ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: स्मृति ईरानी का राहुल पर हमला – आर्मी चीफ को कहते हैं ‘गुंडा’ और आतंकी को दे रहे सम्मान?

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): ईरानी ने शहीदों के घरवालों और देश के बाकी लोगों का हवाला देते हुए कहा, ‘‘जो देश के लिए कुर्बान हुए, उनके घरवाले जानना चाहते हैं कि आप आतंकवादियों का इतना ज्यादा सम्मान क्यों करते हैं?’’

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी। फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

Lok Sabha Election 2019: जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ‘सम्मान’ देने के मामले में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर एक बार फिर हमला बोला। ईरानी ने पूछा कि राहुल गांधी देश के आर्मी चीफ को गुंडा कहते हैं और एक आतंकी को सम्मान क्यों दे रहे हैं? ईरानी ने शहीदों के घरवालों और देश के बाकी लोगों का हवाला देते हुए कहा, ‘‘जो देश के लिए कुर्बान हुए, उनके घरवाले जानना चाहते हैं कि आप आतंकवादियों का इतना ज्यादा सम्मान क्यों करते हैं?’’

यह है मामला : जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 11 मार्च को दिल्ली में ‘मेरा बूथ, मेरा गौरव’ कार्यक्रम के तहत पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। उस दौरान वे बीजेपी सरकार पर हमला बोल रहे थे। उन्होंने 1999 के कंधार हाईजैक का जिक्र करते हुए कहा था कि बीजेपी नेता खुद मसूद अजहर को पाकिस्तान छोड़कर आए थे। हालांकि, भाषण के दौरान राहुल ने मसूद अजहर को सम्मान देते हुए ‘जी’ कहकर पुकारा था। इसके बाद बीजेपी राहुल गांधी पर हमलावर हो गई।

स्मृति ने सबसे पहले साधा निशाना : बता दें कि राहुल गांधी के इस कार्यक्रम का वीडियो सामने आने के बाद स्मृति ईरानी ने जमकर हमला बोला। उन्होंने #RahulLovesTerrorists हैशटैग के साथ लिखा, ‘‘राहुल गांधी और पाकिस्तान के बीच क्या समानता है? …..आतंकवादियों के लिए इनका प्यार।’’ इस ट्वीट में ईरानी ने राहुल के उस भाषण की वीडियो क्लिप भी लगाई है, जिसमें वे मसूद अजहर को ‘सम्मान’ दे रहे हैं।

राहुल पर लगातार हमलावर हैं स्मृति :  गौरतलब है कि स्मृति ईरानी और राहुल गांधी के बीच चुनावी मुकाबला 2014 के लोकसभा चुनाव में शुरू हुआ था। उस वक्त अमेठी सीट से ईरानी ने राहुल गांधी को कड़ी टक्कर दी थी। ऐसे में 2009 के लोकसभा चुनाव में करीब 5 लाख वोट से जीतने वाले राहुल गांधी 2014 में सिर्फ एक लाख वोट से ही जीत हासिल कर पाए थे। वहीं, हार के बावजूद बीजेपी कांग्रेस के इस गढ़ में लगातार एक्टिव है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App