ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election/Chunav Results 2019: अखिलेश को महंगा पड़ा महागठबंधन! परिवार 2 सीटों पर सिमटी, शून्य से 10 पर पहुंचीं मायावती, आरएलडी का सूपड़ा साफ

Lok Sabha Election/Chunav Results 2019: गठबंधन के तहत सपा ने 37, बसपा ने 38 जबकि रालोद ने 3 सीटों पर चुनाव लड़ा था। गठबंधन का मकसद यह था कि तीनों पार्टियों का कोर वोटर एकजुट होकर प्रत्याशियों को वोट देगा। हालांकि, ऐसा होता नजर नहीं आया।

Author May 25, 2019 2:20 PM
चुनावी रैली के दौरान अखिलेश यादव, मायावती और चौधरी अजित सिंह। (Photo: PTI)

Lok Sabha Election/Chunav Results 2019: पीएम नरेंद्र मोदी के प्रचंड लहर पर सवार होकर भारतीय जनता पार्टी लगातार दूसरी बार केंद्र में सरकार बनाने जा रही है। शाह की रणनीति और मोदी का क्रेज सभी विपक्षी दलों पर भारी पड़ गया। उत्तर प्रदेश में कयास लगाए जा रहे थे कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का गठबंधन बीजेपी को तगड़ी चोट पहुंचा सकता है। हालांकि, यह सोच गलत साबित हुई।

सपा, बसपा और रालोद ने मिलकर जो महागठबंधन बनाया था, वह बेअसर रहा। सपा और नुकसान करा बैठी, रालोद का सूपड़ा साफ हो गया, जबकि सबसे ज्यादा फायदा मायावती की पार्टी को हुआ। बता दें कि 2018 के उप चुनाव में कैराना, गोरखपुर और फूलपुर के नतीजों ने इस उम्मीदों को हवा दी कि सपा और बसपा का गठबंधन मोदी लहर को रोक सकता है। हालांकि, ऐसा न हो सका और सपा व बसपा मिलकर महज 15 सीटें ही जीत पाईं।

Election Results 2019 LIVE Updates: यहां देखें नतीजे

2014 आम चुनाव में गनीमत रही कि समाजवादी पार्टी प्रमुख के परिवार के सदस्य अपनी सीटें बचाने में कामयाब हुए थे और 5 सीटें जीती थीं। हालांकि, इस बार अखिलेश की पत्नी डिंपल और उनके भाई धर्मेंद्र और अक्षय भी हार गए। इस बार परिवार में सिर्फ सपा प्रमुख अखिलेश और संरक्षक मुलायम सिंह यादव ही अपनी सीट बचा पाए। आखिरी नतीजे आने के बाद सपा को कुल 5 सीटें मिली हैं। रालोद की बात करें तो पार्टी चीफ अजीत सिंह को लगातार दूसरी बार हार का सामना करना पड़ा। उन्हें बीजेपी के संजीव बालियान ने शिकस्त दी।

Loksabha Election 2019 Results live updates: See constituency wise winners list

अजीत सिंह के बेटे जयंत चौधरी भी बागपत से चुनाव हार गए। आरएलडी मथुरा सीट पर भी हार गई। हालांकि, सबसे ज्यादा फायदा मायावती को हुआ। बीएसपी को 10 सीटें मिली हैं। यह वही बीएसपी है, जिसे 2014 में शून्य सीटें मिली थीं। ऐसे में यह संकेत मिलते हैं कि सपा का वोट बसपा को तो ट्रांसफर हुआ लेकिन बीएसपी किसी तरह भी सपा के लिए मददगार साबित नहीं हुई।

बता दें कि गठबंधन के तहत सपा ने 37, बसपा ने 38 जबकि रालोद ने 3 सीटों पर चुनाव लड़ा था। गठबंधन का मकसद यह था कि तीनों पार्टियों का कोर वोटर एकजुट होकर प्रत्याशियों को वोट देगा। हालांकि, ऐसा होता नजर नहीं आया। सपा का 2014 में यूपी में वोट शेयर 22.35 प्रतिशत था। गुरुवार शाम तक की काउंटिंग के हिसाब से उन्हें इस बार 17.97 प्रतिशत ही वोट मिले। वहीं, बसपा को 2014 में 19.77 प्रतिशत वोट मिले थे। गुरुवार शाम तक के आंकड़ों के मुताबिक, इस बार भी मायावती की पार्टी को 19.28 फीसदी वोट मिले हैं। बीजेपी की बात करें तो भले ही 2014 के मुकाबले पार्टी को सीटों का नुकसान हुआ, लेकिन उसका वोट शेयर बढ़ा है। बीजेपी को 2014 में यूपी में 42.63 प्रतिशत वोट मिले थे। इस बार पार्टी को 49.5 फीसदी मत हासिल हुआ।

Follow live coverage on election result 2019. Check your constituency live result here.

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X