ताज़ा खबर
 

मृगांका सिंह को टिकट न देने से रूठे थे गुर्जर, पीएम मोदी ने पहली पंक्ति में बिठाया, मंच से की तारीफ

अपने भाषण के दौरान पीएम मोदी ने कैराना के सांसद रहे और भाजपा नेता हुकुम सिंह की तारीफ की और हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को छोटी बहन बताया।

पीएम मोदी ने सहारनपुर रैली में हुकुम सिंह और मृगांका सिंह की खूब तारीफ की। (file pic)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सहारनपुर में एक रैली को संबोधित किया। इस रैली से भाजपा ने सहारनपुर और कैराना लोकसभा सीटों के मतदाताओं को लुभाने का भरपूर प्रयास किया। इस रैली की खास बात ये रही कि पहली पंक्ति में गुर्जर नेताओं को बिठाया गया, जिनमें पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह भी शामिल थीं। बता दें कि भाजपा ने कैराना लोकसभा सीट से प्रदीप चौधरी को टिकट दिया है, जिससे मृगांका सिंह के समर्थक नाराज बताए जा रहे थे। ऐसे में माना जा रहा है कि पीएम मोदी की रैली में गुर्जर नेताओं और मृगांका सिंह को पहली पंक्ति में बिठाकर भाजपा ने इन नेताओं की नाराजगी दूर करने का प्रयास किया।

अपने भाषण के दौरान पीएम मोदी ने कैराना के सांसद रहे और भाजपा नेता हुकुम सिंह की तारीफ की और हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को छोटी बहन बताया। बता दें कि साल 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा के गुर्जर नेता हुकुम सिंह ने जाट-मुस्लिम बहुल कैराना लोकसभा सीट पर जीत दर्ज की थी। हालांकि बीते साल हुकुम सिंह के निधन के बाद हुए उप-चुनावों में यह सीट भाजपा के हाथ से निकल गई। चुनावों में भाजपा ने हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया। वहीं सपा, रालोद ने गठबंधन कर तब्बसुम हसन को अपना उम्मीदवार बनाया। बसपा और कांग्रेस ने भी तब्बसुम हसन को अपना समर्थन दिया। जिसके चलते रालोद की तब्बसुम हसन ने भाजपा की मृगांका सिंह को हरा दिया।

हालांकि तब्बसुम हसन और मृगांका सिंह के बीच हार-जीत का अंतर ज्यादा बड़ा नहीं था। ऐसे में जब आगामी लोकसभा चुनावों के लिए टिकट बांटे जा रहे थे, तो मृगांका सिंह और उनके समर्थकों को उम्मीद थी कि कैराना लोकसभा सीट से एक बार फिर पार्टी उन पर विश्वास दिखाएगी। लेकिन भाजपा ने कैराना से इस बार जाट नेता प्रदीप चौधरी को टिकट दे दिया। जिससे मृगांका सिंह के समर्थकों ने नाराजगी भी जाहिर की थी। अब चूंकि उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा और रालोद का गठबंधन है, ऐसे में कैराना सीट पर मुकाबला काफी रोचक हो गया है। गठबंधन की तरफ से एक बार फिर तब्बसुम हसन को अपना उम्मीदवार बनाया गया है। बहरहाल अब पीएम मोदी की रैली के बाद भाजपा को उम्मीद है कि पार्टी कार्यकर्ता आपसी मनमुटाव को भुलाकर पार्टी प्रत्याशी को जीत दिलाने के लिए काम करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Lok Sabha Elections 2019: चुनाव आयोग से मोदी सरकार ने कहा- NaMo TV स्‍पेशल DTH प्‍लैटफॉर्म पर, हम कार्रवाई नहीं कर सकते
2 आचार संहिता उल्‍लंघन: हेमा मालिनी के खिलाफ एफआईआर, बिना इजाजत की थी जनसभा
3 Lok sabha Elections 2019: मायावती ने पहली बार अमेठी और रायबरेली में नहीं उतारे उम्मीदवार