ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: बीजेपी 300 के पास और NDA 300 पार- संस्कृत लेक्चरर ने बताया अपना आकलन, हुए सस्पेंड

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी की बंपर जीत का अनुमान लगाना उज्जैन की एक यूनिवर्सिटी के लेक्चरर को भारी पड़ गया। मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने यूनिवर्सिटी अधिनियम 1973 के तहत अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें सस्पेंड कर दिया।

Author May 14, 2019 8:32 AM
उज्जैन स्थित विक्रम यूनिवर्सिटी के लेक्चरर राजेश्वर शास्त्री मुसलगांवकर। फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

Lok Sabha Election 2019: मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने सोमवार को उज्जैन की विक्रम यूनिवर्सिटी के एक लेक्चरर को सस्पेंड कर दिया। लेक्चरर का गुनाह सिर्फ इतना था कि उन्होंने लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी की बंपर जीत का अनुमान लगाया था। उन पर अनुशासनात्मक आधार पर कार्रवाई की गई। बता दें कि राज्य सरकार के उच्च शिक्षा विभाग ने लेक्चरर पर एमपी यूनिवर्सिटी अधिनियम 1973 के तहत कार्रवाई करने की सिफारिश की थी।

ज्योतिष के आधार पर की थी भविष्यवाणी: लेक्चरर राजेश्वर शास्त्री मुसलगांवकर ने लोकसभा चुनाव के नतीजों के संबंध में ज्योतिष के आधार पर भविष्यवाणी की थी। साथ ही, इसे 29 अप्रैल 2019 को फेसबुक पर पोस्ट किया था। उन्होंने लिखा था, ‘‘बीजेपी 300 के पास और एनडीए 300 के पार।’’

National Hindi News, 14 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

छात्र के सवाल पर दिया था जवाब: मुसलगांवकर ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि राजनीतिक रूप से वह पूरी तरह तटस्थ हैं। उनके अनुमान का मकसद किसी राजनीतिक पार्टी को फायदा पहुंचाना नहीं था। यह पोस्ट सिर्फ एक छात्र के सवाल पर आधारित थी।

कांग्रेस कार्यकर्ता ने दर्ज कराई थी शिकायत : इस मामले में उज्जैन के रहने वाले एक युवा कांग्रेस कार्यकर्ता ने जिला निर्वाचन अधिकारी को लिखित शिकायत दी थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि एक सरकारी कर्मचारी द्वारा किसी राजनीतिक दल के समर्थन में पोस्ट करना आचार संहिता का उल्लंघन है। साथ ही, मध्य प्रदेश सिविल सर्विसेज के नियमों के तहत यह दंडनीय है।

7 मई को किया गया सस्पेंड : जिला निर्वाचन अधिकारी ने सस्पेंशन की संस्तुति की। साथ ही, इस संबंध में डिविजनल कमिश्नर को पत्र लिखा। 7 मई को मुसलगांवकर को सस्पेंड कर दिया गया और उन्हें दूसरे विभाग से अटैक कर दिया गया।

संस्कृत-वेद-ज्योतिर्विज्ञान के प्रमुख हैं मुसलगांवकर: लेक्चरर मुसलगांवकर (55) संस्कृत-वेद-ज्योतिर्विज्ञान विभाग के प्रमुख हैं। उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि ज्योतिष संभावनाओं का विज्ञान है। उन्होंने यह अनुमान अपने एक छात्र के सवाल पर लगाया था। इसके तहत उन्होंने वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य और विभिन्न राजनीतिक दलों के ग्रहों की स्थिति को देखते हुए आकलन किया था। उन्होंने दावा किया कि एक छात्र ने बिना उनकी जानकारी के उनका फोन इस्तेमाल करके यह आकलन फेसबुक पर पोस्ट कर दिया। जैसे ही किसी ने मुझे इसकी जानकारी दी। मैंने पोस्ट डिलीट कर दिया और इसके लिए माफी भी मांगी।

कोर्ट का करेंगे रुख: मुसलगांवकर का कहना है कि इस मामले में उन्हें उनका पक्ष तक नहीं रखने दिया गया। वह सस्पेंशन ऑर्डर के खिलाफ हाई कोर्ट जाएंगे। वहीं, शिकायत करने वाले बबलू खिंची ने बताया कि मुसलगांवकर ने यह अनुमान 29 अप्रैल को किया था। उस वक्त मध्य प्रदेश में पहले चरण के चुनाव हो रहे थे। वहीं, बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने इस अनुमान को ट्वीट किया, जिससे मतदान प्रभावित किया जा सके। बता दें कि बबलू प्रदेश यूथ कांग्रेस में सचिव हैं।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X