ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: 800 से ज्यादा थिएटर कलाकारों की अपील- बांटने वालों को न दें वोट

Lok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): बयान में आगे थिएटर कलाकारों ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार पर असहमति के स्वरों को दबाने और नफरत व हिंसा के माहौल को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए जुबानी हमला भी बोला।

जाने-माने रेत कलाकार ने ओडिशा के तट पर सात अप्रैल को यह कृति बनाकर मतदान के प्रति जागरूक किया। (फोटोः पीटीआई)

Lok Sabha Election 2019: आम चुनाव से ऐन पहले देश भर के 800 से ज्यादा थिएटर कलाकारों ने मतदाताओं से खास अपील की है। संयुक्त बयान जारी कर उन्होंने कहा है कि लोग बांटने वाली राजनीति करने वालों को कतई वोट नहीं दें। ‘आर्टिस्ट यूनाइट इंडिया’ वेबसाइट पर जारी बयान में इन कलाकारों ने कहा है कि आगामी लोकसभा चुनाव आजाद भारत के इतिहास में सबसे अहम है। साझा बयान 11 अन्य भाषाओं में भी जारी किया गया है।

कलाकारों ने इसके जरिए कहा, “आज, भारत के विचार समस्याओं से घिर हैं। गीत, नृत्य और हास्य जैसी चीजें भी इसी से जूझ रही हैं। हमारा प्रिय संविधान भी संकट में है। हमारी संस्थाओं को तर्क, बहस और असमति को बढ़ावा देना होगा, जिन्हें दबाया जा रहा है। सवाल करना, झूठ के खिलाफ आवाज उठाना व सच बोलने पर अब लोगों को राष्ट्र-विरोधी बता दिया जाता है। नफरत के बीज हमारे खाने, प्रार्थना और त्यौहारों में भी पड़ चुके हैं। हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में जिस तरीके से नफरत घुली है, उसे रोका जाना बेहद जरूरी है।”

बयान में आगे थिएटर कलाकारों ने मोदी सरकार पर असहमति के स्वरों को दबाने और नफरत-हिंसा के माहौल को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए जुबानी हमला भी बोला। कहा, “लोकतंत्र को समाज के सबसे कमजोर व्यक्ति को भी मजबूत बनाना चाहिए। लोकतंत्र बगैर सवालों, बहस और मुखर विपक्ष के नहीं चल सकता। लेकिन इन सभी चीजों को मोदी सरकार द्वारा दबाया और दरकिनार किया जा रहा है। पांच सालों पहले सत्ता में आई बीजेपी ने विकास का वादा किया था, पर उसने हिंदुत्व के गुडों को खुली छूट दे दी है, ताकि वे राजनीति में नफरत और हिंसा फैला सकें।”

मतदाताओं को इस बाबत जागरूक करने वाले कलाकारों के साथ 100 विजुअल आर्टिस्ट्स ने भी कुछ ऐसा ही बयान जारी किया है। उन लोगों ने भी अपने बयान में वोटरों को सोच-समझ कर मतदान करने की अपील की। इन विजुअल आर्टिस्ट्स में मनु पारेख, ओर्जित सेन, गिगी स्कारिया, रणबीर कालेका, अरुण कुमार एचजी शामिल हैं, जबकि आर्ट राइटर्स में जॉनी एमएल व जॉर्जिना मैडॉक्स के नाम हैं। इससे पहले, तकरीबन 200 लेखकों के समूह ने नफरत की राजनीति करने वालों के खिलाफ वोट करने की अपील की थी। उन लेखकों में अमिताव घोष और नयनतारा सहगल सरीखे नाम हैं।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Next Stories
1 Chhattisgarh: दंतेवाड़ा में बीजेपी के काफिले पर नक्सलियों का हमला, विधायक भीमा मंडावी समेत 5 की मौत
2 बिना लालू बिहार की चुनावी फिजा, गंवई बोली और ठेठ देसी अंदाज को लोग कर रहे याद
3 Poll Of Opinion Polls: BJP-NDA को हो रहा भारी नुकसान, लेकिन बनेगी मोदी की ही सरकार
ये पढ़ा क्या?
X