ताज़ा खबर
 

Rajasthan Elections: ‘काली’ के किले में क्या रचना कर पाएंगी ‘अर्चना’? मालवीय नगर सीट पर रोचक हुआ मुकाबला

जयपुर की मालवीय नगर विधानसभा सीट से बीजेपी के दिग्गज नेता कालीचरण सर्राफ फिर से चुनावी मैदान में हैं, तो कांग्रेस ने उनके सामने पिछली बार हार चुकीं पार्टी की मीडिया सेल की उपाध्यक्ष अर्चना शर्मा को एक बार फिर उतार दिया है।

जयपुर की मालवीय नगर सीट से प्रत्याशी कालीचरण सर्राफ और अर्चना शर्मा

जयपुर की मालवीय नगर विधानसभा सीट इस बार हॉट सीट बन चुकी है। यहां बीजेपी के दिग्गज नेता कालीचरण सर्राफ फिर से चुनावी मैदान में हैं, तो कांग्रेस ने उनके सामने पिछली बार हार चुकीं पार्टी की मीडिया सेल की उपाध्यक्ष अर्चना शर्मा को एक बार फिर उतार दिया है। जहां सर्राफ संघ की पृष्ठभूमि के साथ ही कार्यकर्ताओं में चर्चित चेहरा रहे हैं वहीं विवादों से भी उनका पुराना नाता है। उन्होंने शहर में नई डिस्पेंसरियों को खोलने के साथ ही जयपुरिया और कावंटिया अस्पताल के लिए भी उन्होंने काफी अच्छा काम किया है। हालांकि तबादलों सहित आम जनता से उनकी दूरी इस बार उनके खिलाफ भी जा सकती है।

मालवीय नगर का नाम जुबां पर आते ही यहां हाई-फाई लाइफ स्टाइल, बड़े-बड़े शोरूम, काम्पलेक्स और मुंबई-बेंगलुरु जैसे शहरों की तस्वीर सामने आ जाती है। मालवीय नगर के लोगों की अपेक्षाएं भी ज्यादा हैं, तो उनके विकास के पैमाने भी अलग हैं। मालवीय नगर बीते एक दशक से शहर में सबसे तेज गति से बदला है हालांकि, अंदरूनी गलियों, कच्ची बस्ती के इलाकों, कॉलोनियों में हालात कमोबेश आज भी पहले जैसे ही हैं।

लोगों का कहना है कि यहां पर निर्वाचित होने वाले प्रतिनिधियों की आम जनता से दूरी रहने के कारण उनकी समस्याओं का निस्तारण नहीं हो पाता है। जहां वर्तमान विधायक कार्यकर्ताओं से मिलनसार रहे, लेकिन जनता से उन्होंने हमेशा दूरी बनाकर रखी इसी कारण जनता भी उनसे कटी-कटी दिखाई दे रही है। गोपालपुरा बाईपास पर 12 लेन सड़क के मामले में दुकाने टूटने पर विधायक की चुप्पी पर लोग आज भी अंदर से खफा दिखते हैं, हालांकि बाद में सर्राफ खुलकर प्रभावितों के पक्ष में भी आए। यही कारण रहा कि 12 लेन का प्रोजेक्ट अभी तक पूरा नहीं हो पाया। नतीजतन गोपालपुरा में एक बार फिर वही दुकानें और काम्पलेक्स दिखाई दे रहे हैं।

नया चेहरा वर्सेज पुराना चेहरा
कांग्रेस जहां इस चुनाव में अर्चना शर्मा को एक बार मौका देने की बात कर रही है। पांच साल में झालना कच्ची बस्ती, शराबबंदी, अवैध बजरी खनन, सड़क, सफाई क्षेत्र की समस्याओं को उठाने में अर्चना शर्मा आगे रहीं। पांच साल जयपुर में कांग्रेस के सबसे सक्रिय चेहरों में उनकी गिनती होती रही। कांग्रेस की मीडिया सेल उपाध्यक्ष होने के कारण उनकी एक व्यापक छवि भी कार्यकर्ताओं में रही है। देखना होगा कि अब जनता नए चेहरे पर वोट की मुहर लगाती है या एक फिर पुराने चेहरे पर ही विश्वास कायम रखती है।

यह हैं समस्याएं खास
1. भीतरी इलाके अब भी विकास से अछूते
2. अवैध निर्माणों को बोलबाला
3. कच्ची बस्तियों की शिफ्टिंग और पुनर्वास अटका
4. क्षेत्र की कई कॉलोनियों में पेयजल समस्या

मंत्री सर्राफ की विशेषताएं
1. मंत्री की कार्यकर्ताओं के बीच अच्छी पैठ
2. नई डिसपेंसरियां बनवाने में बड़ा योगदान
3. जयपुर में बीजेपी का सबसे बड़ा वैश्य चेहरा
4. बेबाक बोलने में माहिर, विधानसभा के प्रभावी चेहरों में से एक

अर्चना शर्मा की पहचान
1. कांग्रेस की मीडिया सेल उपाध्यक्ष
2. मालवीय नगर में पांच साल से लगातार सक्रिय
3. कांग्रेस की जयपुर में एक मात्र महिला प्रत्याशी
4. पांच साल संगठन में लगातार संभाला मोर्चा  (स्टोरी एवं फोटो – सौजन्य: मुकेश चौधरी- Pebble)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App