ताज़ा खबर
 

BJP नेताओं को मां की गाली देने वाले मंत्री राजभर बर्खास्त, सीएम योगी ने राज्यपाल से की थी सिफारिश

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पिछड़ा वर्ग कल्याण और दिव्यांग जन कल्याण मंत्री ओमप्रकाश राजभर को मंत्रिमंडल से तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया है। बता दें कि राजभर लगातार बीजेपी के खिलाफ बयानबाजी कर रहे थे।

Author लखनऊ | May 20, 2019 11:08 AM
ओमप्रकाश राजभर। फोटो सोर्स : एएनआई

Lok Sabha Election 2019: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पिछड़ा वर्ग कल्याण और दिव्यांग जन कल्याण मंत्री ओमप्रकाश राजभर को मंत्रिमंडल से तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया है। इस संबंध में सीएम योगी ने राज्यपाल से सिफारिश की थी, जिसे मंजूर कर लिया गया। बता दें कि राजभर लगातार बीजेपी के खिलाफ बगावती तेवर अपनाए हुए थे। वहीं, कुछ दिन पहले उन्होंने बीजेपी के नेताओं को मां की गाली तक दे डाली थी। वहीं, लोकसभा चुनाव में उन्होंने बीजेपी के खिलाफ अपने प्रत्याशी उतारे थे। साथ ही, विरोधी दलों को समर्थन देने की बात भी कही थी।

इस्तीफा देने से किया इनकार: मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजभर से पहले इस्तीफा देने की मांग की गई थी, लेकिन उन्होंने इस्तीफा देने से साफ इनकार कर दिया। इसके बाद सीएम योगी ने राज्यपाल राम नाईक को पत्र लिखकर ओम प्रकाश राजभर को बर्खास्त करने की सिफारिश की।

National Hindi News, 20 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

इस पार्टी के प्रमुख हैं राजभर: बता दें कि ओम प्रकाश राजभर सुहेलदेव समाज पार्टी के प्रमुख हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में यह दल बीजेपी का सहयोगी था। वहीं, प्रदेश में सरकार बनने के बाद राजभर को मंत्री पद भी सौंपा गया था। इसके बाद वह लगातार बीजेपी के खिलाफ बयानबाजी कर रहे थे।

सीएम ऑफिस ने की पुष्टि: उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करने की सिफारिश राज्यपाल से की है। बता दें कि राजभर ने कुछ समय पहले इस्तीफा दिया था, जिसे स्वीकार नहीं किया गया था।

राजभर ने फैसले का किया स्वागत: ओम प्रकाश राजभर ने उत्तर प्रदेश सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा, मुख्यमंत्री ने बहुत अच्छा फैसला लिया है। उन्होंने सामाजिक न्याय समिति का गठन किया और इसकी रिपोर्ट को डस्टबिन में फेंक दिया। उनके पास इस रिपोर्ट को लागू करने का वक्त नहीं था। मैंने उनसे सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट को जल्द से जल्द लागू करने की बात कही तो उन्होंने आज यह फैसला ले लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X