ताज़ा खबर
 

गुना में सिंधिया राजघराने का दबदबा खत्म करने वाले केपी यादव बोले- अब तो प्रजातंत्र है शुद्ध

मध्य प्रदेश की गुना लोकसभा सीट से बीजेपी के सांसद केपी यादव ने बताया कि उनकी जीत का मुख्य कारण मोदी लहर थी।

Author Published on: May 29, 2019 1:47 PM
गुना से बीजेपी संसद केपी यादव

Lok Sabha Election 2019: लोकसभा चुनाव 2019 के चुनाव परिणामों में कई दिग्गजों को अपनी परंपरागत सीटें गंवानी पड़ी हैं। इनमें से ही एक सीट मध्य प्रदेश की गुना है, जो सिंधिया राजघराने का गढ़ मानी जाती है। गुना लोकसभा क्षेत्र से जीते बीजेपी सांसद कृष्ण पाल (केपी) यादव कभी पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रतिनिधि हुआ करते थे। लेकिन इस बार उन्होंने यहां से सिंधिया को एक लाख 25 हजार से अधिक मतों से हरा दिया। गुना में अब तक हुए उपचुनाव सहित 20 चुनावों में सिंधिया राजघराने के प्रतिनिधियों को 14 बार जीत मिली थी। केपी यादव ने अपनी जीत के बारे में इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कईं बातें कही।

National Hindi News, 29 May 2019 LIVE Updates: दिन-भर की बड़ी खबरों के लिए क्लिक करें

सवाल- आपको कब लगा कि आप सिंधिया को हरा सकते हैं?

जवाब- विधानसभा चुनाव के तुरंत बाद, भाजपा ने सभी 29 लोकसभा सीटें जीतने की तैयारी शुरू कर दी। फीडबैक एकत्र करने के लिए असेंबली लेवल टीमों का गठन किया गया था ताकि यह पता चल सके कि हमें और क्या करने की जरुरत है। विधानसभा परिणामों ने दिखाया कि हम गुना में 16,000 से अधिक वोटों से आगे थे। हम चुनाव से पहले ही जीत के प्रति आश्वस्त थे।

सिंधिया परिवार का कोई भी व्यक्ति गुना से कभी नहीं हारा था, कैसे चीजें बदल गईं?

जवाब- अब पारंपरिक सीट जैसा कुछ नहीं है। अब तो प्रजातन्त्र है। सोशल मीडिया के माध्यम से भी दूर-दराज के गांवों के लोग भी लोग जानते हैं कि क्षेत्र, देश और दुनिया में क्या हो रहा है।

Loksabha Election 2019 Results live updates: See constituency wise winners list

सवाल- जीत के पीछे की मुख्य वजह क्या थी?

जवाब- लोग चाहते थे कि मोदीजी फिर से प्रधानमंत्री बनें। वे जानते हैं कि उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश के सम्मान और विकास को कैसे बढ़ाया है। मुख्य कारण लहर (मोदी लहर) थी।

सवाल- अपने पूर्व परामर्शदाता को हराने पर कैसा महसूस होता है?

जवाब- मैं चाहूंगा कि लोग मुझे मेरे काम से जानें। जो हुआ सब ठीक है। मैंने अपनी पहचान बनने के लिए कड़ी मेहनत की। व्यक्तिगत कुछ भी नहीं है। सिंधिया ने मुझे बधाई दी है और मैंने भी उन्हें किसी के जरिए धन्यवाद दिया है। मैं जल्द ही उनसे मिलूंगा और उनका मार्गदर्शन लूंगा। वह चार बार सांसद रहे हैं और मुझसे बहुत वरिष्ठ हैं।

सवाल- ऐसी धारणा है कि प्रियदर्शनी सिंधिया ने आपकी उम्मीदवारी को लेकर कहा था कि महाराज के साथ सेल्फी लेने वाला आज बीजेपी का उम्मीदवार है? जिसने आपको आहत किया था।

जवाब- मैं किसी भी व्यक्तिगत चीज़ के बारे में टिप्पणी नहीं करना चाहता। मैं पार्टी और राष्ट्र के लिए काम करूंगा। मैं पुराने मामलों में नहीं जाऊंगा और विकास पर ध्यान दूंगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 INSIDE ANALYSIS: बंगाल में अब ‘बाहरी’ नहीं रही बीजेपी, इन 5 कारणों ने पलट दी बाजी
2 PM मोदी के शपथ ग्रहण में जाने को लेकर ममता बनर्जी पर BJP सांसद का तंज, कहा- भतीजे को बचाने के लिए करेंगी प्रार्थना
3 Lok Sabha Election 2019: नरेंद्र मोदी ने अमित शाह से की मुलाकात, सरकार गठन को दिया गया अंतिम रूप
जस्‍ट नाउ
X