ताज़ा खबर
 

दिल्ली नगर निगम: पुराने उम्मीदवारों को टिकट नहीं मिलने से मतदाता मायूस

तिलक नगर विधानसभा क्षेत्र में कई लोगों की राय है कि अगर मौजूदा पार्षदों को टिकट मिलता तो उनकी जीत के काफी आसार थे।

प्रतीकात्मक फोटो

नगर निगम चुनाव में कई मौजूदा पार्षदों को टिकट नहीं दिए जाने के कदम को जनता कैसे लेगी यह कहना मुश्किल है। तिलक नगर विधानसभा क्षेत्र में कई लोगों की राय है कि अगर मौजूदा पार्षदों को टिकट मिलता तो उनकी जीत के काफी आसार थे। तीन में से दो वार्ड पर भाजपा के पार्षद काबिज हैं और एक में कांग्रेस के, लेकिन इन तीनों को टिकट नहीं मिलने से अब सभी सीटों पर मुकाबला लगभग त्रिकोणीय है। जहां भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों की जीत उनके अपने संपर्क और प्रचार पर टिकी है वहीं आप उम्मीदवारों का प्रदर्शन उसके मौजूदा विधायक जरनैल सिंह के कामों से भी प्रभावित होगा। तिलकनगर विधानसभा क्षेत्र के अंदर केशोपुर, तिलकनगर और महावीर नगर वार्ड आते हैं।

तिलकनगर वार्ड से भाजपा के रविंद्र सिंह, कांग्रेस के अशोक कुमार और आप के गुरमुख सिंह बिट्टू प्रत्याशी हैं। इस वार्ड में तिलकनगर के 25 में से 16 ब्लॉक, तिलक विहार के कुछ क्षेत्र, और अनधिकृत कालोनी शाहपुरा का कुछ हिस्सा आता है। तिलकनगर एक तरह से मिनी पंजाब कहलाता है क्योंकि यहां लगभग 80 फीसद आबादी सरदारों की है। ऐसे में यहां से कांग्रेस की उम्मीद कम है। तिलक नगर मार्केट के रहने वाले और कपड़े की दुकान चलाने वाले अमरजीत सिंह ने कहा कि निवर्तमान भाजपा पार्षद रीतू वोहरा यहां काफी लोकप्रिय हैं, लेकिन भाजपा ने उन्हें टिकट नहीं दिया, हम तो वोट ही नहीं देंगे। वहीं गुरप्रीत सिंह ने कहा कि रीतू वोहरा ने काफी काम किया है। पास ही में 100 बिस्तरों का निगम का अस्पताल बन रहा है। भाजपा के वर्तमान प्रत्याशी को तो लोग जानते तक नहीं, जबकि आप और कांग्रेस के प्रत्याशी यहीं इसी वार्ड में रहते हैं। सीडी की दुकान चलाने वाले भवनीत सिंह का कहना था कि विधायक जनरैल सिंह के काम से वो खुश हैं। भवनीत ने कहा कि उनका 12000 रुपए का पानी का बिल जनरैल सिंह ने 2000 रुपए का करवा दिया। उन्होंने काम किया है, लोग अब निगम में भी बदलाव चाहते हैं। तिलक नगर मार्केट में सार्वजनिक शौचालय और पार्किंग की समस्या से लोग परेशान हैं और दुकानदार नोटबंदी के प्रभाव को अभी तक झेलते दिखे। शाहपुरा में भी लोग जनरैल सिंह के काम से खुश दिखे और भाजपा प्रत्याशी पर सवाल उठाए।

केशोपुर वार्ड से वर्तमान में कांग्रेस की अमृता धवन पार्षद हैं, लेकिन उन्हें एनएसयूआइ का अध्यक्ष बनाने के कारण इस बार पार्टी ने उनकी बहन शिल्पा कपूर को टिकट दिया है। वहीं भाजपा से यहां श्वेता सैनी और आप से नरींद्र पाल कौर खड़ी हैं। इस वार्ड में केशोपुर गांव, किशनपुर टैंक और विकासपुरी, शाहपुरा और तिलक विहार के कुछ क्षेत्र आते हैं। केशोपुर गांव में आटा चक्की चलाने वाले सुरेंद्र कौशिक ने कहा, ‘अमृता धवन की छवि काफी अच्छी है। इसका फायदा उनकी बहन को मिलेगा। अमृता खुद खड़ी होतीं तो उनकी जीत पक्की थी।’

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली नगर निगम चुनाव: लड्डुओं से तुल रहे उम्मीदवार, हो रही हैं नुक्कड़ बैठक
2 आप का अमित शाह को पत्र, लिखा- भाजपा ने निगम को बनाया भ्रष्टाचार का अड्डा
3 उत्तर-पूर्वी दिल्ली : प्रचार में मात देने की होड़ में कांग्रेस और भाजपा