ताज़ा खबर
 

BJP नेताओं पर भड़क उठे योगी सरकार में मंत्री राजभर, मंच से दे डाली मां की गाली, VIDEO वायरल

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री ओमप्रकाश राजभर एक बार फिर से बीजेपी को लेकर दिए गए अपने बयान के कारण विवादों में आ गए हैं। इस बार उन्होंने भरे मंच से बीजेपी नेताओं को मां की गाली दे डाली।

Loksabha Elections 2019: सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर। (एक्सप्रेस अर्काइव फोटोः विशाल श्रीवास्तव)

Lok Sabha Election 2019: उत्तर प्रदेश (घोसी लोकसभा) अपने बयानों के चलते सुर्खियों में रहने वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के प्रमुख और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने एक बार फिर से विवादित बयान दिया है। इस बार उन्होंने बीजेपी नेताओं पर जुबानी हमला करते हुए अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया है, जिसका विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। बता दें कि राजभर वीडियो में बीजेपी नेताओं को गाली देते और जूतों से मारने की बात कहते हुए नजर आ रहे हैं। मामले में बीजेपी कार्यकर्ता अनूप सिंह चंदन ने राजभर के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

दरअसल, ओमप्रकाश राजभर घोसी लोकसभा क्षेत्र के रतनपुरा में एक जनसभा को संबोधित करने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने भरे मंच से कहा कि अभी एक चर्चा बड़ी तेजी से बीजेपी के लोग फैला रहे हैं कि हम लोगों का (बीजेपी और एसबीएसपी का) गठबंधन है और महेंद्र (लोकसभा चुनाव) नहीं लड़ रहे हैं। इसके बाद उन्होंने सभा में उपस्थित लोगों से पूछा  कि यहां जितने लोग हैं बताओ कि महेंद्र चुनाव लड़ रहे हैं या नहीं? जिसके बाद भीड़ ‘लड़ रहे हैं’ कहकर जवाब देती है। लेकिन इस दौरान अचानक राजभर उग्र हो हो जाते हैं और कहते हैं,  ‘अगर बीजेपी का नेता यह बोलते हुए मिल जाए तो जूता निकालकर उसको दस जूता मारो कि तुम नहीं लड़ रहे हो।’ इसके बाद राजभर ने बीजेपी नेताओं को मंच से ही मां की गाली भी दी।

बीजेपी नेताओं को मंच से गाली देने के बाद ओमप्रकाश राजभर ने कहा, ‘गाली निकलती है जुबान से, इन बेईमानों को शर्म नहीं आती है।’ बता दें कि राजभर का आरोप है कि बीजेपी नेता प्रचार के दौरान कह रहे हैं कि एसबीएसपी और बीजेपी का गठबंधन है और राजभर की पार्टी का प्रत्याशी चुनाव ही नहीं लड़ रहा है। गौरतलब है कि राजभर ने हाल ही में प्रदेश सरकार में मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसे अभी तक स्वीकार नहीं किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App