ताज़ा खबर
 

कच्ची कॉलोनियों से निकलेगी संसद पहुंचने की राह

भाजपा सांसद मनोज तिवारी बताते हैं कि उनके क्षेत्र की कई योजनाएं फंसी हुई थीं और उनको पूरा करने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। अभी भी बहुत से काम नहीं हो पाए हैं।

Author March 5, 2019 9:31 AM
दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी फोटो सोर्स- ट्विटर/मनोज तिवारी

पंकज रोहिला

कच्ची कॉलोनियों से उत्तर-पूर्व दिल्ली के नए सांसद का रास्ता खुलेगा। एक अनुमान के मुताबिक, इस संसदीय सीट के करीब 6.50 लाख मतदाता कच्ची कॉलोनियों में ही रहते हैं। यही वजह है कि इन कॉलोनियों पर नेताओं का अधिक जोर है। सभी दलों ने चुनाव से पहले इन कॉलोनियों की ओर अपना ध्यान बढ़ा दिया है। इस सीट पर सभी दलों ने पहले भी कॉलोनियों को पक्का करने और मूलभूत सेवाएं देने का वादा किया था लेकिन इन कॉलोनियों की जमीनी हकीकत इससे परे है।

इस सीट से भाजपा सांसद मनोज तिवारी बताते हैं कि उनके क्षेत्र की कई योजनाएं फंसी हुई थीं और उनको पूरा करने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। अभी भी बहुत से काम नहीं हो पाए हैं। उनका कहना है कि दिल्ली सरकार से कई टकरावों के बाद क्षेत्र की योजनाओं को लागू करने का दबाव बनाया गया। राज्य सरकार ने योजनाओं को फंसाने का काम किया। जबकि हकीकत यह है कि केंद्र सरकार की मदद से कई अहम योजनाएं, वे उत्तर-पूर्व दिल्ली के लिए लेकर आएं हैं। उनका कहना है कि 15 साल से अधिक से भी उत्तर-पूर्व दिल्ली की जनता सिग्नेचर ब्रिज का इंतजार कर रही थी। राष्टÑपति शासन के कार्यकाल में इस ब्रिज के लिए 33 करोड़ रुपए की राशि उपलब्ध कराई गई। इसके बाद यह ब्रिज शुरू हो पाया है। इस ब्रिज के लिए 1100 करोड़ रुपए उपलब्ध कराए जा चुके थे। इसके बाद भी जमीनी कार्य पूर्ण नहीं था।

तिवारी का कहना है कि पूर्वी दिल्ली जाम की वजह से परेशान थी। इसके लिए केंद्र सरकार के सहयोग से यमुना पुश्ते के साथ बागपत तक के एक कॉरिडोर की योजना तैयार की गई है। इस कॉरिडोर की मदद से पूर्वी दिल्ली से मेरठ, उत्तर प्रदेश केवल 45 मिनट में पहुंचा जा सकेगा। इसके अतिरिक्त शामली के लिए यहां से 40 मिनट का समय लगेगा। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के माध्यम से यह पहल की गई है। इस पर करीब 4500 करोड़ रुपए की धनराशि खर्च की जा रही है। रेल सेवाओं के लिए नया रेलवे हाल्ट बनाया गया है। क्षेत्र में सबसे अधिक शामली व बागपत से लोग आते हैं। इनके लिए वर्तमान में एक ट्रेन को इस जगह पर रोका जा रहा है। जल्द ही दो और प्रमुख गाड़ियां इस हाल्ट पर उपलब्ध हो सकेंगी।

जाम से बचाने के लिए पूर्वी दिल्ली के प्रमुख इलाकों के लिए नए प्रोजेक्ट तैयार किए गए हैं। सबसे बड़ी परियोजना शास्त्री पार्क चौराहे को सिग्नल मुक्त करना है। कश्मीरी गेट बस अड्डे के बाद इस रेड लाइट पर सबसे अधिक जाम होता है। इस प्रोजेक्ट के लिए मनोज तिवारी ने उपवास भी किया था। हाल ही में इस योजना पर काम शुरू किया गया है। भजनपुरा को जाम से बचाने के लिए नया यूटर्न बनाया गया है। तिवारी का दावा है कि दिल्लीवालों को यमुना नदी के करीब लाने के लिए साबरमती की तर्ज पर इस रीवर फ्रंट संवारा जाएगा।

इसके लिए शास्त्री पार्क से खजूरी तक के पुश्ते को चयन किया गया है। इस फ्रंट में यमुना के अंदर पानी की उपलब्धता है। इसका छोटे-छोटे हिस्सों में सौंदर्यीकरण होगा। जहां झील में पानी उपलब्ध है। उनको भी ठीक किया जाएगा। इसके अतिरिक्त केंद्र सरकार ने इस कॉरिडोर को मोटर बोट सेवा से जोड़ने की भी तैयारी की है। इसी हिस्से से यमुना का पानी सीधे वजीराबाद बैराज तक पहुंचता है। इस पानी का प्रयोग नौकायन व बोट संचालन के लिए किए जाने की तैयारी है। उत्तर-पूर्व दिल्ली में पहला केंद्रीय विद्यालय शुरू किया गया है। इसके लिए कोर्ट से जमीन की लड़ाई लड़ी गई है। वर्तमान में यह स्कूल खिचड़ीपुर में चलाया जा रहा है। भवन तैयार हो जाने के बाद स्कूल के बच्चों को शाहदरा के नए स्कूल में लाया जाएगा। वहीं, उत्तर पूर्वी दिल्ली को घंटों पॉवर कट का सामना करना पड़ता था। इसके लिए हर्ष विहार में नया पॉवर ग्रिड स्टेशन बनाया गया है। इस पर करीब 205 करोड़ रुपए की राशि खर्च की गई है। यह कार्य रेकॉर्ड एक साल में पूरा किया गया है।

चौहान पट्टी गांव के बाहर एक मुख्य द्वार, मुख्य रोड और स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था की गई। पार्क विकसित किए गए, स्वामी दयानंद अस्पताल में दो नए वेंटिलेटर उपलब्ध कराए, 35 ओपन जिम खुले और 103 मुद्रा लोन जारी किए गए। उत्तर-पूर्व दिल्ली की जनता से जो वादे किए थे, उनको 95 फीसद पूरा किया है। इन्हीं कामों पर जनता से वोट मांगेगे।
-मनोज तिवारी, सांसद

कांग्रेस ने उत्तर-पूर्व दिल्ली को 31 परियोजनाएं दी थीं। इनके आदर्श गांव योजना की है की ही बात करें, तो वहां की हालत अभी भी खराब है। जबकि कांग्रेस के कार्यकाल में बदरपुर खाद को आदर्श गांव के तहत गोद लिया गया था। यहां बिजली, पानी, स्कूल व बस जैसी सुविधाओं को पहुंचाया गया है। भाजपा नेताओं ने हर मोर्चे पर झूठ बोला है।
-जय प्रकाश अग्रवाल, पूर्व सांसद

एक नजर में क्षेत्र

सांसद- मनोज तिवारी, भाजपा
उपविजेता- प्रो. आनंद कुमार, ‘आप’
कुल मतदाता- 22 लाख
विधानसभा क्षेत्र- बुराड़ी, तिमारपुर, सीमापुरी, रोहताश नगर, सीलमपुर, घोंडा, बाबरपुर, गोकुलपुरी, मुस्तफाबाद, करावल नगर।

खास बातें

2002 में परिसीमन आयोग की सिफारिशों पर संसदीय क्षेत्र का गठन, 2008 में अस्तित्व में आया
2014 चुनाव में भाजपा ने 45.25 फीसद, ‘आप’ ने 31.31 फीसद और कांगेस ने 16.31 फीसद मत पाए थे
पश्चिमी यूपी से सटा होने के कारण यहां के लोग ज्यादा
2009 के चुनाव में सीधी टक्कर कांगे्रस व भाजपा के बीच थी

वादे जो किए

पंद्रह सालों से फंसे सिग्नेचर ब्रिज को शुरू करना
क्षेत्र में पहला केंद्रीय विद्यालय खुलवाना
मीत नगर सबोली हाल्ट का निर्माण कराना
डीडीए के सहयोग से 35 ओपन जिम खुलवाना
हर्ष विहार में 200 करोड़ रुपए की लागत से सब स्टेशन बनवाना

वादे जो वफा न हुए

सिग्नेचर ब्रिज पर्यटन के लिए बना था, अभी भी काम अधूरा
चौहान पट्टी के लिए नया प्राथमिक विद्यालय विचाराधीन है
सुपर स्पेशिलियटी अस्पताल नहीं बना पाए
केंद्र व राज्य के झगड़े में अटकी सीमापुरी मेट्रो
मोनो रेल प्रोजेक्ट छोटी सड़कें होने की वजह से फंसा

क्या रहीं शिकायतें

कच्ची कॉलोनियों में गलियों की सड़कों में सुधार नहीं हुआ
लोनी रोड को जाम से बचाने के लिए मार्ग चौड़ा नहीं हुआ
सोनिया विहार से उत्तर प्रदेश की टैक्सी सेवा शुरू नहीं हो पाई
सिग्नेचर ब्रिज बनने के बाद जाम में फंसा भजनपुरा चौक
वजीराबाद मार्ग पर सीवरेज सिस्टम ठप
कच्ची कॉलोनियों को पक्का करने का काम
गंदे पानी की आपूर्ति सुधारना
नए स्कूलों की संख्या बढ़ाना

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App