ताज़ा खबर
 

समर्थकों ने ‘नेताजी’ को नारे में दी इज्‍जत- जिसका जलवा कायम है, उसका बाप मुलायम है

'अबकी बार मोदी सरकार' की तर्ज पर भाजपा ने 'अबकी बार 300 के पार' का नारा दिया है।

बहुजन समाज पार्टी के पक्ष में जारी एक पोस्टर।

पिछले लोक सभा चुनाव की ही तरह ही इस बार उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनावों में भी चुनावी नारे शोर मचा रहे हैं। डिजिटल प्लेटफॉर्म यानी फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब जैसे सोशल साइट पर चुनावी शोर के बीच पार्टियों के कार्यकर्ता पारंपरिक चुनावी नारों का भी सहारा ले रहे हैं। इन नारों का एक ही मकसद है, किसी भी तरह अपने समर्थकों का ध्यान खींचना और उसे चुनाव के वक्त तक अपने पाले में किए रहना। हालांकि, इसके बाद नेताओं का सघन दौरा भी होगा मगर उससे पहले राज्य में सड़क किनारे और शहरों में ऊंचे-ऊंचे होर्डिंग्स पर या नारे लोगों को आवाज दे रहे हैं।

समाजवादी पार्टी के किसी नेता ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की तारीफ में नारे लिखे हैं, ‘जिसका जलवा कायम है, उसका बाप मुलायम है’ तो बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती की तारीफ में बसपा समर्थक ने लिखा, ‘बेटियों को मुस्कुराने दो, बहनजी को आने दो।’ चुनावी नारेबाजी में भाजपा भी पीछे नहीं है। उसके पक्ष में भी जगह-जगह नारे लिखे दिखाई दे रहे हैं। ‘अबकी बार मोदी सरकार’ की तर्ज पर भाजपा ने ‘अबकी बार 300 के पार’ का नारा दिया है।

दरअसल, 80-90 के दशक में उत्तर प्रदेश की राजनीति में समाजवादी पार्टी का एक चुनावी नारा काफी मशहूर हुआ था। वह नारा था, ‘जिसका जलवा कायम है, उसका नाम मुलायम है’। कुछ दिनों पहले तक समाजवादी पार्टी में यह नारा दौड़ रहा था लेकिन जैसे ही समाजवादी पार्टी की पारिवारिक लड़ाई में मुलायम कमजोर पड़े और अखिलेश की पकड़ पार्टी पर हुई वैसे ही इस परंपरागत नारे में भी बदलाव आ गया और अस वह नारा बदलकर हो गया- “जिसका जलवा कायम है , उसका बाप मुलायम है।”

कुछ सालों पहले नारेबाजी का यह चलन सिर्फ मतदाताओं को रिझाने के लिए किया जाता था लेकिन अब यह कुछ प्रोफेशनल्स के लिए एक मुकम्मल जॉब है। आज की तारीख में सभी राजनीतिक दल इस तरह के प्रोफेशनल्स हायर कर रहे हैं जो उनके मिजाज के लिहाज से कविताएं लिख रहे हैं और नारे गढ़ रहे हैं। कुछ दिनों पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी पीएम नरेंद्र मोदी के ‘हर-हर मोदी’ के जवाब में ‘अरहर मोदी’ और ‘सूट-बूट की सरकार’ का नारा दिया था।

इसके अलावा राहुल गांधी ने नोटबंदी के बाद मोदी सरकार के खिलाफ गरीबों से खींचो, अमीरों को सींचो का नारा दिया। उससे पहले किसान यात्रा के दौरान भी राहुल गांधी ने ‘कर्जा माफ, बिजली बिल हाफ एंड एमएसपी का करो हिसाब’  का नारा दिया था।

वीडियो देखिए- शिवसेना ने नोटबंदी पर ‘सामना’ के संपादकीय में लिखा- “पीएम मोदी ने देश पर ‘न्यूक्लियर बॉम्ब’ गिराया”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App