ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी पर आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप, विपक्षी पार्टियों की शिकायत के बावजूद चुनाव आयोग ने नहीं लिया कोई एक्शन

Lok Sabha Election 2019: चुनाव आयोग के फुल कमिशन की बैठक हफ्ते में दो बार होती है। इसमें मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट के उल्लंघन समेत अहम मुद्दों पर चर्चा होती है। पहली शिकायत मिलने के बाद से चुनाव आयुक्तों को आदर्श तौर पर अभी तक कम से कम 6 बार पूर्ण बैठक करनी चाहिए थी।

पीएम मोदी एक जनसभा के दौरान लोगों का अभिवादन स्वीकारते हुए। (PTI Photo)

Lok Sabha Election 2019: एक कांग्रेसी सांसद ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर कहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह अपने भाषणों में लगातार मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट का उल्लंघन कर रहे हैं, लेकिन चुनाव आयोग कार्रवाई नहीं कर रहा। कांग्रेस सांसद की याचिका में चुनाव आयोग को कार्रवाई करने का निर्देश देने की मांग की गई है। सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को इस मामले पर सुनवाई करेगा। द इंडियन एक्सप्रेस को अपनी पड़ताल में जानकारी मिली है कि मोदी द्वारा कथित तौर पर आचार संहिता उल्लंघन के मामले पर चुनाव आयोग के फुल कमीशन ने 5 अप्रैल से अभी तक एक बार भी बैठक नहीं की। फुल कमिशन में चीफ इलेक्शन कमिश्नर सुनील अरोड़ा और इलेक्शन कमिश्नर अशोक लवासा और सुशील चंद्रा शामिल हैं। बता दें कि मोदी की चुनावी रैली में स्पीच को लेकर पहली शिकायत चुनाव आयोग को 5 अप्रैल को ही मिली थी।

इसके बाद से चुनाव आयोग को पीएम की चुनावी रैलियों में भाषण के खिलाफ कांग्रेस की ओर से चार और सीपीएम की ओर से एक शिकायत मिली। आम तौर पर चुनाव आयोग के फुल कमिशन की बैठक हफ्ते में दो बार होती है। इसमें मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट के उल्लंघन समेत अहम मुद्दों पर चर्चा होती है। पहली शिकायत मिलने के बाद से चुनाव आयुक्तों को आदर्श तौर पर अभी तक कम से कम 6 बार पूर्ण बैठक करनी चाहिए थी। बता दें कि पीएम के खिलाफ 5 अप्रैल को की गई पहली शिकायत उनकी 1 अप्रैल को वर्धा में हुई रैली को लेकर की गई थी। इसमें मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के केरल के वायनाड से चुनाव लड़ने पर निशाना साधा था। मोदी ने कहा था कि कांग्रेस बहुसंख्यक आबादी वाले इलाकों से हटकर वहां चुनाव लड़ रही है जहां बहुसंख्यक आबादी माइनॉरिटी में हैं।

पीएम के खिलाफ फुल कमिशन की एक बार भी बैठक न होने को लेकर द इंडियन एक्सप्रेस की ओर से भेजे गए ईमेल के जवाब में चुनाव आयोग की प्रवक्ता शेफाली बी सरन ने कहा, ‘ईसीआई के पास दर्ज कराई गई पीएम, बीजेपी अध्यक्ष और कांग्रेस से संबंधित शिकायतों के अलावा बाकी सभी मुद्दों पर कमिशन की 30 अप्रैल 2019 को होने वाली बैठक में चर्चा होगी। अगर जरूरत पड़ी तो 1 मई को दोबारा से बैठक करके इन मामलों का निस्तारण किया जाएगा।’ वहीं, सोमवार को हुई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में डिप्टी इलेक्शन कमिश्नर चंद्र भूषण कुमार ने कहा कि मोदी, शाह और राहुल गांधी से जुड़ी शिकातों पर फैसला मंगलवार को होगा। बता दें कि बीजेपी ने 16 अप्रैल को चुनाव आयोग के पास शिकायत दर्ज कराई थी कि राहुल गांधी बार बार ‘चौकीदार चोर है’ नारे का इस्तेमाल कर रहे हैं। वहीं, डिप्टी इलेक्शन कमिश्नर सुदीप जैन ने कहा कि ऐसा मामलों में फैसला ‘बेहद संजीदगी’ से लेना पड़ता है। इसके अलावा, चुनाव आयोग को इस मामलों के निस्तारण से पहले ‘व्यापक विचार’ करना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App