ताज़ा खबर
 

मप्र चुनाव: सिंधिया को कमजोर करने की चाल, प्रबल समर्थक के बेटे को ही नहीं दिया टिकट

कांग्रेसी राजनीति में चुनाव से पहले दो ध्रुव साफ नजर आ रहे हैं। सिंधिया ने सत्यव्रत चतुर्वेदी के बेटे को टिकट दिलाने का पूरा जोर लगाया, मगर सामने खड़े गुट ने विरोध किया। विरोधी गुट किसी भी सूरत में सिंधिया को मजबूत नहीं रहने देना चाहता।

Author November 5, 2018 7:22 PM
भोपाल में पार्टी नेताओं के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी। (फोटो- पीटीआई)

राजनीति में कहा जाता है कि ‘जब ताकतवर नेता से सीधे न टकरा सको तो पहले उसके सबसे बड़े हिमायती को कमजोर करो।’ मध्यप्रदेश के कांग्रेस नेताओं ने इसी तर्ज पर प्रचार अभियान के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया को कमजोर करने की चाल चली है और उसमें वे सफल होते भी नजर आ रहे हैं। विरोधियों ने सिंधिया के पक्ष में सबसे ज्यादा आवाज उठाने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी के बेटे को ही उम्मीदवार न बनाकर अपनी रणनीति का संदेश तो दे ही दिया है।

राज्य की कांग्रेसी राजनीति में चुनाव से पहले दो ध्रुव साफ नजर आ रहे हैं। एक तरफ सिंधिया हैं तो दूसरी ओर प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के नेतृत्व वाला खेमा है। कमलनाथ के खेमे में आगे बढ़कर सारी बात रखने की जिम्मेदारी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के पास होती है। यही कारण है कि पिछले दिनों बैठक में सिंधिया और दिग्विजय के बीच बहस होने और राहुल गांधी द्वारा दोनों को समझाए जाने की बात सामने आई थी। यह बात अलग है कि दिग्विजय ने इस बात का खंडन किया था।

कांग्रेस के सूत्रों का कहना है कि सिंधिया ने चतुर्वेदी के बेटे को टिकट दिलाने का पूरा जोर लगाया, मगर सामने खड़े गुट ने विरोध किया। विरोधी गुट किसी भी सूरत में सिंधिया को मजबूत नहीं रहने देना चाहता। लिहाजा, उसने सारे दांव-पेच खेलकर चतुर्वेदी के बेटे को टिकट नहीं मिलने दिया। यह फैसला सिंधिया के लिए राजनीतिक तौर पर बड़ा नुकसानदेह और पार्टी के भीतर कमजोर होने की तरफ इशारा भी करता है।

बुंदेलखंड के बड़े हिस्से में कांग्रेस कार्यकर्ता पार्टी के फैसले से नाराज हैं। कार्यकर्ता रविवार को चतुर्वेदी के निवास पर भी पहुंचे। सभी ने चतुर्वेदी के बेटे को हर हाल में चुनाव लड़ाने की बात कही। पार्टी कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस फैसले का पूरे बुंदेलखंड की राजनीति पर बड़ा असर पड़ेगा। चतुर्वेदी ने इसी साल राज्यसभा का कार्यकाल खत्म होते ही राजनीति से संन्यास लेने का फैसला ले लिया था, मगर वह भाजपा के खिलाफ हर स्तर पर संघर्ष के लिए तैयार थे। उन्होंने सिंधिया के लिए राज्य में मुहिम भी चलाई।पार्टी हाईकमान के कहने पर चतुर्वेदी ने समन्वय समिति का सदस्य बनना स्वीकारा और अपने धुर विरोधी दिग्विजय सिंह के साथ राज्य का दौरा भी किया, मगर विरोधी गुट ने चतुर्वेदी के जरिए सिंधिया को ‘जोर का झटका धीरे से’ दे ही दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App