ताज़ा खबर
 

MCD Chunav 2017: बीजेपी के 6 कैंडिडेट का पर्चा रद्द होने के पीछे साजिश, अमित शाह के लिस्ट में किसने की हेरफेर?

इस गड़बड़ी के पीछे पार्टी के किसी नेता का ही हाथ होने की संभावना है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह दिल्ली नगर निगम चुनावों की तैयारी पर खुद निगाह रखे हुए हैं, बीजेपी सूत्रों के मुताबिक इस गड़बड़ी में जिस शख़्स का भी नाम आएगा पार्टी उसे बख्शने के पक्ष में नहीं है।

दिल्ली नगर निगम चुनाव के लिए नया गाना लॉन्च करते दिल्ली बीजेपी के नेता (Source-EXPRESS PHOTO)

अंग्रेजी में एक कहावत जिसका अर्थ है कि अगर किसी काम की अच्छी शुरुआत हो जाए तो समझिए कि वो काम आधा पूरा हो गया। लेकिन दिल्ली नगर निगम का चुनाव फतह करने उतरी बीजेपी की शुरुआत ठीक इस मुहावरे के अर्थ के विपरीत हुई है। बीजेपी ने अभी चुनाव भी नहीं लड़ा है लेकिन दिल्ली एमसीडी के 272 में से 6 सीटें पार्टी हार गई है। चुनाव आयोग ने नॉमिनेशन पेपर में गलतियों की वजह से बीजेपी के 6 कैंडिडेट का नामांकन रद्द कर दिया है। लेकिन दिल्ली बीजेपी के नेता इस गड़बड़ी में साजिश का एंगल बता रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक कुछ लोगों ने उम्मीदवारों की अंतिम लिस्ट जारी करने में जानबूझकर 6 घंटे की देरी की। बीजेपी नेतृत्व ने पर्चा भरने के अंतिम दिन उम्मीदवारों की सूची जारी की थी, लेकिन उम्मीदवारों तक ये सूची पहुंचते पहुंचते दोपहर हो गये। जल्दबाजी में पर्चा भरने की वजह से सारी औपचारिकताएं पूरी नहीं की जा सकी और 6 कैंडिडेट्स का नॉमिनेशन कैंसिल हो गया। बता दें कि बापरोला, त्रिलोकपुरी, अबुल फजल इंक्लेव, विनोद नगर, किशनगंज और लाडोसराय सीट से बीजेपी कैंडिडेट का पर्चा चुनाव आयोग से खारिज कर दिया है।

आधा दर्जन उम्मीदवारों का पर्चा खारिज होने से बीजेपी में अंदरखाने में खलबची मची हुई है, पार्टी को जनता के बीच शर्मिंदगी झेलने पड़ रही है और केन्द्रीय नेतृत्व ने दिल्ली बीजेपी से रिपोर्ट मांगी है कि आखिर ये गड़बड़ी कैसे हुई? अंग्रेजी वेबसाइट इंडियाटुडे की रिपोर्ट के मुताबिक इस गड़बड़ी के पीछे पार्टी के किसी नेता का ही हाथ होने की संभावना है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह दिल्ली नगर निगम चुनावों की तैयारी पर खुद निगाह रखे हुए हैं, बीजेपी सूत्रों के मुताबिक इस गड़बड़ी में जिस शख़्स का भी नाम आएगा पार्टी उसे बख्शने के पक्ष में नहीं है।

सोमवार (3 अप्रैल) को अमित शाह ने 10.30 बजे सुबह तक पार्टी उम्मीदवारों का नाम फाइनल कर दिया था लेकिन इस लिस्ट को 5 घंटे के बाद घोषित कया गया। पार्टी ने उम्मीदवारों के नॉमिनेशन पेपर को देखने के लिए 80 वकील और 24 चार्टर्ड एकाउंटेंट की भारी भरकम टीम तैनात की थी बावजूद इसके 6 कैंडिडेट का पर्चा रद्द होने से बीजेपी के केन्द्रीय नेतृत्व में नाराजगी है। इस मुद्दे पर चर्चा के लिए गुरुवार को पार्टी के महासचिव रामलाल ने गुरुवार (6 अप्रैल) को एक हाईलेवल मीटिंग की थी, इस मीटिंग में केन्द्रीय मंत्री और दिल्ली बीजेपी के नेता विजय गोयल, दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी और विधायक विजेन्दर गुप्ता, और दिल्ली बीजेपी के महासचिव मौजूद थे, इनसे अमित शाह की ओर से इस गड़बड़ी पर सफाई मांगी गई।

उम्मीदवारों की लिस्ट में देरी की वजह को बताते हुए बीजेपी के एक नेता ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष अमित साह ने सुबह 10.30 बजे 1.6 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया था, फिर साढ़े तीन बजे एक आधी-अधूरी लिस्ट जारी की गई। इंडियाटुडे की रिपोर्ट के मुताबिक सूत्र बताते हैं कि साढ़े दस से साढ़े तीन बजे तक कई उम्मीदवारों के नाम बदले गये, इसलिए लिस्ट देर से जारी की गई। इन खबरों से केन्द्रीय नेतृत्व बेहद खफा है और दिल्ली बीजेपी के नेताओं से रिपोर्ट तलब की है।

मनोज तिवारी को दिल्ली बीजेपी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया; नित्यानंद बने बिहार बीजेपी के अध्यक्ष

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App