ताज़ा खबर
 

Loksabha Elections 2019: नाथूराम गोडसे के लिए असदुद्दीन ओवैसी बोले- जिसने राष्‍ट्रपिता को मारा, उसको आतंकी ही बोलेंगे

Loksabha Elections 2019: अभिनेता से राजनेता बने कमल हासन ने हाल ही में यह कह कर नया विवाद खड़ा कर दिया था कि 'देश का पहला आतंकवादी हिंदू' था। उन्होंने यह बात बापू के हत्यारे नाथूराम गोडसे के संदर्भ में कही थी। हाल ही में इस पर आई ओवैसी की टिप्पणी को हासन के समर्थन में देखा जा रहा है।

Loksabha Elections 2019: एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी। (एक्सप्रेस अर्काइव फोटोः प्रेम नाथ पांडे)

Loksabha Elections 2019: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी कहा है कि जिस व्यक्ति ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को मारा, उसे आतंकी ही बोला जाएगा। हालांकि, ओवैसी ने इस टिप्पणी के साथ किसी धर्म या फिर समुदाय का जिक्र नहीं किया। मंगलवार (14 मई, 2019) को ओवैसी ने इसी के साथ पूछा कि आखिर बापू के हत्यारे को महान कैसे करार दिया जा सकता है?

ओवैसी ने इस बाबत एक टीवी चैनल पर कहा, “राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को जिसने मारा…जिसने उनके सीने पर गोली चलाई, उसे आप क्या बोलेंगे? महात्मा, राक्षस, आतंकी या फिर कुछ और…जिसने साजिश रची और कपूर आयोग में जिसके बारे में भूमिका साजिशकर्ता के रूप में सामने आई, तो उन्हें महान बोलेंगे या नीच बोलेंगे। उनको आतंकी बोलना पड़ेगा। वह आतंकी ही हैं।”

देखें, इस मसले पर क्या रही ओवैसी की रायः

बता दें कि अभिनेता से राजनेता बने कमल हासन ने रविवार रात यह कह कर नया विवाद खड़ा कर दिया था कि ‘देश का पहला आतंकवादी हिंदू’ था। उन्होंने यह बात बापू के हत्यारे नाथूराम गोडसे के संदर्भ में कही थी, जिस पर ओवैसी की टिप्पणी हासन के समर्थन में देखी जा रही है।

दरअसल, रविवार को तमिलनाडु के अरावाकुरिची में हुई चुनावी जन सभा में मक्कल नीधि मय्यम (एमएनएम) के संस्थापक हासन ने कहा था वह उन गौरवान्वित भारतीयों में से हैं, जो समानता वाले भारत की चाह रखते हैं।

रैली में वह आगे बोले थे, “मैं यहां यह बात इसलिए नहीं कह रहा, क्योंकि यह मुस्लिम बहुल इलाका है। बल्कि मैं यह चीज बापू की प्रतिमा के सामने कह रहा हूं। आजाद भारत का पहला आतंकवादी हिंदू था और उसका नाम नाथूराम गोडसे है। ये (आतंकवाद) वहीं से शुरू हुआ था।”

उधर, मंगलवार को हासन के बयान पर बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय ने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने कोर्ट से मांग की है कि चुनाव आयोग को एमएनएम संस्थापक पर इस बयान के लिए सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X