बसों के किराए में कटौती की फाइल को वापस लौटा दिया था। लगातार एलजी पर निशाना साधने से लोगों के मन में उनकी निगेटिव इमेज बनी।

गोवा और पंजाब चुनावों पर ध्यान: पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों के दौरान अरविंद केजरीवाल का सारा ध्यान इन्हीं राज्यों के चुनावों पर था। दिल्ली में कोई नया काम न होने से भी लोग काफी नाराज थे। इसी बीच दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का यह भी बयान आया था कि पंजाब के लोग केजरीवाल को सीएम सोचकर वोट करें। विपक्ष उनके इस बयान को भुनाने में पूरी तरह कामयाब रहा और लोगों के मन में गुस्सा और बढ़ गया।

सिर्फ बिजली और पानी की बात: अरविंद केजरीवाल ने जब भी लोगों को अपनी सरकार की खूबियां बताईं तो सिर्फ बिजली और पानी पर बात की। जनता को उन्होंने अपने सरकार के अन्य कामों की जानकारी नहीं दी, जिससे लोगों के बीच उनकी पकड़ ढीली होती चली गई।

पीएम मोदी पर निशाना: भ्रष्टाचार और लोकपाल के मुद्दे को सामने रखकर अरविंद केजरीवाल की पार्टी सत्ता में आई थी और इसके बाद लगातार उसने केंद्र सरकार पर निशाना साधा। केजरीवाल ने दावा कि कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें काम नहीं करने दे रहे हैं। केजरीवाल के बयानों को दिल्ली की जनता ने काम न करने का एक बहाना मान लिया।

नहीं की साफ-सफाई पर चर्चा: अरविंद केजरीवाल ने अपने एमसीडी कैंपेन के दौरान कोई बड़ी रैली नहीं की और न ही दिल्ली की खस्ता हालत पर कोई बात कही। उनकी तरफ से कोई स्टार कैंपेनर भी नहीं था। वहीं बीजेपी के कई बड़े नेताओं ने पार्टी की तरफ से चुनाव प्रचार किया, जिसका उसे पूरा फायदा मिला।

MCD चुनाव 2017: एग्जिट पोल के मुताबिक बीजेपी की एकतरफा जीत, आप-कांग्रेस को 30 से भी कम सींटें, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App