ताज़ा खबर
 

जानिए, चुनाव जीतने के लिए क्‍या-क्‍या कर रहे हैं नरेंद्र मोदी- सुबह अरुणाचल तो शाम 2300 किमी दूर महाराष्‍ट्र में पीएम

Lok Sabha Election 2019: फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, गूगलप्लस, शेयरइट, इन्स्टाग्राम, व्हाटसअप, यूट्यूब जैसे प्लेटफॉर्म पर भी भाजपा जबर्दस्त तरीके से प्रचार प्रसार कर रही है। इसके लिए केंद्र से लेकर राज्य स्तर पर वॉर रूम बनाए गए हैं।

Author Updated: April 4, 2019 4:26 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महाराष्ट्र के वर्धा में जनसभा को संबोधित किया। (फाइल फोटोःपीटीआई)

Lok Sabha Election 2019 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए नाक की लड़ाई बन चुका है। लिहाजा, चुनाव जीतने के लिए वो न केवल एक दिन में तीन-चार रैलियों को संबोधित कर रहे हैं बल्कि उनकी पार्टी विभिन्न राज्यों में छोटे-छोटे दलों से गठबंधन कर रही है। चूंकि पीएम मोदी ही भाजपा के सबसे बड़े स्टार प्रचारक हैं, इसलिए उनकी बातों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए ‘नमो टीवी’ भी लॉन्च किया गया है। इमके अलावा सोशल मीडिया पर ‘नमो अगेन’ का कैम्पेन भी चलाया जा रहा है। पीएम मोदी के भाषण और रैलियों का संबोधन सोशल मीडिया के लगभग सभी प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कराए गए हैं, ताकि लोग उन्हें सुन व देख सकें। इनके अलावा पीएम बूथ लेवल के कार्यकर्ताओं से संवाद कर चुके हैं। पिछले दिनों पीएम दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में मैं भी चौकीदार कैम्पेन की शुरुआत करते हुए देशभर के चौकीदारों से संवाद कर चुके हैं।

एक दिन में सुदूर पूर्व से पश्चिम तक चार रैली: बुधवार को पीएम मोदी ने चार रैलियों को संबोधित किया। पहली रैली उन्होंने सुदूर पूर्वोत्तर के अरुणाचल प्रदेश के पासीघाट में की। उन्हें सुनने के लिए बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा हुए थे। खराब मौसम के बावजूद लोग हाथों में छाता थामे पीएम को सुनने आए थे। इसके बाद उन्होंने सिलीगुड़ी में जनसभा को संबोधित किया। ममता बनर्जी के गढ़ में भी पीएम ने तीसरी रैली को संबोधित की। कोलकाता के परेड ग्राउंड में रैली करने के बाद पीएम ने करीब 2300 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र के वर्धा में देर शाम चुनावी सभा को संबोधित किया। इन रैलियों में पीएम ने कांग्रेस के साथ-साथ तृणमूल कांग्रेस और एनसीपी पर भी निशाना साधा।

एक करोड़ लोगों ने डाउनलोड किए नमो एप: भाजपा अकेली ऐसी पार्टी है जो चुनाव प्रचार के लिए अधिकांश माध्यमों का इतने बड़े पैमाने पर इस्तेमाल कर रही है। लिहाजा, पीएम मोदी का डिजिटल दुनिया में भी काफी प्रभाव है। ‘नमो एप’ के जरिए भी पीएम लोगों तक अपनी पकड़ बना चुके हैं। इसी एप के नाम पर 31 मार्च को नमो टीवी लॉन्च किया गया। भाजपा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस चैनल की लॉन्चिंग के बारे में बताया गया। इस चैनल पर पीएम की लाइव रैलियों को प्रमुखता से दिखाया जा रहा है। पिछले रविवार (31 मार्च) को जब पीएम नरेंद्र मोदी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में ‘मैं भी चौकीदार’ कैम्पेन के तहत देश भर से जुटे सिक्योरिटी गार्ड्स को संबोधित कर रहे थे, तब उनके लाइव प्रसारण को करीब एक करोड़ लोगों ने देखा है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स से बातचीत में भाजपा नेता विज चौथाइविले ने इसका दावा किया है।

नमो टीवी पर संग्राम, आयोग से गुहार: विपक्षी दलों ने नमो टीवी के बारे में चुनाव आयोग से शिकायत की है। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने भाजपा के खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत दर्ज कराई है और पूछा है कि क्या किसी भी पॉलिटिकल पार्टी को चुनाव के वक्त अपना टीवी चैनल लॉन्च करने की इजाजत है? विपक्षी दलों ने पूछा है कि क्या नमो टीवी चैनल लॉन्च से पहले कानूनी नियमों का पालन किया गया है और इसके संचालन में आने वाला खर्च कौन वहन कर रहा है? भाजपा की तरफ से दावा किया गया है कि करीब 10 करोड़ लोगों ने नरेंद्र मोबाइल एप डाउनलोड किया है।

सोशल मीडिया वॉरियर्स की टीम: फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, शेयरइट, इन्स्टाग्राम, व्हाटसअप, यूट्यूब जैसे प्लेटफॉर्म पर भी भाजपा जबर्दस्त तरीके से प्रचार प्रसार कर रही है। इसके लिए केंद्र से लेकर राज्य स्तर पर वॉर रूम बनाए गए हैं। मल्टीमीडिया प्रोड्यूसर्स और आईटी प्रोफेशनल्स की मदद से भाजपा पांच साल के नरेंद्र मोदी के कामकाज का ब्यौरा सोशल मीडिया पर परोस रही है। इसके अलावा कांग्रेस के दावों की काट और आक्रामक अंदाज में इन्फोग्राफिक्स भी इन सोशल मीडिया पर तेजी से प्रसारित किए जा रहे हैं। इनके अलावा भाजपा ट्विटर पर हैशटैग अभियान के जरिए चौपाल भी लगा रही है, जिससे सीधे तौर पर यूजर्स पार्टी नेता से जुड़ते हैं।

बुक कर लिए उड़नखटोले: भाजपा ने पीएम, पार्टी अध्यक्ष से लेकर तमाम केंद्रीय मंत्रियों और संगठन के लोगों की चुनावी टोली बनाई है जो अलग-अलग इलाकों में चुनाव प्रसार कर रहे हैं। पार्टी तीन-चार महीने पहले ही राज्यों के प्रभारी बदल चुकी है और उनके सहारे राज्यों में नई टीम गठित कर चुकी है। भाजपा ने चुनावी मौसम में उड़खटोलों का भी विशेष इंतजाम किया है। पार्टी ने जनवरी में ही अधिकांश हेलिकॉप्टर्स की बुकिंग करा ली थी। कांग्रेस ने इसकी भी शिकायत की है कि उन्हं किराए पर हेलिकॉप्टर्स नहीं मिल रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 योगी के बयान पर वीके सिंह का जवाब- इंडियन आर्मी को ‘मोदी सेना’ कहना देशद्रोह, दिग्विजय बोले- थैंक्यू
2 Azamgarh: क्या अखिलेश यादव से टक्कर ले पाएंगे निरहुआ? अभी बनारस में कर रहे हैं शूटिंग
3 Lok Sabha Election 2019: NaMo TV को टाटा स्काई ने पहले बताया न्यूज चैनल, सीईओ बोले-इंटरनेट बेस्ड सर्विस
जस्‍ट नाउ
X