ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Elections 2019: पार्टी सांसद के खिलाफ बीजेपी यूनिट ने खोला मोर्चा? वायरल हुई चिट्ठी तो दी सफाई

Lok Sabha Elections 2019: वायरल चिट्ठी में पलामू जिले के भाजपा अध्यक्ष नरेंद्र कुमार पांडे के हवाले से पत्र में लिखा, 'ऐसा करने के लिए पार्टी हाईकमान की तरफ से कोई निर्देश नहीं दिया गया। सांसद ने ऐसा करने के लिए स्थानीय नेताओं से सलाह भी नहीं ली।'

प्रतीकात्मक फोटो ( फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस )

Lok Sabha Elections 2019: झारखंड में भाजपा की पलामू जिला यूनिट ने राज्य भाजपा अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा को चिट्ठी लिख मौजूदा सांसद वीडी राम को संसदीय क्षेत्र से टिकट नहीं देने की अपील पर विचार करने को कहा है। चिट्टी में लिखा गया कि भाजपा स्टेट चीफ पलामू संसदीय सीट पर जीत सुनिश्चित करने और जिले में संगठन को बचाने के लिए उनके आग्रह पर विचार करें।  वीडी राम झारखंड के पूर्व डीजीपी हैं और साल 2014 के ससंदीय चुनाव में पलामू सीट से जीत हासिल की थी। यह सीट एससी उम्मीदवार के लिए आरक्षित है। खबर के मुताबिक चिट्ठी लिखने से पहले 17 मार्च, 2019 को भाजपा पलामू पदाधिकारियों की बैठक हुई। बैठक में वीडी राम द्वारा पार्टी संगठन की उपेक्षा पर चर्चा की गई, जिसमें पलामू जिला इकाई के पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया।

पलामू जिला भाजपा अध्यक्ष नरेंद्र कुमार द्वारा लिखित और एक दर्जन से अधिक वरिष्ठ पार्टी पदाधिकारियों द्वारा हस्ताक्षर की गई चिट्ठी, जिसमें उपाध्यक्ष और महासचिव शामिल के हस्ताक्षर भी शामिल हैं, बीते सोमवार (18 मार्च, 2019) को सोशल मीडिया में वायरल हो गई। हालांकि जिला भाजपा यूनिट का कहना है कि जो चिट्ठी वायरल हुई वो फर्जी है। पत्र में झारखंड भाजपा हाई कमान को इस बात से भी अवगत कराया गया कि कैसे वीडी राम ने ब्लॉक (मंडल) चीफ और अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं को राजधानी के एक होटल में 13 मार्च को बुलाया। मीटिंग में भाजपा कार्यकर्ताओं और भाजपा नेताओं को उनकी उम्मीदवारी के समर्थन में एक पत्र पर हस्ताक्षर करने को कहा गया। जबकि पार्टी की जिला ईकाई समिति से इस मामले में कोई सलाह नहीं ली गई।

वायरल चिट्ठी में पलामू जिले के भाजपा अध्यक्ष नरेंद्र कुमार पांडे के हवाले से पत्र में लिखा, ‘ऐसा करने के लिए पार्टी हाईकमान की तरफ से कोई निर्देश नहीं दिया गया। सांसद ने ऐसा करने के लिए स्थानीय नेताओं से सलाह भी नहीं ली।’ पांडे ने पत्र में आगे बताया कि मौजूदा सांसद द्वारा खुद की मर्जी से ऐसा करना पूरी तरह से पार्टी संगठन के खिलाफ है और पार्टी संविधान के भी खिलाफ है। पत्र में सांसद के खिलाफ पार्टी के हितों के खिलाफ भी काम करने का आरोप लगाया गया। हालांकि जब स्थानीय मीडिया ने पत्र की पुष्टि के जिला अध्यक्ष से उनका पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया में जो चिट्ठी वायरल हो रही है वो फर्जी है। उन्होंने ऐसा कोई पत्र नहीं लिखा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हमने अपने नाम के आगे चौकीदार लगाया है, तुम भी अपने नाम के आगे पप्पू रख लो, प्रियंका को किसने रोका हैः अनिल विज
2 त्रिपुरा में बीजेपी को बड़ा झटका तो महाराष्‍ट्र में कांग्रेस ने खोया नेता प्रतिपक्ष, उठापटक जारी
3 सूरत सीट के लिए सामने आए बीजेपी में 24 दावेदार, जरदोश बोलीं- मुझे छोड़ किसी महिला को नहीं देना टिकट