ताज़ा खबर
 

नामांकन में दिखी राजग की एकजुटता

नामांकन के पहले प्रधानमंत्री ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के पैर छूकर आशीर्वाद लिए। इसके बाद 11 बजकर 50 मिनट पर वे रायफल क्लब में नामांकन दाखिल करने के लिए पहुंचे।

pm modiपीएम मोदी (फोटो सोर्स: ANI)

अरविंद कुमार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को भाजपा व राजग के तमाम बड़े नेताओं की मौजूदगी में सिद्धियोग नक्षत्र में अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी से दूसरी बार नामांकन पत्र दाखिल किया। इस दौरान राजग ने एकजुटता दिखाई और उसके तमाम बड़े नेता इस मौके पर मौजूद थे। प्रधानमंत्री सुबह 11.15 बजे कलक्ट्रेट पहुंचे। सफेद कुर्ता और काली जैकेट पहने पीएम ने कलेक्ट्रेट गेट पर समर्थकों का अभिवादन किया। इसके बाद वे एडीएम प्रशासन कार्यालय के मीडिया सेंटर पहुंचे। वहां पहले से मौजूद भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, जेपी नड्डा, पीयूष गोयल, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान, अन्ना द्रमुक नेता ओ पन्नीरसेल्वम, अपना दल (सोनेलाल) की प्रमुख अनुप्रिया पटेल और कोनराड संगमा जैसे नेताओं ने मोदी का स्वागत किया।

नामांकन के पहले प्रधानमंत्री ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के पैर छूकर आशीर्वाद लिए। इसके बाद 11 बजकर 50 मिनट पर वे रायफल क्लब में नामांकन दाखिल करने के लिए पहुंचे। उन्होंने तीन सेट में नामांकन पत्र भरकर जिला निर्वाचन अधिकारी डीएम सुरेंद्र सिंह को सौंपे। पीएम नरेंद्र मोदी के प्रस्तावकों में काशी के डोमराजा जगदीश चौधरी, भाजपा के पुराने कार्यकर्ता सुभाष गुप्ता, बीएचयू महिला कॉलेज की पूर्व प्राचार्य डॉ. अन्नपूर्णा शुक्ला और कृषि वैज्ञानिक रामशंकर पटेल थे। पटेल मोदी को बचपन से जानते हैं। इस दौरान मोदी ने सम्मान प्रकट करने के लिए अन्नपूर्णा शुक्ला के पांव छुए। नामांकन दाखिल करने के पश्चात प्रधानमंत्री ने कलेक्ट्रेट में मौजूद लोगों का अभिवादन स्वीकार किया और दोपहर एक बजे दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

इस दौरान वहां मौजूद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मीडिया से कहा कि सपा-बसपा गठबंधन से राजग को कोई फर्क नहीं पड़ेगा। राजग की सरकार बनने जा रही है। एकजुटता दिखाने के लिए ही राजग के सारे घटक दलों के नेता प्रधानमंत्री के नामांकन जुलूस में शामिल हुए। प्रधानमंत्री के नामांकन के लिए जुलूस के दौरान इस मंदिर नगरी में सामान्य यातायात बंद कर दिया गया और वीआइपी काफिले को देखने के लिए सड़क के दोनों तरफ लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। जिन चार लोगों ने मोदी के नाम का प्रस्ताव किया, उन्हें बहुत सावधानी से चुना गया। वे अलग-अलग जातियों के थे। शुक्ला ब्राह्मण, चौधरी दलित, पटेल ओबीसी और गुप्ता वैश्य समुदाय से आते हैं।

Next Stories
1 राजनीति में खत्म हो रहे प्रेम और दोस्ती को वापस लाना है : मोदी
2 Loksabha Elections 2019: अंबानी परिवार का सियासी कनेक्शन- पिता कांग्रेस उम्मीदवार की कर रहे तारीफ, बेटा पीएम की रैली में शामिल
3 Loksabha Elections 2019: ‘1971 के एजेंडे पर 2019 का चुनाव लड़ रहे हैं राहुल गांधी’, FB पोस्ट के जरिए अरुण जेटली का तंज
आज का राशिफल
X