ताज़ा खबर
 

Maharashtra Elections 2019: पीएम मोदी की पुणे रैली के लिए काटे गए पेड़, विपक्ष का आरोप

PM Modi Pune Rally, Maharashtra Assembly Elections 2019: एनसीपी सांसद वंदना चव्हाण ने आरोप लगाया कि जिस मैदान में रैली होनी है, उसके बाहर लगे पेड़ों को कॉलेज प्रशासन द्वारा काटा गया। उन्होंने कहा, इस कठोर कृत्य के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

Author पुणे | Updated: October 15, 2019 6:40 PM
पुणे के एसपी कॉलेज में काटे गए पेड़ फोटो सोर्स- आशीष काले

PM Modi Pune Rally Tree Controversy: महाराष्ट्र में विपक्षी दलों ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 17 अक्टूबर को होने वाली रैली के लिए पुणे के सर परशुराम कॉलेज परिसर में कुछ पेड़ सोमवार को काट दिए गए। प्रधानमंत्री की रैली इसी कॉलेज के मैदान पर होनी है। कॉलेज के अधिकारियों ने मंगलवार को इस आरोप से इनकार किया और कहा कि खतरनाक तरीके से लटक रहीं कुछ शाखाएं काटी गयी हैं। ऐसा वहां खेलने वाले छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए किया गया है और उसका प्रधानमंत्री के कार्यक्रम से कोई लेना-देना नहीं है।

विपक्ष का आरोप: एनसीपी सांसद वंदना चव्हाण ने आरोप लगाया कि जिस मैदान में रैली होनी है, उसके बाहर लगे कुछ पेड़ों को कॉलेज प्रशासन द्वारा काटा गया। उन्होंने कहा, ‘‘हमें मिली जानकारी के अनुसार, पेड़ों को तने से काटा गया है जो अस्वीकार्य है।’’ उन्होंने इस ‘‘कठोर कृत्य’’ के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) की नेता रूपाली पाटिल ने भी कहा कि पेड़ काटे गए हैं। उन्होंने दावा किया कि उन लोगों ने पेड़ों को काट दिया क्योंकि उन्हें लगता है कि पेड़ों से प्रधानमंत्री की रैली में बाधा आएगी।

कॉलेज परिसर में कटे पेड़ (फोटो- आशीष काले)

बीजेपी ने किया खंडन: मामले में पुणे भाजपा इकाई की अध्यक्ष माधुरी मिसाल ने आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि पेड़ों के काटने का प्रधानमंत्री के कार्यक्रम से कोई संबंध नहीं है। वह कॉलेज का संचालन करने वाली शिक्षण प्रसारक मंडली के ट्रस्टियों में से एक हैं। उनहोंने कहा कि हाल की बारिश में दो पेड़ गिर गए थे। उस मैदान पर मंडली के पांच संस्थानों के छात्र खेलते हैं, इसलिए यह उनकी सुरक्षा का विषय हो सकता है।

पुणे नगर निगम से ली थी अनुमति: बीजेपी नेता माधुरी मिसाल ने कहा कि हमने पुणे नगर निगम के उद्यान विभाग से कुछ पेड़ों को काटने की अनुमति मांगी। उन्होंने कहा कि अनुमति मिलने के बाद सोमवार को पेड़ों को काटा गया। इसका प्रधानमंत्री की रैली से कोई संबंध नहीं है क्योंकि रैली के लिए मंच ऐसे स्थान पर बनाया जा रहा है जो वहां से दूर है जहां कुछ पेड़ काटे गए हैं। दोनों चीजें अलग हैं। निगम के एक अधिकारी ने कहा कि पेड़ों को काटने की अनुमति 14 अक्टूबर को जारी की गयी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘हरियाणा को राष्ट्रवाद न सिखाए BJP’ यहां के जितने जवान शहीद हुए, उतने तो Gujarat से सेना में भर्ती भी नहीं हुए; दुष्यंत चौटाला बोले
2 Maharashtra Elections 2019: उद्धव ठाकरे की रैली के लिए तोड़ी स्कूल की दीवार, परीक्षा की डेट तक बदल डाली
3 विधानसभा चुनाव 2019: पीएम मोदी ने हरियाणा को इज ऑफ डूइंग बिजनेस में नंबर 3 पर बताया, कहा 5 वर्षों में सर्वाधिक निवेश हुआ