ताज़ा खबर
 

Election 2019: यूपी में सपा-बसपा के साथ कांग्रेस ने भी काटे मुस्लिम प्रत्याशियों के टिकट, यहां देखें पूरी रिपोर्ट

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): बात चाहें गठबंधन की हो या फिर कांग्रेस की। इस बार सभी ने मुस्लिम प्रत्याशियों का टिकट काटा है।

यूपी में मुस्लिम प्रत्याशियों का रिपोर्ट कार्ड, फोटो सोर्स- जनसत्ता

Lok Sabha Election 2019:  2019 लोकसभा चुनाव के दो चरणों के मतदान हो चुके हैं और तीसरे चरण में 23 अप्रैल को कुल 16 राज्यों की 117 सीटों पर वोटिंग होगी। इस बार जैसे सातों चरण में तीसरे चरण की वोटिंग काफी अहम है। वैसे ही उत्तर प्रदेश शुरू से ही देश की राजनीति का एक अहम हिस्सा रहा है। वहीं उत्तर प्रदेश की राजनीति में मुस्लिम वोटर्स और मुस्लिम प्रत्याशियों का भी अहम रोल रहता है। बता दें कि बात चाहें गठबंधन की हो या फिर कांग्रेस की। इस बार सभी ने मुस्लिम प्रत्याशियों का टिकट काटा है।

13 सीटों पर 30 प्रतिशत से ज्यादा आबादी मुस्लिमों की: उत्तर प्रदेश में करीब 19.26 प्रतिशत मुस्लिम आबादी है। वहीं प्रदेश में 13 लोकसभा सीटें ऐसी हैं जहां 30 प्रतिशत से ज्यादा मुस्लिम हैं। वहीं 15 प्रतिशत से अधिक आबादी वाली सीटों की संख्या 32 है।

सपा-बसपा और कांग्रेस ने काटा मुस्लिम प्रत्याशियों का टिकट: बता दें कि पिछले चुनाव में सपा-बसपा और कांग्रेस की ओर से 41 मुस्लिम प्रत्याशी मैदान में थे। वहीं इस बार इन दलों से सिर्फ 19 प्रत्याशी मैदान में है। वहीं जिन सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान नहीं हुआ है। उन सीटों पर एक या दो ही मुस्लिम प्रत्याशियों की उम्मीद है।

सपा का रिपोर्ट कार्ड: समाजवादी पार्टी ने 2014 लोकसभा चुनाव में 80 में से 78 सीटों पर प्रत्याशी मैदान में उतारे थे। इनमें से 13 सीटों पर मुस्लिम दावेदार थे। वहीं इस बार की बात करें तो सपा-बसपा-रालोद गठबंधन में सपा को 37 सीटें मिली हैं। इनमें से 30 प्रत्याशियों के नाम सामने आ चुके हैं। इन 30 उम्मीदवारों में महज पांच ही मुस्लिम प्रत्याशी हैं।

बसपा का रिपोर्ट कार्ड: बहुजन समाज पार्टी ने 2014 लोकसभा चुनाव में 80 सीटों पर प्रत्याशी उतारे थे। तब 80 में से 19 प्रत्याशी मुस्लिम थे। वहीं इस बार गठबंधन में 38 सीटें मिली हैं और सभी सीटों पर प्रत्याशियों का ऐलान हो चुका है। इन 38 उम्मीदवारों में से सिर्फ 6 मुस्लिम प्रत्याशी हैं।

कांग्रेस का रिपोर्ट कार्ड: सपा और बसपा के बाद अगर कांग्रेस की बात करें तो पार्टी ने 9 मुस्लिम प्रत्याशियों को टिकट दिया है। कांग्रेस ने इस चुनाव में सपा और रालोद नेताओं के समर्थन में 6 और दो सीटें सहयोगी दलों के लिए छोड़ दी हैं। वहीं 72 सीटों में से 66 सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान हो चुका है। बता दें कि 2014 में भी 67 सीटों में से 9 सीटों पर पार्टी ने मुस्लिम प्रत्याशी को मौका दिया था।

भाजपा का रिपोर्ट कार्ड: भारतीय जनता पार्टी ने न तो 2014 में प्रदेश में एक भी मुस्लिम उम्मीदवार को उतारा था और न ही 2019 में।

इन सीटों पर मुस्लिम वोटर्स हैं अहम: उत्तर प्रदेश में 32 सीटों पर मुसलमानों का वोट बेहद अहम है। दरअसल 13 सीटें ऐसी है जहां मुस्लिमों की आबादी 30 फीसदी से भी ज्यादा है। यह सीटे हैं- सहारनपुर, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, अमरोहा, नगीना, मेरठ, कैराना, मुरादाबाद, संभल, बरेली, रामपुर, बहराइच और श्रावस्ती। वहीं इन 13 सीटों के अलावा 32 सीटें ऐसी हैं जहां 15 प्रतिशत से अधिक मुस्लिम हैं।

 

उत्तर प्रदेश में कैसा है मुस्लिम सांसदों का रिपोर्ट कार्ड:
1980 18
1984 12
1989 8
1991 3
1996 5
1998 6
1999 8
2004 10
2009 7
2014 0

Next Stories
1 Election 2019: दंगों के दाग भुला चुके हैं गोधरा के मुसलमान, बताया बीजेपी को समर्थन देने की वजह
2 वोटरों से बोले CM कमलनाथ- अगर मेरा बेटा काम न करे तो उसके कपड़े फाड़ देना
3 Lok Sabha Election 2019: गोवा के आर्क बिशप बोले- सांप्रदायिक और बांटने वाला नेता न चुनें लोग, 7 दिन पहले भी की थी बीजेपी को वोट न देने की अपील
ये पढ़ा क्या?
X