ताज़ा खबर
 

ममता बनर्जी का अमित शाह पर हमला, पूछा- क्या वह भगवान हैं, जो उनके खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): पश्चिम बंगाल के कोलकाता में मंगलवार (14 मई) शाम टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प के बाद सीएम ममता बनर्जी ने अमित शाह पर तीखा हमला बोला। उन्होंने सवाल पूछा कि क्या अमित शाह भगवान हैं, जो उनके खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता।

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी। फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

Lok Sabha Election 2019: पश्चिम बंगाल के कोलकाता में मंगलवार (14 मई) शाम टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प के बाद सीएम ममता बनर्जी ने अमित शाह पर तीखा हमला बोला। उन्होंने सवाल पूछा कि क्या अमित शाह भगवान हैं, जो उनके खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता।

बता दें कि टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं की झड़प के दौरान 19वीं सदी के समाज सुधारक ईश्वरचंद विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ दी गई। इसका आरोप बीजेपी कार्यकर्ताओं पर लगाया गया है। बवाल के बाद ममता बनर्जी ने उत्तरी कोलकाता स्थित विद्यासागर कॉलेज का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कहा, ‘‘अमित शाह अपने बारे में क्या सोचते हैं? क्या वह सबसे ऊपर हैं? क्या वह भगवान हैं, जो कोई उनका विरोध नहीं कर सकता है?’’

National Hindi News, 15 May 2019 LIVE Updates: पढ़ें आज की बड़ी खबरें

ममता बनर्जी ने कहा, ‘‘वे इतने असभ्य हैं कि उन्होंने विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ दी। वे बाहरी हैं। बीजेपी मतदान के दिन हिंसा भड़काने के लिए उन्हें लाई है। बता दें कि कोलकाता में अमित शाह के रोड शो के दौरान बीजेपी और टीएमसी समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें हुईं। हालांकि, इस घटना में अमित शाह को चोट नहीं लगी।

जानकारी के मुताबिक, कोलकाता में हिंसा उस वक्त भड़की, जब विद्यासागर कॉलेज में टीएमसी के कथित समर्थकों ने अमित शाह के काफिले पर पथराव किया। इसके बाद दोनों पार्टियों के समर्थकों में झड़पे होने लगी। गुस्साए बीजेपी समर्थक भी कॉलेज के एंट्री गेट के बाहर टीएमसी कार्यकर्ताओं से मारपीट करते नजर आए।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि टीएमसी के गुंडों ने मुझ पर हमला करने की कोशिश की। ममता बनर्जी ने हिंसा भड़काने का प्रयास किया, लेकिन मैं सुरक्षित हूं। शाह ने आरोप लगाया कि झड़प के दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी रही। वहीं, मुझे श्रद्धांजलि देने के लिए स्वामी विवेकानंद के आवास पर नहीं जाने दिया गया। मैं इससे दुखी हूं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App