ताज़ा खबर
 

Rajasthan Election Update: केंद्रीय मंत्री को भी करना पड़ा 2 घंटे इंतजार, कई जगह EVM में गड़बड़ी की शिकायत

राजस्थान में कई जगहों पर ईवीएम और वीवीपैट में खराबी की वजह से मतदान देर से शुरू हुआ। इस दौरान कई बड़े नेताओं को भी मतदान के लिए इंतजार करना पड़ा।

राजस्थान विधानसभा चुनाव में मतदान के दौरान केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल फोटो सोर्स- ani twitter

राजस्थान में विधानसभा चुनावों के लिए मतदान जारी हैं। मतदान केंद्रों पर वोट डालने के लिए लोगों की लंबी कतारें देखी जा रही हैं। लेकिन कई जगहों पर ईवीएम और वीवीपैट में खराबी की वजह से मतदान देर से शुरू हुआ। कई जगहों पर मशीनों को बदला भी गया। इस दौरान कई बड़े नेताओं को भी मतदान के लिए इंतजार करना पड़ा। राज्य के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता को भी ईवीएम में गड़बड़ी के चलते मतदान के लिए इंतजार करना पड़ा।

राजस्थान विधानसभा चुनाव में मतदान के लिए बीकानेर पहुंचे केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल को ईवीएम में खराबी के चलते वोट डालने में क़रीब 2 घंटे की देरी का सामना करना पड़ा। वो यहां बीकानेर पूर्व के बूथ नंबर 172 पर मतदान के लिए आये थे। इसी तरह जालौर के अहोर में बूथ संख्या पर 253 और 254 में ईवीएम में खराबी के चलते मतदाताओं ने विरोध किया। यहां भी वोटिंग में देरी हुई। जयपुर में वोट डालने पहुंचे मुख्य सचिव डीबी गुप्ता को ईवीएम में खराबी के चलते बूथ पर करीब 20 मिनट इंतजार करना पड़ा। राजस्थान में मतदान शुरू होने के करीब दो घंटे बाद भी जैसलमेर के तीन बूथों में मतदान समय पर शुरू नहीं हो सका था। यहां वीवीपैट मशीन खराब होने की वजह से देरी हुई।

बांसवाड़ा में भी कुछ जगहों पर ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत आयी है। कुशलगढ़ विधानसभा के कसार वाड़ी में बूथ संख्या 1 में मशीन ख़राब होने से कुछ देर मतदान बाधित रहा। बांसवाड़ा विधानसभा में नबीपुरा स्कूल के मतदान केंद्र में करीब आधा घंटा देरी से मतदान शुरू हुआ। यहाँ वीवीपैट अभ्यास के दौरान ख़राब हो गयी थी। हालांकि कुछ देर में ही इसे ठीक कर दिया गया। इस बार चुनाव आयोग ने मध्यप्रदेश के चुनावों से सबक लेते हुए अपनी तकनीकी टीमों को तैनात किया है और जहां-जहां भी समस्याएं आ रही हैं, उन्हें तुरंत हल करने की कोशिश की जा रही है।

फिलहाल राजस्थान में करीब 3 दर्जन से ज्यादा स्थानों पर ईवीएम खराब होने से मतदान की प्रक्रिया या तो देर से शुरू हुई, शुरू ही नहीं हो सकी थी। राजस्थान विधानसभा के लिए 33 जिलों के 51687 पोलिंग बूथ पर 4.75 करोड़ मतदाता करेंगे। इस बार चुनाव में 2274 प्रत्याशी मैदान में है। राजस्थान में 1993 के बाद से हर बार सरकार बदलती रही। इस बार भी कांग्रेस इसी उम्मीद के साथ चुनाव लड़ी है, लेकिन भाजपा का दावा है कि इस बार 25 साल से चली आ रही परंपरा टूट जाएगी।

फिलहाल राजस्थान में करीब 3 दर्जन से ज्यादा स्थानों पर ईवीएम खराब होने से मतदान की प्रक्रिया या तो देर से शुरू हुई, शुरू ही नहीं हो सकी थी। राजस्थान विधानसभा के लिए 33 जिलों के 51687 पोलिंग बूथ पर 4.75 करोड़ मतदाता करेंगे। इस बार चुनाव में 2274 प्रत्याशी मैदान में है। राजस्थान में 1993 के बाद से हर बार सरकार बदलती रही। इस बार भी कांग्रेस इसी उम्मीद के साथ चुनाव लड़ी है, लेकिन भाजपा का दावा है कि इस बार 25 साल से चली आ रही परंपरा टूट जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App