ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: चुनावी गॉसिप : अमित शाह का संदेश लेकर पहुंचे बीजेपी के ‘दूत’, मुरली मनोहर जोशी ने यह कह कर लौटाया

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): लोकसभा चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी का टिकट कट गया है। 2014 के चुनाव में मुरली मनोहर जोशी ने ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए साल वाराणसी सीट छोड़ी थी। चुनाव जीतने के बाद से ही उन्‍हें धीरे-धीरे पार्टी में किनारा किया जाने लगा।

lok sabha, lok sabha election, lok sabha election 2019, lok sabha election 2019 schedule, lok sabha election date, lok sabha election 2019 date, लोकसभा चुनाव, लोकसभा चुनाव 2019, chunav, lok sabha chunav, lok sabha chunav 2019 dates, lok sabha news, election 2019, election 2019 news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindi, Murli Mahohar Joshi, Kanpur, contest, star campaigners listसाल 2014 में कानपुर सीट से जीते थे मुरली मनोहर जोशी। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

Lok Sabha Election 2019: पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी की तरह मुरली मनोहर जोशी भी इस बार चुनावी समर में नहीं दिखेंगे। कानपुर से बीजेपी सांसद मुरली मनोहर जोशी का टिकट कट गया है।

खबर है कि जोशी को इस आशय का संदेश भिजवा दिया गया है। बताया जा रहा है कि पार्टी ने संगठन महासचिव रामलाल ने सोमवार को मुरली मनोहर जोशी के पास ‘दूत’ बनाकर भेजा। रामलाल ने जोशी से मुलाकात कर संदेश दिया कि पार्टी का फैसला है कि इस बार वह चुनाव न लड़ें। वह खुद मुख्‍यालय में जाकर चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा करें।

बताया जाता है कि ‘दूत’ का यह संदेश जोशी को नागवार गुजरा। उन्‍होंने इस तरह की घोषणा करने से साफ इनकार कर दिया। जोशी ने कहा कि पार्टी उन्‍हें चुनाव लड़ाना नहीं चाहती है तो कम से कम अध्‍यक्ष अमित शाह खुद इसकी जानकारी देते।

इसके बाद सोशल मीडिया पर एक पन्‍ना भी शेयर हो रहा है। इस पर तीन लाइनें लिखी हुई हैं और नीचे ‘मुरली मनोहर जोशी’ टाइप किया हुआ है। इसमें कानपुर के मतदाताओं को संबोधित करते हुए बताया गया है कि भाजपा महासचिव रामलाल ने मुझे यह बताया कि मुझे कानपुर या कहीं और से संसदीय चुनाव नहीं लड़ना चाहिए।

2014 के चुनाव में मुरली मनोहर जोशी ने ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए साल वाराणसी सीट छोड़ी थी। चुनाव जीतने के बाद से ही उन्‍हें धीरे-धीरे पार्टी में किनारा किया जाने लगा। बताया जाता है कि इस बार पार्टी ज्‍यादा उम्रदराज नेताओं को टिकट नहीं दे रही है।

 

इसी के तहत लालकृष्‍ण आडवाणी का भी टिकट काटा गया। अटकल ऐसी भी है कि आडवाणी को भी पार्टी की ओर से संदेश गया था कि वह खुद चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा कर दें, लेकिन उन्‍होंने भी ऐसा करने से इनकार कर दिया।

पार्टी ने अपने वरिष्ठ नेताओं शांता कुमार और करिया मुंडा को फोन कर चुनाव नहीं लड़ने संबंधी पार्टी के फैसले की सूचना दी थी। इन नेताओं से कहा गया था कि ये लोग इस बात की घोषणा करें कि वे चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं। इसके बाद शांता कुमार, करिया मुंडा और कलराज मिश्र ने चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की थी।

भाजपा ने उत्तर प्रदेश के लिए स्टार प्रचारकों की जो सूची जारी की है, उसमें भी चुनाव से बाहर रखे गए किसी बुजुर्ग नेता का नाम नहीं है। सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, अरुण जेटली, सुषमा स्वराज और उमा भारती का नाम शामिल है। इससे पहले भाजपा ने यह निर्णय लिया था कि 75 साल से अधिक के उम्मीदवार चुनाव नहीं लड़ेंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 2019 Lok Sabha Election : उमा भारती ने मायावती को याद दिलाया गेस्ट हाउस कांड, कहा- सपा हमला करे तो मुझे याद करना
ये पढ़ा क्या?
X