ताज़ा खबर
 

लखनऊ में प्रियंका गांधी: पार्टी महामंत्रियों की तादाद पर कहा- इतने तो यूएन में भी नहीं होते

प्रियंका से मिलने आए एक पदाधिकारी से उन्होंने उसकी बूथ संख्या पूछ दी जिसके बाद वह शख्स बगलें झांकता नजर आया। कुछ देर इधर-उधर करने के बाद पदाधिकारी ने जवाब दिया, जी याद नहीं। इसके बाद प्रियंका ने अगला सवाल किया -पिछला कार्यक्रम क्या किया था?

रोड शो के दौरान प्रियंका गांधी।(फोटो सोर्स- पीटीआई)

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए राजनीतिक पार्टियां तैयारी की कोई भी कसर नहीं छोड़ रही है। कांग्रेस की महासचिव के तौर पर राहुल गांधी की बहन प्रियंका गंधी भी चुनावी समर में कूद गई हैं। प्रियंका गांधी को पूर्वी यूपी का प्रभारी बनाया गया है। लखनऊ पहुंची प्रियंका गांधी एक-एक कदम चतुराई के साथ उठा रही है। पार्टी और चुनाव के प्रति प्रियंका कितनी संजीदा है इसका एक उदाहरण सामने आया जब वह कांग्रेस के पदाधिकारियों संग मुलाकात कर रही थी।

पदाधिकारी से पूछी बूथ संख्या: प्रियंका से मिलने आए एक पदाधिकारी से उन्होंने उसकी बूथ संख्या पूछ दी जिसके बाद वह शख्स बगलें झांकता नजर आया। कुछ देर इधर-उधर करने के बाद पदाधिकारी ने जवाब दिया, जी याद नहीं। इसके बाद प्रियंका ने अगला सवाल किया -पिछला कार्यक्रम क्या किया था? इस पदाधिकारी ने कार्यक्रम का नाम बताया तो प्रियंका ने कार्यक्रम की डिटेल मांग ली। डिटेल देखकर उन्होंने कहा कि यह तो एक साल पहले कार्यक्रम किया था। इसके बाद क्या कार्यक्रम किया। इसपर पदाधिकारी ने कहा कि दिल्ली से जो कार्यक्रम आता है वही करते हैं। इस बाद प्रियंका ने साफ शब्दों में सुनाते हुए उनसे पूछा आपकी कोई जिम्मेदारी नहीं बनती है ?

इतने तो यूएन में नहीं होते: सभा के दौरान प्रियंका ने एक-एक कार्यकर्ता की बात सुनी इस दौरान उन्होंने एक लोकसभा क्षेत्र की मीटिंग के दौरान कहा कि यहां जो भी आता है खुद को प्रदेश महामंत्री बताता है। कितने महामंत्री है? इस पर किसी ने जवाब दिया कि 500 लोगों की कमेटी है। यह सुनकर प्रियंका हैरत में पड़ गईं और बोली इतनी बड़ी कमेटी? इतनी बड़ी कमेटी तो यूएन में भी नहीं होती। इसके बाद उन्होंने अमेठी और रायबरेली की कमेटी छोटी करने की बात कही।

मैं अपना काम करती रहूंगी
ईडी द्वारा लगातार रॉबर्ट वाड्रा से पूछताछ के सवाल पर प्रियंका गांधी ने कहा कि ये चीजें चलती रहेंगी। मैं अपना काम करती रहूंगी। बता दें कांग्रेस उत्तर प्रदेश में अपनी खोई हुई जमीन हासिल करने के लिए पूरी जोरआजामाइश कर रही है। प्रियंका गांधी को जहां 41 सीटों की जिम्मेदारी दी गई है तो वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया को 31 सीटों की जिम्मेदारी मिली है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App