ताज़ा खबर
 

पंजाब चुनाव: केजरीवाल के खिलाफ ‘मनगढ़ंत’ शिकायत मामला, आप ने शिअद को लिया आड़े हाथ

आप ने आरोप लगाया कि उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल पंजाब में धर्मग्रंथ के अनादर की घटनाओं के लिए जिम्मेदार हैं।
Author चंडीगढ़ | January 31, 2017 18:46 pm
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल। (PTI File Photo)

आप ने पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल के खिलाफ चुनाव आयोग में ‘मनगढ़ंत’ शिकायत दर्ज कराने के लिए मंगलवार (31 जनवरी) को शिरोमणि अकाली दल (शिअद) को आड़े हाथ लिया और आरोप लगाया कि उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल पंजाब में धर्मग्रंथ के अनादर की घटनाओं के लिए जिम्मेदार हैं। आप के प्रदेश संयोजक गुरप्रीत सिंह वरैच ने एक बयान में कहा कि राज्य के गृह मंत्री के तौर पर बादल के कार्यकाल के दौरान धर्मग्रंथ के अनादर की 95 प्रतिशत घटनाएं हुईं। इसमें जून 2015 में बुर्ज जवाहर सिंह वाला गांव गुरूद्वारा से पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब की चोरी की घटना भी शामिल है। वरैच ने कहा, ‘धर्मग्रंथ अनादर मामले में आप के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की बादल की मांग से उनकी मिलीभगत और सामान्य ज्ञान का दिवालियापन साबित होता है।

पंजाब में सत्ताधारी शिअद ने सोमवार (30 जनवरी) को पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर मुक्तसर और लांबी में पवित्र धर्मग्रंथ के अनादर की कथित घटना, साम्प्रदायिक घृणा फैलाने और आतंकवादी संगठनों से नजदीकियां बढ़ाने के लिए केजरीवाल के खिलाफ एक मामला दर्ज करने की मांग की थी। शिअद के सचिव एवं शिक्षा मंत्री दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि केजरीवाल के मोगा में खालिस्तान कमांडो फोर्स के खूंखार आतंकवादी गुरिंदर सिंह के घर रूकने के बाद ही ‘गुटका’ की प्रतियां मुक्तसर और लांबी में बिखरी हुई मिलीं। वरैच ने बादल को एक ‘असफल’ गृह मंत्री बताते हुए कहा, ‘इससे अधिक शर्मनाक क्या हो सकता है कि बादल डेढ़ वर्ष के दौरान पवित्र गुरू ग्रंथ साहिब का पता लगाने में असफल रहे।’ उन्होंने कहा कि आप किसी भी धर्म के पवित्र ग्रंथ का अनादर करने की सोच भी नहीं सकती क्योंकि उसमें सभी आस्थाओं के प्रति प्रेम, स्नेह और श्रद्धा है।

मनीष सिसोदिया ने पंजाब के वोटरों से कहा- “अरविंद केजरीवाल को अपना मुख्यमंत्री मानें”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.