ताज़ा खबर
 

दुबई से राहुल गांधी का कांग्रेसियों को पैगाम: मायावती और अखिलेश का करें सम्मान

राहुल गांधी ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के नेताओं के प्रति मेरे मन में काफी ज्यादा श्रद्धा और सम्मान है।

Author January 13, 2019 7:48 AM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को दुबई में सपा-बसपा गठबंधन पर कहा कि पार्टी नेता मायावती और अखिलेश का सम्मान करें। उन्होंने कहा, “उनकी पार्टी के पास उत्तर प्रदेश की जनता को देने के लिए बहुत कुछ है। बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के नेताओं के प्रति मेरे मन में काफी ज्यादा श्रद्धा और सम्मान है। वे जो कुछ करना चाहते हैं, उसे करने का उनके पास अधिकार है। बसपा और सपा ने एक राजनीतिक निर्णय लिया है। अब यह हमारे ऊपर है कि हम उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को कैसे मजबूत करें और हम अपनी पूरी क्षमता के साथ चुनाव लड़ेंगे।”

कांग्रेस अध्यक्ष संयुक्त अरब अमीरत की यात्रा पर है। यात्रा के दूसरे दिन उन्होंने आरएसएस पर भी निशाना साधा। राहुल गांधी ने कहा, “राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ यह सोचता है कि आम लोगों की आवाज का कोई मतलब नहीं है। हम वर्ष 2019 का चुनाव जीतने वाले हैं। इसके पीछे एक बड़ी वजह यह भी है कि नौकरशाहों और देश के संस्थानों द्वारा काफी ज्यादा सरकार के खिलाफ प्रतिक्रिया सामने आ रही है। वे यह कह रहे हैं कि जो हो रहा है, उसे स्वीकार नहीं किया जा सकता।” राहुल गांधी ने पाकिस्तान के साथ रिश्तों पर भी चर्चा की। उन्होंने कहा, “मैं पाकिस्तान के साथ शांति संबंध चाहता हूं। लेकिन निर्दोष भारतीयों पर की जा रही हिंसा कतई स्वीकार्य नहीं है।”

अकेले लड़ सकती है चुनाव: कांग्रेस उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा के गठबंधन से खुद को अलग रखे जाने पर कल विस्तृत रूप से अपना रुख स्पष्ट करेगी। हालांकि सूत्रों का कहना है कि पार्टी राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य में अब अकेले चुनाव लड़ सकती है। इस बड़े राजनीतिक घटनाक्रम के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पार्टी तत्काल प्रतिक्रिया नहीं देगी और रविवार को लखनऊ में विस्तृत प्रतिक्रिया दी जाएगी। सपा-बसपा गठबंधन के सवाल पर कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने भी कहा कि रविवार को गुलाम नबी आजाद इस बारे में विस्तृत प्रतिक्रिया देंगे।

सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस करीब 20 लोकसभा सीटों पर मजबूती के साथ चुनाव लड़ने का मन बना रही है जिनमें दो सीटें रायबरेली और अमेठी तथा आठ वे सीटें शामिल हैं जहां पिछले लोकसभा चुनाव में पार्टी दूसरे स्थान पर रही थी। कांग्रेस सूत्रों का यह भी कहना है कि इन सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए कांग्रेस नेतृत्व सपा एवं बसपा के साथ परस्पर सहमति बनाने की कोशिश करेगा। सूत्रों ने यह भी कहा कि मायावती ने रायबरेली और अमेठी की सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ने की घोषणा करते हुए जो बात कही, उसमें कांग्रेस के लिए एक सकारात्मक संदेश था। (एजेंसी इनपुट के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App