ताज़ा खबर
 
title-bar

प्रज्ञा की उम्मीदवारी पर ऐसे बचाव में उतरी बीजेपी, पोस्टर के जरिए कहा- अब होगा ‘न्याय’

मालेगांव ब्लास्ट के बाद ही दिग्विजय सिंह ने हिंदू आतंकवाद का मुद्दा उठाया था। अब भोपाल चुनाव में साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का सामना दिग्विजय सिंह से ही होने जा रहा है।

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर। (PTI Photo)

भाजपा ने मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को अपना उम्मीदवार बनाया है। साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर साल 2008 के मालेगांव बम धमाकों में आरोपी हैं और फिलहाल जमानत पर जेल से बाहर हैं। यही वजह है कि साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की उम्मीदवारी पर विपक्षी पार्टियां निशाना साध रही हैं। हालांकि भाजपा द्वारा प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी का बचाव किया जा रहा है। दरअसल दिल्ली-एनसीआर के इलाके में कुछ पोस्टर्स दिखाई दे रहे हैं, जिनमें साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की तस्वीर है और उन पर लिखा है कि ‘अब होगा न्याय’। टाइम्स नाउ की एक खबर के अनुसार, दिल्ली भाजपा के नेता तजिंदर सिंह बग्गा के ट्विटर अकाउंट पर भी इस पोस्टर की तस्वीर पोस्ट है।

उल्लेखनीय है कि मालेगांव ब्लास्ट के बाद ही दिग्विजय सिंह ने हिंदू आतंकवाद का मुद्दा उठाया था। अब भोपाल चुनाव में साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का सामना दिग्विजय सिंह से ही होने जा रहा है। माना जा रहा है कि भाजपा साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को उम्मीदवार बनाकर मतों का ध्रवीकरण करना चाहती है। गुरुवार को साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने एक जनसभा के दौरान जेल में मिली यातनाओं के बारे में बताते हुए भावुक हो गई। गौरतलब है कि यह पहली बार है कि आतंकवाद के किसी आरोपी को चुनाव का टिकट दिया गया है। प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ अभी भी मालेगांव विस्फोट में मामला चल रहा है। यही वजह है कि प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी के चलते भाजपा को काफी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी के खिलाफ दो याचिकाएं डाली गई हैं। एक याचिका चुनाव आयोग और दूसरी याचिका एनआईए की अदालत में दाखिल की गई है और प्रज्ञा ठाकुर के चुनाव लड़ने से रोक लगाने की मांग की गई है। एनआईए कोर्ट में याचिका मालेगांव ब्लास्ट में जान गंवाने वाले बिलाल के पिता निसार अहमद सैयद ने दाखिल की है। एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी अपनी एक जनसभा के दौरान प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से उम्मीदवार बनाए जाने पर पीएम मोदी पर निशाना साधा। ओवैसी ने कहा कि ‘देश का प्रधानमंत्री झूठों का सरदार है…आप आतंकवाद से नहीं लड़ना चाहते। यदि आप आतंकवाद से लड़ना चाहते और समझदार हैं तो आतंकवाद के आरोपी व्यक्ति को अपना उम्मीदवार नहीं बनाते।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App