ताज़ा खबर
 

Election Results 2019: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘इंक्रीमेंट’ में दलितों, आदिवासियों का बड़ा योगदान! अतिरिक्त सांसदों में से आधे सुरक्षित सीटों से जीते

Chunav Result 2019, Lok Sabha Election Results 2019: भाजपा ने साल 2014 के 282 सीटों की तुलना में इस बार 303 सीटें जीती हैं। पार्टी की तरफ से इस बार जीती गई अतिरिक्त 21 सीटों में आधे से अधिक 10 सांसद सुरक्षित सीटों से जीत कर संसद पहुंच हैं।

2019 में भाजपा की तरफ से 77 एससी/एसटी, आदिवासी सांसद चुने गए हैं। (फोटोःपीटीआई)

Election Results 2019: भाजपा की साल 2019 के लोकसभा चुनाव में जबरदस्त जीत में दलित समुदाय का भी अहम योगदान है। भाजपा ने पिछले बार (282 सीट) के मुकाबले इस बार 21 (303 सीट) अतिरिक्त सीटें जीती हैं। इन नव निर्वाचित सांसदों में से करीब आधे सांसद (21 में से 10) सुरक्षित सीटों से चुनाव जीते है।

इस बार का चुनाव परिणाम दर्शाता है कि दलित समुदाय में भाजपा की पहुंच और स्वीकार्यता पहले की तुलना में बढ़ी है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार साल 2014 में अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित 131 लोकसभा सीटों में 67 सीटें भाजपा ने जीती थी। इस बार जीत का यह आंकड़ा बढ़ कर 77 हो गया है।

यह परिणाम दिखाते हैं कि किस तरह से पार्टी दलित और आदिवासी समुदाय को अपनी तरफ मोड़ने में सफल रही है। एससी/एसटी सांसदों की संख्या के लिहाज से कांग्रेस दूसरे स्थान पर है। हालांकि, कांग्रेस को इस बार तीन सुरक्षित सीटों पर हार का सामना करना पड़ा है।

इसके बावजूद कुल मिलाकर संसद में सुरक्षित सीटों से जीतने वाले सांसदों की संख्या 44 से बढ़कर 52 हुई है। वहीं कांग्रेस को थोड़ा झटका लगा है। पार्टी 2014 के 12 सीटों के मुकाबले इस बार 9 सुरक्षित सीटों पर जीत हासिल करने में सफल रही है। यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के नेतृत्व वाली बसपा को इस बार उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 17 सुरक्षित सीटों पर उम्मीदवार खड़ा करने का मौका मिला था।

इसके बावजूद बसपा के सिर्फ 2 उम्मीदवार ही चुनाव जीतने में सफल रहे। दलितों की पार्टी माने जानी वाली बसपा अन्य राज्यों, जहां पार्टी ने सुरक्षित सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए थे वहां खाता भी नहीं खोल पाई।

भाजपा के अनुसूचित जाति के 46 सांसदः जहां तक कुल 84 एससी श्रेणी की सीटों का सवाल है, उनमें से 46 पर भाजपा के उम्मीदवार जीत दर्ज करने में सफल रहे हैं। साल 2014 में भाजपा का यह आंकड़ा 40 था। इनमें से सबसे अधिक 14 सांसद यूपी से जीते थे। वहीं बंगाल और कर्नाटक से 4-5 जबकि मध्यप्रदेश और राजस्थान से 4-4 उम्मीदवार संसद पहुंचने में सफल रहे। इसी तरह 2014 में 27 सांसद एसटी थे जो इस बार बढ़कर 31 हो गए हैं। यहां भी भाजपा के बाद कांग्रेस ही दूसरे स्थान पर है।

इन राज्यों में भाजपा ने जीती सभी सुरक्षित सीटेंः देश के कुछ राज्य ऐसे भी हैं जहां भाजपा ने सभी सुरक्षित सीटों पर जीत दर्ज की। इन राज्यों में मध्य प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान और गुजरात शामिल हैं। पिछले परिसीमन आयोग 2008 के अनुसार देश में 412 सीटें सामान्य, 84 सीटें अनुसूचित जाति और 47 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए तय की गई हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X