ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: योगी बोले- नामदारों के कुलदीपक कहते हैं डेढ़ फीट के आलू उगवा देंगे, प्रियंका को भी दिया जवाब

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): उत्तर प्रदेश की सियासत में गन्ना किसानों के भुगतान का मसला फिर गर्मा गया है। प्रियंका गांधी के वार पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने पलटवार किया है।

सहारनपुर में योगी आदित्यनाथ (फोटोः एएनआई)

Lok Sabha Election 2019 से बीच गन्ना किसानों का मसला उत्तर प्रदेश में एक बार फिर चरम पर है। दरसअल कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी सरकार पर गन्ना किसानों के बकाया पैसे का भुगतान नहीं करने का भी आरोप लगाया है। कांग्रेस के इस वार पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पलटवार किया है। योगी ने नामदार शब्द का इस्तेमला करते हुए जमकर तंज भी कसे। योगी ने पहले ट्विटर पर और फिर सहारनपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी सरकार अब तक 57 हजार करोड़ से ज्यादा का भुगतान कर चुकी है।

फिर उठा आलू का मुद्दाः सहारनपुर में योगी ने कहा, ‘मैं नामदारों के कुलदीपक की एक बात को सुन रहा था, वो कह रहे थे कि गन्ने के पेड़ नहीं लगाए। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार आएगी तो डेढ़ फीट के आलू उगवा देगी। जैसे आम का फल आता है उन्हें लगता है आलू का भी फल आता होगा।’

ये था प्रियंका का वारः प्रियंका ने कहा, ‘गन्ना किसानों के परिवार दिनरात मेहनत करते हैं। लेकिन यूपी सरकार उनके भुगतान का भी जिम्मा नहीं लेती। किसानों का 10 हजार करोड़ बकाया होने का मतलब उनके बच्चों की शिक्षा, भोजन, स्वास्थ्य और अगली फसल सब-कुछ ठप हो जाता है। यह चौकीदार सिर्फ अमीरों की ड्यूटी करते हैं, गरीबों की इन्हें परवाह नहीं।’

National Hindi News Today Live: दिनभर की बड़ी खबरें यहां पढ़ें

योगी का पलटवारः सीएम ने कहा, ‘किसानों के ये तथाकथित हितैषी तब कहां थे जब 2012 से 2017 तक किसान भुखमरी की कगार पर था। इनकी नींद अब क्यों खुली है? प्रदेश का गन्ना क्षेत्रफल अब 22 फीसदी बढ़कर 28 लाख हेक्टेयर हुआ है। बंद पड़ी कई चीनी मिलों को भी दोबारा शुरू किया गया है। किसान अब खुशहाल हैं।’

 

उन्होंने कहा, ‘हमारी सरकार जब से सत्ता में आई है हमने अटके पड़े 57,800 करोड़ रुपए का भुगतान किया है। ये रकम कई राज्यों के बजट से भी ज्यादा है। पिछली सपा-बसपा सरकारों ने गन्ना किसानों के लिए कुछ नहीं किया जिससे किसान भुखमरी का शिकार हो रहा था।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App