ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी को इन पांच मौकों पर करारा जवाब दे चुकी हैं प्रियंका गांधी, जानें- कब, क्या कहा? 

नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि कांग्रेस 125 साल पुरानी बुढ़िया है। इसका जवाब प्रियंका गांधी ने अप्रैल 2009 में अमेठी में दिया था और कहा था, "क्या मैं बूढ़ी दिखती हूं।"

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मां सोनिया गांधी और बहन प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ। (एक्सप्रेस फोटो)

कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाकर न केवल पार्टी कार्यकर्ताओं, महिलाओं और युवाओं में जोश-जुनून भरने की कोशिश की है बल्कि भाजपा के खिलाफ एक सशक्त चेहरा और बुलंद आवाज की दीवार भी खड़ी करने की कोशिश की है। पिछले भी कई मौकों पर प्रियंका अपने बयानों से भाजपा खासकर नरेंद्र मोदी पर राजनीतिक पलटवार करते हुए उन्हें करारा जवाब दे चुकी हैं। प्रियंका ने साल 2009 के चुनावों में सबसे पहले गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी को करारा जवाब दिया था और उनसे पूछा था कि क्या वो बुढ़िया दिखती हैं। दरअसल, नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि कांग्रेस 125 साल पुरानी बुढ़िया है। इसका जवाब प्रियंका गांधी ने अप्रैल 2009 में अमेठी में दिया था और कहा था, “क्या मैं बूढ़ी दिखती हूं।”

प्रियंका ने 2014 के चुनाव प्रचार के दौरान भी इसी तरह के तंज कसे, जब एक इंटरव्यू के दौरान तत्कालीन पीएम पद के प्रत्याशी नरेंद्र मोदी ने प्रियंका गांधी पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया था और कहा था, “वो उनकी बेटी जैसी हैं और उनकी मां अध्यक्ष सोनिया गांधी या भाई राहुल गांधी की तरह उनकी राजनैतिक प्रतिद्वंद्वी नहीं हैं…” इसके जवाब में प्रियंका ने अमेठी में लोगों से कहा था, “मैं राजीव गांधी के बेटी हूं।”

इन्हीं चुनावों में जब नरेंद्र मोदी ने मनमोहन सिंह की यूपीए सरकार को ‘RSVP (राहुल, सोनिया, वाड्रा, प्रियंका) मॉडल’ बताया और कहा कि यहां एक शख्स ही एक लाख की कमाई को 400 करोड़ में बदल सकता है। नरेंद्र मोदी का निशाना प्रियंका के पति रॉबर्ट वाड्रा पर था। तब प्रियंका ने मोदी के ‘RSVP’ कटाक्ष का जवाब देते हुए कहा था कि वह समझदार वोटरों के बीच ऐसे बोलते हैं जैसे प्राथमिक पाठशाला में बच्चों को समझा रहे हों। रायबरेली में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रियंका ने कहा था, “इन दिनों बड़े-बड़े प्रचार हो रहे हैं। आप टीवी पर सुनते ही होंगे। कभी ABCD और RSVP… कभी क से कांव-कांव, ब से बंद भी तो कीजिए… आप किसी प्राथमिक पाठशाला को थोड़े संबोधित कर रहे हैं। ये देश की जनता है। जनता में विवेक है। जनता की भावना तेरे-मेरे अहंकार से काफी बड़ी होती है।”

चुनाव से जुड़ी अन्य खबरों के लिए क्लिक करें..

2014 के ही चुनाव प्रचार में नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण के दौरान भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर भी हमला बोला था और उनके गुस्से का जिक्र करते हुए कहा था, “राजीव गांधी जब राहुल गांधी से भी छोटी उम्र के थे और कांग्रेस के महासचिव थे, तब हैदराबाद गए थे। एयरपोर्ट पर उन्हें लेने आंध्र प्रदेश के सीएम आए। और पता नहीं राजीव गांधी का गुस्सा ऐसे भड़का कि आंध्र के सीएम को उन्होंने एयरपोर्ट पर अपमानित किया। आंध्र के सीएम की आंखों में आंसू आ गए थे।” प्रियंका गांधी मोदी की इस बात पर भड़क गई थीं और आरोप लगाया था कि मोदी ने उनके पिता की शहादत का अपमान किया है। अमेठी में प्रियंका ने कहा था, “मोदी ने अमेठी की धरती पर मेरे शहीद पिता का अपमान किया है। अमेठी की जनता उन्हें माफ नहीं करेगी।” लगे हाथ प्रियंका ने मोदी पर नीच राजनीति करने का भी आरोप लगाया था।

2017 में उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव प्रचार के दौरान भी प्रियंका ने नरेंद्र मोदी पर हमला बोला था। मोदी द्वारा खुद को उत्तर प्रदेश का गोद लिया बेटा कहने पर प्रियंका ने अमेठी में पलटवार करते हुए कहा था,  “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले कहा था कि वाराणसी ने मुझे गोद लिया है और मैं इसके लिए एक बेटे की तरह हूं और इसे विकसित करूंगा… लेकिन मोदीजी, क्या राज्य को बाहर से किसी को गोद लेने की जरूरत है? क्या यहां कोई युवा नहीं है? आपके सामने राहुलजी और अखिलेशजी जैसे दो युवा हैं जिनके दिल और दिमाग में यूपी है।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Election 2019 Updates: अखिलेश ने कहा, EVM को लेकर उपजे संदेह से लोकतांत्रिक प्रक्रिया पर प्रश्नचिह्न लगा
2 चुनाव 2019: आंध्र प्रदेश में भी गठबंधन नहीं, सभी सीटों पर अकेले लड़ेगी कांग्रेस
3 सर्वे: कांग्रेस को बताया गया सौ फीसदी फायदा, बड़ा सवाल- प्रियंका के आने का क्‍या होगा असर?