ताज़ा खबर
 

Rajasthan Elections: राहुल को ‘पप्पू’ कहना पड़ा भारी, चुनाव प्रचार छोड़ भागे भाजपा सांसद

जनसभाओं में राजनीतिक पार्टियों का एक दूसरे पर हमला करना जारी है लेकिन राज्य में चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी सांसद को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पप्पू कहना भारी पड़ गया।

भाजपा सांसद- देवजी भाई फोटो सोर्स- फेसबुक

राजस्थान विधानसभा चुनावों में नेताओं द्वारा दिए जाने वाले विवादित बयानों की श्रृंखला लगातार बढ़ती जा रही है। इसी क्रम में चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी सांसद ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को ‘पप्पू’ कह दिया। राहुल पर की गयी टिप्पणी से मौके पर मौजूद कांग्रेस पार्षद भड़क गयी और समर्थकों के साथ सांसद का पुरजोर विरोध किया। विरोध के चलते सांसद को माफ़ी मांगनी पड़ी और सभा छोड़ के भागना पड़ा।

दरअसल, राजस्थान में गुजरात के सुरेंद्र नगर से बीजेपी सांसद देवजी भाई बांसवाड़ा में अपनी पार्टी के प्रत्याशी के लिए चुनाव प्रचार करने आये थे। सांसद बांसवाड़ा सीट से प्रत्याशी हकरू मईड़ा के पक्ष में भागाकोट इलाके में प्रचार कर रहे थे। तभी वार्ड नंबर 36 में एक मीटिंग के दौरान वहाँ की कांग्रेस पार्षद सीता डामोर पहुँच गयी। मीटिंग के दौरान डामोर ने कहा कि यहां पर पांच साल से बीजेपी का शासन है, सड़क पर हर जगह गड्ढे हैं। कम से कम यहां की सड़कों के गड्ढे तो भरवा दो।

महिला पार्षद के इस तरह बोलने पर बीजेपी के सांसद देवजी भाई ने पूछा, ‘आखिर यह महिला कौन है?’ तब बगल में बैठे लोगों ने उन्हें बताया कि वह कांग्रेसी पार्षद हैं। इस पर सांसद जी कांग्रेस पार्षद को जवाब देते हुए कहा, ‘आप अपने पप्पू को बुला लो, वही गड्ढा भर देगा।’ कांग्रेस अध्यक्ष पर ऐसे तंज से पार्षद सीता डामोर भड़क गयीं। डामोर ने सांसद से कहा कि आखिर तुमने पप्पू कैसे कह दिया। बताते है कि यह मामला इतना गरमा गया कि वहां पर मोहल्ले के लोग इकट्ठे हो गए और बीजेपी सांसद को घेर लिया। आखिरकार बीजेपी सांसद को माफी मांगनी पड़ी और किसी तरह वहां से निकलना पड़ा।

इसके बाद भी लोगों का गुस्सा शांत नहीं हुआ और वो बीजेपी दफ्तर पहुँच गए। कहा जा रहा है कि विरोध कर रहे लोगों के गुस्से को शांत करने के लिए बीजेपी के नेताओं ने सांसद देवजी भाई को बांसवाड़ा से गुजरात के लिए वापस भेज दिया। गौरतलब है राजस्थान में 7 दिसंबर को मतदान की प्रक्रिया आरंभ होगी। 11 दिसंबर को वोटों की गिनती की जाएगी।

Next Stories
1 Telangana Elections: अब अकबरुद्दीन ओवैसी बोले- चायवाले, हमें मत छेड़…
2 गजब! खुद को ही दिया जिंदगी का पहला वोट और सिर्फ 22 साल में सबसे बड़ी जीत के साथ बन गईं प्रधान
3 हाईकोर्ट का आदेश, कहा- नोटा का प्रचार- प्रसार करे चुनाव आयोग
यह पढ़ा क्या?
X