ताज़ा खबर
 

SP-BSP Alliance: यूपी में गठबंधन का ऐलान, मायावती बोलीं- 38-38 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव, अखिलेश ने कहा- तोड़ेंगे बीजेपी का अहंकार

SP-BSP Alliance: सपा-बसपा गठबंधन की बागडोर मायावती संभाल सकती हैं। प्रेस वार्ता शुरू करने के लिए अखिलेश ने मायावती को आगे किया था, जबकि अपने भाषण में सपा अध्यक्ष ने साफ किया, "मायावती का अपमान उनका (अखिलेश का) अपमान होगा।

SP-BSP Alliance, Samajwadi Party, Mayavati Singh, Akhilesh-Mayavati Alliance, Bahujan Samaj Party, Elections 2019, Akhilesh Yadav, BJP, SP-BSP Mahagathbandhan, SP-BSP Grand Alliance, SP-BSP Alliance 2019, LS Polls 2019, Lok Sabha Elections 2019, सपा-बसपा गठबंधन, सपा, बसपा, बीजेपी, महागठबंधन, चुनाव समाचार, राष्ट्रीय समाचार, हिंदी समाचारSP-BSP Alliance: पत्रकारों के सवालों के जवाब देतीं मायावती। (फोटोः जनसत्ता ऑनलाइन)

SP-BSP Alliance: लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को मात देने के लिए शनिवार (12 जनवरी) को उत्तर प्रदेश की 80 सीटों पर समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के गठबंधन का आधिकारिक ऐलान हो गया। दोनों ही दल 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे और आम चुनाव के बाद विधानसभा चुनाव में भी इनका गठबंधन जारी रहेगा।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित ताज होटल में हुई साझा प्रेस वार्ता में बसपा सुप्रीमो ने गठबंधन का ऐलान करने के बाद कहा कि हम (बसपा और सपा) 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। हमने दो सीटें अन्य पार्टियों के लिए छोड़ी हैं, जबकि अमेठी और रायबरेली सीट कांग्रेस के लिए शेष रखी है।

उनके बाद सपा अध्यक्ष ने कहा कि गठबंधन के जरिए वे बीजेपी का अहंकार तोड़ेंगे। मायावती को प्रधानमंत्री पद पर समर्थन देने के सवाल पर अखिलेश ने कहा, “आपको पता है मेरा चुनाव क्या होगा। यूपी ने पूर्व में कई प्रधानमंत्री दिए हैं और इतिहास फिर से दोहराया जाएगा।”

यहां देखें प्रेस वार्ता-

Live Blog

Highlights

    12:59 (IST)12 Jan 2019
    सपा खेमे में वरिष्ठ नेता रहे नदारद

    प्रेस वार्ता के दौरान बसपा में सभी वरिष्ठ नेताओं में पार्टी के प्रति एकजुटता देखने को मिली, पर सपा में कुछ वरिष्ठ नेताओं को छोड़कर युवा कार्यकर्ताओं बोलबाला दिखा। प्रेस वार्ता के दौरान कई वरिष्ठ नेता नदारद रहे। 

    12:57 (IST)12 Jan 2019
    अखिलेश का वार- बीजेपी की सरकार में जातियों में बांट दिए गए भगवान

    अखिलेश के मुताबिक, बीजेपी के पांच साल की सरकार ने अत्याचार की सारी हदें पार कर दीं। बेकसूर लोगों के एनकाउंटर किया जा रहे हैं। जातियों में इंसान ही नहीं भगवान को भी बांटा जा रहा है। केंद्र सरकार की गलत नीतियों से किसान आत्महत्या कर रहा है। बीजेपी के अत्याचार से आम जनता को मुक्त कराने के लिए यह गठबंधन है।

    12:55 (IST)12 Jan 2019
    किसके हाथ में होगी गठबंधन की बागडोर

    सपा-बसपा गठबंधन की बागडोर मायावती संभाल सकती हैं। प्रेस वार्ता शुरू करने के लिए अखिलेश ने मायावती को आगे किया था, जबकि अपने भाषण में सपा अध्यक्ष ने साफ किया, "मायावती का अपमान उनका (अखिलेश का) अपमान होगा।

    12:46 (IST)12 Jan 2019
    क्यों छोड़ी कांग्रेस के लिए 2 सीटें? मायावती ने दिया यह जवाब

    मायावती ने कहा कि अमेठी और रायबरेली की लोकसभा सीट कांग्रेस के साथ गठबंधन किए बिना ही पार्टी के लिए छोड़ दी हैं, ताकि बीजेपी के लोग कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष को यहीं उलझा कर न रख सकें।

    12:36 (IST)12 Jan 2019
    बीजेपी को भारी पड़ेगा राफेल घोटालाः मायावती

    बकौल बसपा सुप्रीमो, "बोफोर्स से कांग्रेस और राफेल से बीजेपी ने रक्षा खरीद में भारी घोटाला किया। यह रक्षा घोटाला ही बीजेपी भाजपा को भारी पड़ने वाला है।" उनके मुताबिक, उत्तर प्रदेश व देश की जनता बीजेपी से परेशान है और चुनावी वादों की नाकामी से सभी परेशान है। सर्वसमाज को आदर देते हुए हम चुनावी गठबंधन कर रहे है। 2019 के लिए यह नई राजनीतिक क्रांति होगी ।

    12:31 (IST)12 Jan 2019
    'मोदी-शाह की नींद उड़ाने वाली है यह कॉन्फ्रेंस'

    कहा कि यह प्रेस वार्ता पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की नींद उड़ाने वाली है। हमारे गठबंधन से देश को बहुत उम्मीदें हैं। यह बीजेपी को केंद्र में आने से रोक सकता है। गठबंधन राजनीतिक क्रांति का संदेश देगा। वह बोलीं, "हमारे लिए लखनऊ गेस्ट हाउस कांड से ऊपर देशहित है। हमने (बसपा-सपा) ने आने वाले लोकसभा चुनावों को साथ मिलकर लड़ने का फैसला लिया है। देश में इससे नई राजनीतिक क्रांति आएगी।"

    12:25 (IST)12 Jan 2019
    मुलायम को भी आना था पर...

    सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती की साझा प्रेस वार्ता शुरू हो चुकी है। दोनों नेता अपनी जगह संभाल चुके हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, कॉन्फ्रेंस में अखिलेश के साथ मुलायम सिंह को भी शामिल होना था, पर मुलायम नहीं पहुंचे।

    12:20 (IST)12 Jan 2019
    बैनर में नहीं था मुलायम-कांशीराम का फोटो, कार्यकर्ता खफा

    इससे पहले, कॉन्फ्रेंस के बैनर-पोस्टर में मुलायम-कांशीराम का फोटो न होने से दोनों ही पार्टी के कुछ पुराने कार्यकर्ता नाराज हो गए। टीवी रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से बताया गया था कि ये दोनों लोकसभा चुनाव को लेकर गठबंधन का आधिकारिक ऐलान करेंगे, पर सीटों के बंटवारे को लेकर किसी प्रकार की घोषणा नहीं होगी।

    12:04 (IST)12 Jan 2019
    मार्च में पिछले साल हुई थी दोस्ती, ऐसे

    दोनों दलों ने पिछले साल मार्च में सार्वजनिक मंच पर गठबंधन को लेकर बात की थी। बाद में लोकसभा के तीन उपचुनावों व एक राज्य के विधानसभा उपचुनाव में प्रयोग के तौर पर गठबंधन किया भी था। नतीजतन बीजेपी गठबंधन के सामने सभी सीटें हार गई थी।

    11:56 (IST)12 Jan 2019
    घर से निकले अखिलेश यादव

    लखनऊ में इस साझा कॉन्फ्रेंस को लेकर सरगर्मियां तेज हो चुकी हैं। अखिलेश यादव घर से निकल चुके हैं, जबकि सतीश चंद्र मिश्रा ने कॉन्फ्रेंस से पहले होटल ताज पहुंचकर बंदोबस्त का जायजा लिया। वहीं, सपा के किरणमय नंदा और जूही सिंह भी होटल पहुंच चुके हैं। धर्मेंद्र यादव और राजेंद्र चौधरी भी कार्यक्रमस्थल पर उपस्थित हैं।

    Next Stories
    1 सपा-बसपा गठजोड़ से भाजपा पर 50 सीटें हारने का खतरा
    2 राजनीति फिजिक्स नहीं, केमिस्ट्री होती है, दो पदार्थ इकट्ठा हुए तो तीसरा भी बन जाता है, गठबंधन पर शाह का तंज
    3 NRC का विरोध: अमित शाह का राहुल पर वार- घुसपैठिए जैसे उनके मौसेरे भाई लगते हों
    IPL 2020
    X