ताज़ा खबर
 

पंजाबः कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ चरम पर नवजोत सिंह सिद्धू की नाराजगी, कैबिनेट बैठक से किया किनारा

इससे पहले, दोनों के बीच जुबानी वार-पलटवार को लेकर सिद्धू विरोध के तौर पर सीएम की बैठकों और बाकी कार्यक्रमों में शामिल नहीं होते थे।

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और कबीना मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के बीच इन दिनों सब कुछ चीज ठीक नहीं है। (फाइल फोटो)

क्रिकेट से राजनीति में कदम रखने वाले कांग्रेसी नेता और पंजाब के कबीना मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की नाराजगी मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ इस वक्त चरम पर है। गुरुवार (छह जून, 2019) को इसी के चलते उन्होंने सीएम की अध्यक्षता वाली कैबिनेट बैठक से किनारा कर लिया। सभी मंत्री इस बैठक में पहुंचे, मगर सिद्धू उसमें शामिल नहीं हुए।

हालांकि, कुछ रिपोर्ट्स में बताया गया कि सिद्धू को इस बैठक के लिए बुलावा ही नहीं भेजा गया था।सरकार से जुड़े सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया कि यह बैठक काफी अहम थी, जिसमें मंत्रियों के मंत्रालय बदले जाने को लेकर चर्चा होनी थी, जबकि आगे आने वाले समय में कुछ मंत्रियों से मंत्रालय छिन भी सकते हैं।

बता दें कि आम चुनाव के बाद सूबे में यह पहली कैबिनेट बैठक थी। दरअसल, दोनों राजनीतिक दिग्गजों के बीच वार-पलटवार का दौर चला था। यही वजह है कि सिद्धू तब भी विरोध के तौर पर सीएम की बैठकों और बाकी कई कार्यक्रमों में शामिल नहीं होते थे।

वैसे भी सीएम पहले ही अपना रुख लगभग साफ कर चुके हैं कि वह सिद्धू का मंत्रालय बदलने पर विचार-विमर्श कर रहे हैं। दरअसल, लोकसभा चुनाव के वक्त शहरी इलाकों में पार्टी का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा था, जिसके लिए कैप्टन ने सिद्धू को जिम्मेदार ठहराया था।

वहीं, पटलवार में कबीना मंत्री ने कहा था कि सूबे में बेहाल कांग्रेस के लिए अकेले वह ही जिम्मेदार कैसे हो सकते हैं? इससे पहले, सिद्धू बीते हफ्ते हुई सीएलपी (कांग्रेस लेजिस्लेटिव पार्टी) की बैठक में भी नहीं पहुंचे थे, जो कि सीएम अमरिंदर की अध्यक्षता में हुई थी। कबीना मंत्री की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने इस बारे में बताया था कि पति को उस बैठक के लिए निमंत्रण नहीं भेजा गया था।

सिद्धू ने बीते साल हैदराबाद में एक कार्यक्रम के दौरान कह दिया था, “राहुल गांधी ही मेरे कैप्टन हैं। वह कैप्टन के भी ‘कैप्टन’ हैं।” यहां उन्होंने किसी का नाम तो नहीं लिया था, पर यह बात सीएम अमरिंदर के संदर्भ में कही गई थी।

 

Next Stories
1 चुनाव बाद फिर से राम मंदिर एजेंडे पर शिवसेना, 18 सांसदों संग अयोध्या पहुंचेंगे उद्धव ठाकरे; साधु-संतों का भी जमावड़ा
2 कांग्रेसी परिवार की बेटी, भाजपाई परिवार की बहू बनी, पार्टी बदलकर 32 साल में बन गईं सांसद
3 ‘जैसे लाल कपड़ा देख सांड बिदकता है, दीदी वैसे ही जय श्रीराम पर भड़क रहीं’, बीजेपी सांसद के बिगड़े बोल
ये पढ़ा क्या?
X