ताज़ा खबर
 

PM मोदी ने साध्वी प्रज्ञा के गोडसे वाले बयान को बताया बहुत खराब, कहा- उन्हें दिल से नहीं कर पाऊंगा माफ

प्रज्ञा के बयान पर पीएम मोदी ने कहा- 'गांधी जी या गोडसे के बारे में जो बयान दिए गए हैं वो बहुत ख़राब है और समाज के लिए बहुत गलत हैं।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर और पीएम नरेन्द्र मोदी, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

साध्वी प्रज्ञा ने हाल ही में नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहा था। उनके इस बयान के बाद उन्हें काफी आलोचनाएं झेलनी पड़ीं। वहीं बीजेपी ने भी तुंरत ही प्रज्ञा के बयान से पल्ला झाड़ लिया और कुछ वक्त के बाद ही पार्टी ने कहा कि प्रज्ञा ने अपने बयान के लिए माफी मांगी है। लेकिन अब इस मामले में पीएम मोदी का बयान आया है। पीएम मोदी ने कहा- ‘गांधी जी या गोडसे के बारे में जो बयान दिए गए हैं वो बहुत ख़राब है और समाज के लिए बहुत गलत हैं। ये अलग बात है की उन्होंने माफ़ी मांग ली, लेकिन मैं उन्हें मन से कभी माफ़ नहीं कर पाऊंगा।’ बता दें कि पीएम का बयान बीजेपी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर आया है।

भोपाल से बीजेपी प्रत्याशी हैं प्रज्ञा: गौरतलब है कि भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था। प्रज्ञा ने कहा था- नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, देशभक्त हैं और देशभक्त रहेंगे।’ हालांकि प्रज्ञा के बयान पर तुरंत बीजेपी ने पल्ला झाड़ लिया था। वहीं बाद में पार्टी ने बताया था कि प्रज्ञा ने अपने बयान पर माफी मांगी है।

एक्शन में शाह: नाथूराम गोडसे पर बयान के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाहा का एक्शन अवतार नजर आया और उन्होंने अनंत कुमार हेगड़े, प्रज्ञा सिंह ठाकुर को इस मामले में नोटिस जारी किया है।

साध्वी के बाद हेगड़े का ट्वीट: साध्वी के बाद केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने नाथूराम गोडसे के ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट हुआ था जिसमें लिखा था- गोडसे के प्रति नजरिया बदलने की जरूरत है और माफी मांगने की जरूरत नहीं है। हालांकि इस ट्वीट के बाद अनंत का दूसरा ट्वीट सामने आया जिसमें उन्होंने दावा किया कि उनका अकाउंट हैक हो गया था और नाथूराम गोडसे का ट्वीट उन्होंने नहीं किया था।

कमल हासन का बयान: दरअसल नाथूराम का मुद्दा हाल ही में कमल हासन के बयान के बाद से चर्चा में आया है। गौरतलब है कि तमिलनाडु में चुनाव प्रचार के दौरान कमल हासन ने कहा था- ‘आजाद भारत का पहला आतंकवादी एक हिंदू था और उसका नाम नाथूराम गोडसे था। मैं यह इसलिए नहीं कह रहा हूं क्योंकि यहां पर कई सारे मुस्लिम मौजूद हैं। मैं महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने खड़े होकर यह कह रहा हूं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App