ताज़ा खबर
 

हरियाणा: ईवीएम स्ट्रॉन्ग रूम परिसर में पहुंचा संदिग्ध ट्रक तो कांग्रेसियों ने मचाया हंगामा, अफसरों ने दी यह सफाई

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सुरक्षाकर्मी बीजेपी की एजेंट की तरह काम कर रहे हैं। बिना परमिशन के स्ट्रॉन्ग रूम परिसर में पहुंचे ट्रक की जांच किए बिना ही उसे वापस भेज दिया गया।

lok sabha election, lok sabha election 2019, election 2019, election 2019, election 2019 news, election live, live news, today live news, election today news, election commission of india, election commission of india up, election commission of india up news, up news, election 2019 live voting, lok sabha election live voiting, lok sabha chunav, lok sabha chunav live news, how to check name in voter listईवीएम मशीन (फाइल फोटो)

Loksabha Election 2019: हरियाणा के फतेहाबाद में ईवीएम स्ट्रॉन्ग रूम परिसर में एक संदिग्ध ट्रक के पहुंचने की वजह से कांग्रसियों ने जमकर हंगामा किया। मामला भोड़िया खेड़ा कॉलेज का है। यहां 12 मई को हुए मतदान के बाद ईवीएम मशीनों को स्ट्रॉन्ग रूम में रखा गया है। इस ट्रक में ईवीएम मशीनें लोड की गई थीं जब कांग्रिसियों को इसकी सूचना मिली तो वह तुंरत वहां पहुंच गए और जमकर हंगामा किया।

बता दें कि कांग्रेस के कार्यकर्ता इस ट्रक का पीछा पहले से ही कर रहे थे। इसके बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर भी वहां पहुंच गए। प्रदेश अध्यक्ष ने कॉलेज परिसर में तैनात सुरक्षाकर्मियों से ट्रक के बारे में जानकारी भी मांगी। हंगामा बढ़ता देख एसपी विजय प्रताप सिंह, उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी धीरेंद्र खड़गता, डीएसपी सुभाष चंद्र सहित चुनाव आयोग के अधिकारी भी वहां पहुंच गए।

इसके बाद कांग्रेस के विरोद को देखते हुए संदिग्ध ट्रक को वहां से भेज दिया गया। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सुरक्षाकर्मी बीजेपी की एजेंट की तरह काम कर रहे हैं। बिना परमिशन के स्ट्रॉन्ग रूम परिसर में पहुंचे ट्रक की जांच किए बिना ही उसे वापस भेज दिया गया। इसके साथ कांग्रेस ने कहा कि डीसी धीरेंद्र खड़गता ने पूरे मामले पर ढीला रवैया अपनाया। ट्रक को ईवीएम बदलने के लिए बुलाया गया था।

वहीं धीरेंद्र खड़गता ने मामले पर कहा है कि ट्रक में खाली संदूकों से भरा हुआ तो। मतगणना के बाद ईवीएम मशीनों को इन संदूकों में भरा जाता। यह ट्रक तहसील द्वारा सहायक निर्वाचन अधिकारी के निर्देश पर भेजा गया था। लेकिन राजनीतिक दलों में किसी भी तरह का असंतोष न फैले इसकी वजह से हमने ट्रक को वापस भेज दिया। और इन सभी परिस्थितियों से कांग्रेस नेताओं को अवगत भी करवा दिया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Election 2019: शत्रुघ्न सिन्हा का खुलासा, कहा- BJP छोड़ने के मेरे फैसले पर रो पड़े थे आडवाणी जी, लेकिन मुझे रोका नहीं
2 भगत सिंह की मूर्ति पर प्रियंका गांधी ने चढ़ाई थी माला तो करवाया शुद्धिकरण!
3 ममता बनर्जी का अमित शाह पर हमला, पूछा- क्या वह भगवान हैं, जो उनके खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता
कृषि कानून विवाद
X