ताज़ा खबर
 

Loksabha Elections 2019: कांग्रेस का ऐलान- नोटबंदी के बाद पांच करोड़ बदल रहे शख्स को वीडियो में पहचानिए, एक लाख रुपये पाइए

Loksabha Elections 2019: सिब्बल ने कहा, ‘‘यह (वीडियो) घटना अहमदाबाद में हुई। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि वीडियो में दिख रहा व्यक्ति भाजपा का करीबी है। वह भाजपा का सदस्य हो सकता है। वह अन्य लोगों के साथ मिलकर (2016 में आठ नवंबर को नोटबंदी के बाद) 31 दिसंबर 2016 के बाद बिना हिसाब वाले हजारों करोड़ों रुपयों के नोट बदलने का गिरोह चला रहा था।’’

Author Published on: April 19, 2019 9:46 PM
कपिल सिब्बल। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः अनिल शर्मा)

Loksabha Elections 2019: कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को कहा कि उनकी पार्टी एक वीडियो में पांच करोड़ रुपये के प्रचलन से बाहर हुए नोटों को बदल रहे व्यक्ति की पहचान करने वाले को एक लाख रुपये का नकद इनाम देगी। अहमदाबाद में संवाददाता सम्मेलन में वीडियो क्लिप चलाते हुए सिब्बल ने दावा किया कि यह वीडियो अहमदाबाद का है और गुजरात में सत्तारूढ भाजपा का मुख्यालय ‘कमलम’ भी इसमें शामिल है।

यहां कथित रूप से पत्रकारों द्वारा बनाए गए और ‘डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट टीएनएन डॉट वर्ल्ड’ वेबसाइट से हासिल इस वीडियो में दाढी वाला एक व्यक्ति पांच करोड़ रुपये मूल्य के प्रचलन से बाहर हुए नोटों को दो दो हजार रुपये के नये नोटों के कुल तीन करोड़ रुपये से बदलते हुए दिखाई दे रहा है।

सिब्बल ने कहा, ‘‘यह (वीडियो) घटना अहमदाबाद में हुई। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि वीडियो में दिख रहा व्यक्ति भाजपा का करीबी है। वह भाजपा का सदस्य हो सकता है। वह अन्य लोगों के साथ मिलकर (2016 में आठ नवंबर को नोटबंदी के बाद) 31 दिसंबर 2016 के बाद बिना हिसाब वाले हजारों करोड़ों रुपयों के नोट बदलने का गिरोह चला रहा था।’’ कांग्रेसी नेता ने दावा किया, ‘‘नोट बदलने की प्रक्रिया में नेता, बैंक अधिकारी, दलाल तथा अन्य शामिल होंगे। नोट बदलने में शामिल लोगों ने 40 प्रतिशत तक दलाली कमाई।’’

उन्होंने कहा कि वीडियो में दिख रहे व्यक्ति की पहचान करने वाले को कांग्रेस पार्टी एक लाख रुपये का नकद इनाम देगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार को वीडियो की जांच की चिंता तक नहीं है। इस वीडियो को सबसे पहले 26 मार्च को संवाददाता सम्मेलन में जारी किया गया था। उस समय, पलटवार करते हुए केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि कांग्रेस असल मुद्दों से भटक गई है और इसलिए वह ‘‘फर्जीवाड़े’’ के भरोसे है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Loksabha Elections 2019: शहीद हेमंत करकरे पर टिप्पणी के लिए साध्वी प्रज्ञा ने मांगी माफी, बयान भी लिया वापस
2 चुनाव के चलते गर्मियों में भी मुर्गियों की खपत में जबर्दस्त इजाफा, 10 फीसदी तक बढ़ी कीमतें
3 Lok Sabha Election 2019: पश्चिम बंगाल में लापता हुआ निर्वाचन अधिकारी, ड्यूटी को लेकर हुआ था झगड़ा
ये पढ़ा क्या?
X